ईरान से अपनी शर्तों पर तेल खरीदेगा भारत, रुपये में करेगा पेमेंट: रिपोर्ट

ईरान से अपनी शर्तों पर तेल खरीदेगा भारत, रुपये में करेगा पेमेंट: रिपोर्ट
ईरान पर अमेरिका की तरफ से लगाए गए प्रतिबंधों के बाद यूरोपीय बैंकों के जरिए व्यापार मुश्किल हो गया है. ऐसे में भारत अब नवंबर से अपने बैंकों के जरिये भारतीय करेंसी में ही ईरान से तेल खरीदेगा.

ईरान पर अमेरिका की तरफ से लगाए गए प्रतिबंधों के बाद यूरोपीय बैंकों के जरिए व्यापार मुश्किल हो गया है. ऐसे में भारत अब नवंबर से अपने बैंकों के जरिये भारतीय करेंसी में ही ईरान से तेल खरीदेगा.

  • Share this:
ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बाद भारत द्वारा वहां से तेल आयात को लेकर नई जानकारी आ रही है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत अब अपनी शर्तों पर ईरान से तेल खरीदने की तैयारी कर रहा है. ईरान पर अमेरिका की तरफ से लगाए गए प्रतिबंधों के बाद यूरोपीय बैंकों के जरिए व्यापार मुश्किल हो गया है. ऐसे में भारत अब नवंबर से अपने बैंकों के जरिये भारतीय करेंसी में ही ईरान से तेल खरीदेगा. यानी ईरान से तेल खरीदने पर पेमेंट रुपये में ही होगी.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2015 में ईरान के साथ हुए न्यूक्लियर समझौते को इस साल मई में रद्द कर दिया था. इसके साथ ही अमेरिकी प्रतिबंधों का नए सिरे से लागू करने का ऐलान कर दिया था, जिनमें से कुछ प्रतिबंध 6 अगस्त से लागू हो गए, जबकि बाकी प्रतिबंध 4 नवंबर से लागू होने जा रहे हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पेट्रोलियम इंडस्ट्री के सूत्र ने बताया, "हम हर तरह की संभावना पर विचार कर रहे हैं. हमें पेमेंट करना होगा और हम इसमें डिफॉल्ट नहीं करना चाहते."



सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने ईरान को तेल आयात के बदले पेमेंट की आसानी के लिए यूको बैंक और आईडीबीआई बैंक को चुना है.
ये भी पढ़ें - पेट्रोल के दाम कम करने के लिए भारत ने चली 'चाल', अमेरिका की चेतावनी खारिज कर ईरान से खरीदेगा तेल!

फिलहाल भारतीय पेट्रोल रिफाइनर्स यूरो में ईरान से कच्चा तेल खरीदते हैं. इसका पेमेंट स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) और जर्मनी की एक बैंक के जरिये होता है. हालांकि एसबीआई ने अब रिफाइनर्स को बताया है कि बैंक नवंबर से ईरान की पेंमेंट की जिम्मेदारी छोड़ रहा है.

वहीं एक अन्य सूत्र ने बताया कि जब अमेरिका ने मई में प्रतिबंधों को फिर से लागू करने की घोषणा की थी, तभी ईरान को कुछ कारगोज़ (जहाज की खेप) के लिए रुपये में पेमेंट की गई थी.

जून में ऐसी रिपोर्ट्स आई थीं कि भारत ईरान के साथ रुपये में लेनदेन के लिए अपने पुराने तंत्र को दुरुस्त कर रहा है. इससे पहले भी जब प्रतिबंध लगाए गए थे, तब भारत ने तेल खरीदने के लिए बार्टर जैसी स्कीम अपनाई थी. उस समय मिडिल ईस्ट के देशों ने भारत से सामान आयात करने के लिए रुपये में लेनदेन किया था.

ये भी पढ़ें >>

ईरान पर लगे प्रतिबंधों से भारत को छूट दे सकता है अमेरिका

दुनिया के वो मुल्क, जहां बिकता है सबसे सस्ता तेल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading