होम /न्यूज /व्यवसाय /Vivo Phones : भारत ने चाइनीज कंपनी Vivo के 27 हजार स्मार्टफोन का निर्यात रोका, कीमत के बारे में दी थी गलत जानकारी

Vivo Phones : भारत ने चाइनीज कंपनी Vivo के 27 हजार स्मार्टफोन का निर्यात रोका, कीमत के बारे में दी थी गलत जानकारी

Vivo पर अपने डिवाइस मॉडल्स और उनकी वैल्यू के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप है. (फ़ोटो: न्यूज18)

Vivo पर अपने डिवाइस मॉडल्स और उनकी वैल्यू के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप है. (फ़ोटो: न्यूज18)

सूत्र के मुताबिक, इन स्मार्टफोन्स की कीमत लगभग 1.5 करोड़ डॉलर है. वहीं इस संबंध में भेजे गए ईमेल पर फाइनेंस मिनिस्ट्री ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारत ने वीवो के लगभग 27,000 स्मार्टफोन के निर्यात को एक सप्ताह से ज्यादा समय तक रोक दिया है.
Vivo पर अपने डिवाइस मॉडल्स और उनकी वैल्यू के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप है.
पंकज मोहिंद्रू ने कहा कि अनुचित कार्रवाई से भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग हतोत्साहित होगा.

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच कई दिनों से मतभेद जारी हैं. इसी बीच भारतीय अधिकारियों ने चीन की स्मार्टफोन कंपनी वीवो की भारत से पड़ोसी देशों को निर्यात की योजना को तगड़ा झटका दिया है. भारत ने वीवो के लगभग 27,000 स्मार्टफोन के निर्यात को एक सप्ताह से ज्यादा समय तक रोक दिया है. फाइनेंस मिनिस्ट्री के तहत आने वाली भारत की रेवेन्यू इंटेलिजेंस यूनिट ने नई दिल्ली हवाई अड्डे पर वीवो कम्युनिकेशंस टेक्नोलॉजी कंपनी (Vivo Communications Technology) के बनाए गए स्मार्टफोन पर रोक लगा दी है.

गौरतलब है कि वीवो पर अपने डिवाइस मॉडल्स और उनकी वैल्यू के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप है. एक सूत्र के मुताबिक, इन स्मार्टफोन्स की कीमत लगभग 1.5 करोड़ डॉलर है. वहीं इस संबंध में भेजे गए ईमेल पर फाइनेंस मिनिस्ट्री और वीवो इंडिया की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

ये भी पढ़ें – Indian Railway : अब कोहरे से लेट नहीं होंगी ट्रेनें! रेलवे ने बढ़ा दी स्‍पीड

उद्योग संगठनों ने किया विरोध  
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक इंडस्ट्री लॉबी ग्रुप ने सरकारी एजेंसी की कार्रवाई को एकतरफा और बेतुका बताया है. इंडिया सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के चेयरमैन पंकज मोहिंद्रू ने 2 दिसंबर को भारत की टेक मिनिस्ट्री के टॉप ब्यूरोक्रेट्स को भेजे लेटर में लिखा कि हम इस अफसोसजनक कार्रवाई पर रोक लगाने के लिए तुरंत दखल देने की मांग करते हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह की अनुचित कार्रवाई से भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट्स हतोत्साहित होगा.

चीनी कंपनियों पर जारी है सख्ती
बता दें, 2020 में हिमालयी सीमाओं पर भारत और चीन की सेनाओं के टकराव के बाद दोनों देशों के बीच राजनीतिक मतभेद खासे बढ़ गए थे. नई दिल्ली ने SAIC Motor Corp Ltd की MG Motor India और Xiaomi Corp और ZTE Corp की स्थानीय यूनिट्स पर भी काफी सख्ती बढ़ा दी थी.

अन्य कंपनियों पर होगा असर
वहीं हवाईअड्डे पर वीवो के शिपमेंट में रुकावट से भारत में अन्य चीनी स्मार्टफोन कंपनियों के हतोत्साहित होने की आशंका है. दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के नेतृत्व वाली एक राष्ट्रवादी सरकार उन्हें निर्यात बढ़ाने और स्थानीय सप्लाई चेन विकसित करने के लिए प्रेरित कर रही है.

क्‍या करती है वीवो 
आपको बता दें वीवो कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड बीबीके इलेक्ट्रॉनिक्स के स्वामित्व वाली एक चीनी प्रौद्योगिकी कंपनी है जो स्मार्टफ़ोन, स्मार्टफ़ोन उपकरण बनाती है और सॉफ़्टवेयर व ऑनलाइन सेवाओं को डिज़ाइन और विकसित करती है.

Tags: 5G Smartphone, Business news, Business news in hindi, Export, India china, Smartphone, Vivo

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें