होम /न्यूज /व्यवसाय /FY22 में 88 फीसदी बढ़ा भारत का ट्रेड डेफिसिट, 192.41 अरब डॉलर रहा व्यापार घाटा

FY22 में 88 फीसदी बढ़ा भारत का ट्रेड डेफिसिट, 192.41 अरब डॉलर रहा व्यापार घाटा

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

पिछले वित्त वर्ष में निर्यात रिकॉर्ड 417.81 अरब डॉलर रहा जबकि आयात भी बढ़कर 610.41 अरब डॉलर पर पहुंच गया. इससे व्यापार ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. देश का व्यापार घाटा यानी ट्रेड डेफिसिट (Trade Deficit) वित्त वर्ष 2021-22 में 87.5 फीसदी बढ़कर 192.41 अरब डॉलर रहा. इससे पूर्व वित्त वर्ष में यह 102.63 अरब डॉलर था. सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी मिली.

417.81 अरब डॉलर रहा निर्यात 
पिछले वित्त वर्ष में निर्यात रिकॉर्ड 417.81 अरब डॉलर रहा जबकि आयात भी बढ़कर 610.41 अरब डॉलर पर पहुंच गया. इससे व्यापार घाटा 192.41 अरब डॉलर रहा. गौरतलब है कि जब कोई देश निर्यात की तुलना में आयात अधिक करता है तो उसे व्यापार घाटा या ट्रेड डेफिसिट कहते हैं.

ये भी पढ़ें- हेल्थ इंश्योरेंस के प्रीमियम में कमी की उम्मीदों पर मोदी सरकार ने फेरा पानी, GST की दर नहीं घटेगी

वित्त वर्ष 2021-22 में 610.22 अरब डॉलर रहा आयात
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के मुताबिक, ‘‘भारत का वस्तुओं का आयात 31 मार्च, 2022 को समाप्त वित्त वर्ष में 54.71 फीसदी बढ़कर 610.22 अरब डॉलर रहा. इससे पूर्व वित्त वर्ष 2020-21 में यह 394.44 अरब डॉलर था. वहीं 2019-20 के 474.71 अरब डॉलर के मुकाबले यह 28.55 फीसदी अधिक है.’’

पहली बार देश का एक महीने में निर्यात का आंकड़ा 40 अरब डॉलर के पार
इस साल मार्च महीने में व्यापार घाटा 18.69 अरब डॉलर रहा. पूरे वित्त वर्ष 2021-22 में यह 192.41 अरब डॉलर था. पहली बार, देश का एक महीने में निर्यात का आंकड़ा 40 अरब डॉलर के ऊपर यानी 40.38 अरब डॉलर रहा है. यह एक महीने पहले फरवरी के 35.26 अरब डॉलर के मुकाबले 14.53 फीसदी ज्यादा है. यह मार्च, 2020 के 21.49 अरब डॉलर के मुकाबले 87.89 फीसदी ज्यादा है.

ये भी पढ़ें- Indian Railways: रेलयात्र‍ियों के ल‍िए अच्‍छी खबर, रेलवे के इस फैसले से छत्‍तीसगढ़ का सफर होगा आसान, ट्रेन में म‍िलेंगी ज्‍यादा बर्थ

पिछले महीने आयात 59.07 अरब डॉलर रहा
मंत्रालय के अनुसार, देश का वस्तुओं का आयात पिछले महीने 59.07 अरब डॉलर रहा, जो मार्च, 2021 के 48.90 अरब डॉलर से 20.79 फीसदी अधिक है. वहीं मार्च, 2020 के 31.47 अरब डॉलर के मुकाबले यह 87.68 फीसदी ज्यादा है.

Tags: Export, Import-Export

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें