इकोनॉमी के मोर्चे पर सरकार को राहत, अप्रैल में 134 फीसदी बढ़ी IIP की ग्रोथ

फोटो क्रेडिट- एपी

फोटो क्रेडिट- एपी

केंद्र सरकार ने 11 जून को इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन इंडेक्स (Index of Industrial Production) के आंकड़े जारी किए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. इकोनॉमी के मोर्चे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के लिए एक बड़ी राहत की खबर आई है. दरअसल, इस साल अप्रैल में आईआईपी यानी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (Index of Industrial Production) की ग्रोथ 134 फीसदी रही. पिछले साल अप्रैल के बेहद कम बेस इफेक्ट के कारण साल दर साल आधार पर ग्रोथ रेट इतनी ज्यादा रही है.

इस साल मार्च में आईआईपी की ग्रोथ रेट 22.4 फीसदी थी. पिछले साल अप्रैल में पूरा देश लॉकडाउन में था और फैक्टरियों में कामकाज पूरी तरह से ठप था. जिसकी वजह से ग्रोथ रेट बहुत कम रहा. वही बेस रेट होने के कारण अप्रैल में ग्रोथ रेट ज्यादा है.

ये भी पढ़ें- LIC की चेतावनी! भूल कर भी ना करें ये काम वरना अब भुगतना होगा बुरा अंजाम, होगी कानूनी कार्रवाई

मार्च में आईआईपी की ग्रोथ रेट 22.4 फीसदी थी
केंद्र सरकार ने 11 जून को आईआईपी के आंकड़े जारी किए हैं. इस साल फरवरी तक आईआईपी की ग्रोथ नकारात्मक थी. मार्च 2021 में ग्रोथ 22.4 फीसदी थी.

हालांकि ये आंकड़े जारी करने के साथ ही सरकार ने कहा कि अप्रैल 2021 के IIP डेटा की तुलना अप्रैल 2020 से नहीं की जा सकती है. अप्रैल में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का आउटपुट करीब 200 फीसदी बढ़ा है. यह मार्च में 25.8 फीसदी था.

ये भी पढ़ें- Sensex- Nifty फिर नए उच्चतम स्तर पर पहुंचे, जानिए वो पांच महत्वपूर्ण बातें जो मार्केट को गति दे रही



फरवरी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ -3.7 फीसदी थी. 2020 का पूरा साल लॉकडाउन में निकल गया. लिहाजा इसका मैन्युफैक्चरिंग पर बहुत बुरा असर पड़ा था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज