लाइव टीवी

बड़ी राहत! नवंबर में देश के सर्विस सेक्टर ने पकड़ी रफ्तार! इस वजह से तीन महीने में सबसे ज्यादा तेजी से बढ़ा

News18Hindi
Updated: December 4, 2019, 1:12 PM IST
बड़ी राहत! नवंबर में देश के सर्विस सेक्टर ने पकड़ी रफ्तार! इस वजह से तीन महीने में सबसे ज्यादा तेजी से बढ़ा
सर्विस सेक्टर में लौटी ग्रोथ का फायदा नई नौकरियों को बढ़ाने में मिलेगा.

नए कॉन्ट्रैक्ट (New Order) के चलते नवंबर में सर्विस सेक्टर (India Service Sector) ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ी और बीते तीन महीने में यह सबसे तेज गति से आगे बढ़ा है. निक्केई/आईएचएस मार्किट सर्विसेज परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स नवंबर में बढ़कर 52.7 रहा, जो अक्टूबर में 49.2 रहा था

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 4, 2019, 1:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आर्थिक सुस्ती से जूझ रही देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के लिए बड़ी राहत की खबर आई है. बुधवार को जारी हुए सर्विस पीएमआई (India Services PMI November 2019) के आंकड़ों में तेज सुधार के संकेत मिले है. नए कॉन्ट्रैक्ट (New Order) के चलते नवंबर में सर्विस सेक्टर (India Service Sector) ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ी और बीते तीन महीने में यह सबसे तेज गति से आगे बढ़ा है. निक्केई/आईएचएस मार्किट सर्विसेज परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स नवंबर में बढ़कर 52.7 रहा, जो अक्टूबर में 49.2 रहा था. आपको बता दें कि पीएमआई का 50 से ऊपर का आंकड़ा बेहतर माना जाता है.

अब इन सेक्टर्स में तेजी से बढ़ेंगे नौकरियों के मौके-  सर्विस पीएमआई के आंकड़ों से जुड़ा एक सब-इंडेक्स अक्टूबर के मुकाबले 50.1 से बढ़कर नवंबर में 53.2 पर पहुंच गया. जिसके कारण सर्विस सेक्टर तीन महीने में सबसे तेज गति से रोजगार बढ़ाने को उत्साहित हुआ.

>> रिपोर्ट के मुताबिक, कंज्यूमर सर्विसेज, इन्फॉर्मेशन ऐंड कम्युनिकेशन तथा रियल एस्टेट एंड बिजनेस सर्विसेज में तेजी से सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में विस्तार दर्ज किया गया.

>> ट्रांसपोर्ट एंड स्टोरेज, फाइनेंस एंड इंश्योरेंस कंपनियों की गतिविधियों में गिरावट दर्ज की गई. फाइनेंस और इंश्योरेंस को छोड़कर सर्विस सेक्टर की अन्य कंपनियों में रोजगार के अवसर नंबर में बढ़े है.

ये भी पढ़ें-GST काउंसिल की अगली बैठक में इन चीजों पर फिर से लग सकता है टैक्स

नवंबर में सर्विस सेक्टर में क्यों आई तेजी-आईएचएस (IHS Markit) मार्किट की प्रमुख अर्थशास्त्री पॉलीआना डे लिमा का कहना है कि सर्विस सेक्टर की वृद्धि दर में बढ़ोतरी का प्रमुख कारण नए कॉन्ट्रैक्ट में बढ़ोतरी रहा,  जिसने न सर्विस सेक्टर क्षेत्र को ग्रोथ का मंच मुहैया कराया, बल्कि रोजगार के भी बढ़ने का कारण बना है.

क्या होता है पीएमआई (What is PMI)- आपको बता दें कि पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (पीएमआई) सर्विस सेक्‍टर की आर्थिक सेहत को मापने का एक इंडिकेटर है. इसके जरिए किसी देश की आर्थिक स्थिति का आंकलन किया जाता है.>> पीएमआई सेवा क्षेत्र समेत निजी क्षेत्र की अनेक गतिविधियों पर आधारित होता है. पीएमआई का मुख्‍य मकसद अर्थव्यवस्था से जुड़े सही आंकड़े उपलब्‍ध कराना है, जिससे अर्थव्‍यवस्‍था के बारे में सटीक संकेत पहले ही मिल जाते हैं.

>> पीएमआई 5 प्रमुख चीजों पर आधारित होता है. नए ऑर्डर, इन्‍वेंटरी स्‍तर, प्रोडक्‍शन, सप्‍लाई डिलिवरी और रोजगार वातावरण शामिल हैं.

ये भी पढ़ें-RBI ने बताया, बैंक दिवालिया हुआ तो आपके खाते में जमा कितना पैसा रहेगा सेफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 12:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर