Home /News /business /

India Ratings को अंदेशा, RBI के स्पष्टीकरण से बढ़ सकते हैं एनबीएफसी के फंसे कर्ज

India Ratings को अंदेशा, RBI के स्पष्टीकरण से बढ़ सकते हैं एनबीएफसी के फंसे कर्ज

भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक

घरेलू रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च (India Ratings and Research) ने अपनी एक रिपोर्ट में आशंका जताई है कि एनपीए (NPA) पर आरबीआई (RBI) के हाल में आए स्पष्टीकरण से एनबीएफसी के फंसे कर्ज में करीब एक-तिहाई की बढ़ोतरी हो सकती है.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई. नॉन-परफॉर्मिंग एसेट यानी एनपीए (NPA) के बारे में आए भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई (RBI) के स्पष्टीकरण से नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (NBFC) के फंसे हुए कर्जे (NPA) एक-तिहाई तक बढ़ सकते हैं. घरेलू रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च (India Ratings and Research) ने शुक्रवार को जारी अपनी एक रिपोर्ट में यह आशंका जताई है. उसका कहना है कि एनपीए पर आरबीआई के हाल में आए स्पष्टीकरण से एनबीएफसी के फंसे कर्ज में करीब एक-तिहाई की बढ़ोतरी हो सकती है.

    आरबीआई ने पिछले महीने बैंकों, एनबीएफसी और अखिल भारतीय वित्तीय संस्थानों के लिए आय पहचान परिसंपत्ति वर्गीकरण एवं प्रावधान यानी आईआरएसी (Income Recognition Asset Classification and Provisioning) के मानकों पर स्थिति साफ की थी.

    ये भी पढ़ें- Fixed Deposit News: ICICI बैंक ने FD की ब्याज दरों में किया बदलाव, यहां चेक करें नए रेट्स

    इस स्पष्टीकरण में आरबीआई ने कहा था कि विशेष उल्लेख खाता यानी एसएमए (Special Mention Account) और एनपीए का वर्गीकरण दैनिक स्थिति के आधार पर किया जाए और सभी लंबित बकाए का भुगतान करने के बाद ही एनपीए को मानक कैटेगरी में डाला जा सकता है.

    हालांकि इंडिया रेटिंग्स का मानना है कि एनपीए के लिए वित्तीय प्रावधान करने का मध्यम असर पड़ सकता है. इसके बावजूद यह आईआरएसी जरूरतों से कहीं अधिक परंपरागत व्यवस्था है. रिपोर्ट के मुताबिक आरबीआई का सर्कुलर अकाउंट्स की दैनिक पुष्टि की भी बात करता है ताकि यह पता चल सके कि कोई कर्ज कितने दिनों तक बकाया रहा है. रेटिंग एजेंसी का कहना है कि इस व्यवस्था से भी अकाउंट्स के लिए एनपीए की पुष्टि की दर तेज हो सकती है.

    ये भी पढ़ें- HDFC Bank ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! FD पर ब्याज दरों में किया इजाफा, जानें क्या हैं नए रेट्स

    एनबीएफसी से कर्ज लेने वाले अमूमन अपनी लंबित देनदारी का भुगतान कुछ दिनों के विलंब से करते हैं. लेकिन नई व्यवस्था में कुछ दिनों की भी देरी होने पर उनका खाता एनपीए के रूप में सूचीबद्ध किया जा सकता है. इंडिया रेटिंग्स का मानना है कि ऐसा होने पर एनबीएफसी के एनपीए आंकड़े बढ़ जाएंगे.

    Tags: Bank NPA, NBFCs, NPA, RBI

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर