अपना शहर चुनें

States

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में जबरदस्त उछाल, 575 अरब डॉलर के पार पहुंचा

विदेशी मुद्रा भंडार (प्रतीकात्मक तस्वीर)
विदेशी मुद्रा भंडार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

देश का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves/Forex Reserves) 20 नवंबर को खत्म हुए हफ्ते में 2.518 अरब डॉलर बढ़कर 575.29 अरब डालर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया.

  • भाषा
  • Last Updated: November 27, 2020, 10:43 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves/Forex Reserves) 20 नवंबर को खत्म हुए हफ्ते में 2.518 अरब डॉलर बढ़कर 575.29 अरब डालर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया. भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने शुक्रवार को इसके आंकड़े जारी किए. इससे पिछले 13 नवंबर को समाप्त सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 4.277 अरब डॉलर की भारी वृद्धि के साथ 572.771 अरब डॉलर हो गया था.

ये भी पढ़ें :  आम आदमी को मिलेगी बड़ी राहत, सस्ती दालें बेचने के लिए सरकार जल्द उठाएगी बड़ा कदम

एफसीए बढ़कर 533.103 अरब डॉलर हुई
समीक्षाधीन अवधि में विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ने की बड़ी वजह विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (Foreign Currency Assets) का बढ़ना है. ये परिसंपत्तियां कुल विदेशी मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा होती है. रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार समीक्षावधि में एफसीए 2.835 अरब डॉलर बढ़कर 533.103 अरब डॉलर हो गईं. एफसीए को दर्शाया डॉलर में जाता है, लेकिन इसमें यूरो, पौंड और येन जैसी अन्य विदेशी मुद्राएं भी शामिल होती है.
यह भी पढ़ें: क्या वाकई में मुफ्त अनाज वितरण योजना 30 नवंबर को हो जाएगी समाप्त? जानें सबकुछ



देश के स्वर्ण भंडार में गिरावट
समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान देश का स्वर्ण भंडार (Gold Reserves) का मूल्य 33.9 करोड़ डॉलर घटकर 36.015 अरब डॉलर रहा. देश को अंतरराष्ट्रीय मु्द्रा कोष (International Monetary Fund) में मिला विशेष आहरण अधिकार 40 लाख डॉलर की मामूली वृद्धि के साथ 1.492 अरब डॉलर और आईएमएफ के पास जमा मुद्रा भंडार 1.9 करोड़ डॉलर बढ़कर 4.680 अरब डॉलर रहा.

Q2FY21 GDP: जुलाई-सितंबर में जीडीपी 7.5 फीसदी गिरी
वहीं, केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष 2020-21 (FY 2020-21) की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही के आंकड़े जारी कर दिए हैं. दूसरी तिमाही में देश की जीडीपी (GDP) -7.5 फीसदी रही है. हालांकि ये आंकडे अप्रैल-मई-जून तिमाही के मुकाबले काफी बेहतर हैं. लेकिन लगातार दो तिमाही में निगेटिव ग्रोथ को तकनीकी तौर पर मंदी माना जाता है. शुक्रवार शाम सरकार ने जीडीपी के आंकड़े जारी किए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज