Home /News /business /

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर आई खुशखबरी, दूसरी तिमाही में 8.4% रही देश की GDP

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर आई खुशखबरी, दूसरी तिमाही में 8.4% रही देश की GDP

जीडीपी

जीडीपी

सरकार की ओर से चालू वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही में जीडीपी (GDP) ग्रोथ के आंकड़े जारी कर दिए गए हैं. चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की जीडीपी 8.4 फीसदी रही. पहली तिमाही में जीडीपी 20.1 फीसदी रही थी. वहीं बीते वर्ष 2020-21 की इसी दूसरी तिमाही में जीडीपी -7.5 फीसदी रहा था. सांख्यिकी कार्यालय ने ये आंकड़े जारी किए हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. सरकार की ओर से चालू वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही में जीडीपी (GDP) ग्रोथ के आंकड़े जारी कर दिए गए हैं. चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की जीडीपी 8.4 फीसदी रही. पहली तिमाही में जीडीपी 20.1 फीसदी रही थी. वहीं बीते वर्ष 2020-21 की इसी दूसरी तिमाही में जीडीपी -7.5 फीसदी रही थी. सांख्यिकी कार्यालय ने ये आंकड़े जारी किए हैं.

    आठ कोर सेक्टर की ग्रोथ अक्टूबर में बढ़कर 7.5% रही
    आठ कोर सेक्टर की ग्रोथ अक्टूबर में 7.5% रही. 30 नवंबर को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर 2021 में तिमाही-दर-तिमाही आधार पर 8 कोर सेक्टर की ग्रोथ 4.4% थी. कॉमर्स एवं इंडस्ट्री मिनिस्ट्री के मुताबिक, “8 अहम कोर सेक्टर का इंडेक्स अक्टूबर 2021 में 136.2 रहा जो अक्टूबर 2020 के मुकाबले 7.5% ज्यादा है.” मंत्रालय की तरफ से जारी रिलीज के मुताबिक कोल, नेचुरल गैस, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स, फर्टिलाइजर्स, स्टील, सीमेंट और इलेक्ट्रिसिटी इंडस्ट्रीज की ग्रोथ बढ़ी है.

    राजकोषीय घाटा अक्टूबर अंत तक सालाना अनुमान का 36.3 फीसदी
    केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा यानी फिस्कल डेफिसिट (Fiscal Deficit) अक्टूबर के अंत में वित्त वर्ष 2021-22 के सालाना बजटीय लक्ष्य का 36.3 फीसदी रहा. मंगलवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार मुख्य रूप से रेवेन्यू कलेक्शन में सुधार से राजकोषीय घाटा कम रहा है. बता दें कि राजकोषीय घाटा का मतलब केंद्र सरकार की आमदनी और खर्चों का अंतर है.

    ये भी पढ़ें- खुलेगा नौकरियों का पिटारा, TeamLease का दावा- Q3 में इंडिया इंक की नई भर्तियों में हो सकती है 41% की बढ़ोतरी

    इंडिया रेटिंग्स को था 8.3 फीसदी ग्रोथ का अनुमान
    प्रमुख रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स (India Ratings) ने अनुमान लगाया था कि देश की अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष की दूसरी जुलाई-सितंबर तिमाही में 8.3 फीसदी की दर से बढ़ेगी, जबकि पूरे वित्त वर्ष 2021-22 में जीडीपी (GDP) की ग्रोथ रेट 9.4 फीसदी रहेगी.

    Tags: Economy, Fiscal Deficit, GDP

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर