इंडिया रेटिंग्स ने दूसरी छमाही के लिए NBFC, HFC का आउटलुक निगेटिव रखा

गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए मौजूदा महामारी ने समस्या और भी बढ़ी दी है.
गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए मौजूदा महामारी ने समस्या और भी बढ़ी दी है.

इंडिया रेटिंग्स (Indian Ratings) ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए भी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFCs) और आवास वित्त कंपनियों (HFCs) के परिदृश्य को निगेटिव ही रखा है. इसके पहले सालाना आधार पर करीब 10 फीसदी तक वृद्धि का अनुमान था.

  • भाषा
  • Last Updated: September 24, 2020, 7:32 PM IST
  • Share this:
मुंबई. घरेलू रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च (Indian Ratings & Research) ने 2020-21 की दूसरी छमाही के लिए गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFCs) तथा आवास वित्त कंपनियों (HFCs) के नकारात्मक परिदृश्य को कायम रखा है. रेटिंग एजेंसी ने गुरुवार को कहा कि एनबीएफसी के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियों की वृद्धि स्थिर रहेगी. पहले उसने सालाना आधार पर इसमें 8-10 फीसदी की वृद्धि का अनुमान लगाया था. इसी तरह एचएफसी की संपत्तियों की वृद्धि दर निचले स्तर पर एक अंक में रहेगी.

महामारी ने बढ़ाई मुश्किलें
इंडिया रेटिंग्स ने कहा, ‘‘कोविड-19 से संबंधित कारोबारी अड़चनों के मद्देनजर हमने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी, खुदरा एवं थोक) तथा आवास वित्त कंपनियों के लिए चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के परिदृश्य को नकारात्मक पर बरकरार रखा है.’’ इंडिया रेटिंग्स का मानना है कि देशभर में कोरोना वायरस महामारी के संक्रमण के प्रसार के मद्देनजर एनबीएफसी के परिचालन को सामान्य होने में लंबा समय लगेगा.

यह भी पढ़ें: सोने और शेयर बाजार के बाद अब आई भारतीय रुपये में गिरावट, बढ़ेंगी आम आदमी की मुश्किलें
प्रभावित होगा कुल मुनाफा


रेटिंग एजेंसी ने कहा कि बेहतर रेटिंग वाली इकाइयों के लिए जुलाई के बाद तरलता और वित्तपोषण के वातावरण में सुधार हुआ है, लेकिन 2020-21 तथा आगे संपत्ति की गुणवत्ता के मुद्दे की वजह से कुल मुनाफा प्रभावित होगा.

एजेंसी ने कहा कि एनबीएफसी इस समय वसूली पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं और उन्होंने ऋण प्रदान करने के नियमों को सख्त किया है. इससे पोर्टफोलियो की वृद्धि अभी पीछे चली गई है.

यह भी पढ़ें: PMFBY: इसलिए किसानों की जगह कंपनियों को मिल रहा पीएम फसल बीमा योजना का लाभ

इंडिया रेटिंग्स के अनुसार, एनबीएफसी के लिए प्रबंधन के तहत कुल परिसंपत्तियों में पुनर्गठित कर्ज का अनुपात एक अंक में ऊंचा रह सकता है. वाणिज्यिक वाहन ऋण, रीयल एस्टेट ऋण और लघु एवं मझोले उद्यमों को बड़ा कर्ज दबाव रहेगा. एजेंसी ने वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए संपत्ति वर्ग के रूप में वाणिज्यिक वाहन के परिदृश्य को नकारात्मक रखा है. हालांकि, ट्रैक्टर ऋण पर परिदृश्य को दूसरी छमाही के लिए नकारात्मक से स्थिर कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज