अपना शहर चुनें

States

देश में जल्द आ सकती है डिजिटल करेंसी, RBI कर रहा विचार

भारतीय रिज़र्व बैंक
भारतीय रिज़र्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) देश में अपनी डिजिटल करेंसी (आभासी मुद्रा) लाने पर विचार कर रहा है. यह करेंसी का इलेक्ट्रॉनिक रूप है जिसे कैश में कंवर्ट या एक्सचेंज किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2021, 3:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) देश में अपनी डिजिटल करेंसी (Digital Currency, आभासी मुद्रा) लाने पर विचार कर रहा है. आरबीआई ने कहा कि भुगतान उद्योग के तेजी से बदलते परिदृश्य, निजी डिजिटल टोकनों के आने और कागज के नोट या सिक्कों के प्रबंधन से जुड़े खर्च बढ़ने के मद्देनजर दुनिया भर में कई केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) लाने पर विचार कर रहे हैं. केंद्रीय बैंक की डिजिटल करेंसी की संभावनाओं के अध्ययन और इनके लिए दिशा-निर्देश तय करने के लिए आरबीआई ने एक अंतर-विभागीय समिति भी बनायी है.

ये भी पढ़ें: पति के एक सपने ने महिला को बनाया करोड़पति, लगा 340 करोड़ रुपये का बंपर जैकपॉट

उन्होंने कहा कि बिटक्वाइन जैसी डिजिटल मुद्राओं की रीढ़ ब्लाकचेन या वितरित लेजर प्रौद्योगिकी है. उनका व्यापक अर्थव्यवस्था के लिए काफी महत्व है और हमें इसे अपनाने की जरूरत है. हमारा यह भी मानना है कि अर्थव्यवस्था के लाभ के लिए उसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.



क्या है CBDC
CBDC एक लीगल करेंसी है तथा डिजिटल रूप में सेंट्रल बैंक की लाइबिलिटी है जो सॉवरेन करेंसी के रूप में उपलब्ध है. यह बैंक की बैलेंसशीट में दर्ज है. यह करेंसी का इलेक्ट्रॉनिक रूप है जिसे आरबीआई द्वारा जारी कैश में कंवर्ट या एक्सचेंज किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: टॉप 5 इनोवेशन जिसने बदल दी ऑटोमोटिव इंडस्ट्री की दुनिया...

ये होंगे फायदे
सूत्रों के अनुसार अगर डिजिटल करेंसी चलन में आती है तो मनी ट्रांजैक्शन और लेन-देन के तरीके बदल सकते हैं. इससे ब्लैक मनी पर अंकुश लगेगा. समिति का कहना है कि डिजिटल करेंसी से मॉनिटरी पॉलिसी का पालन आसान होगा. इसमें डिजिटल लेजर टेक्नॉलजी (डीएलटी) का इस्तेमाल होना चाहिए. डीएलटी से विदेश में लेन-देन का पता लगाना आसान होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज