कोरोना संकट के बीच एक अच्छी खबर! सरकार वैक्सीन के आयात पर 10% कस्टम ड्यूटी माफ कर सकती है

आयातित कोविड​​-19 टीकों पर भारत 10% सीमा शुल्क माफ करेगा.

आयातित कोविड​​-19 टीकों पर भारत 10% सीमा शुल्क माफ करेगा.

कोरोनावायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच एक राहत भरी खबर है. आयातित कोविड​​-19 टीकों पर भारत 10% सीमा शुल्क माफ करेगा. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी का कहना है कि सरकार प्राइवेट कंपनियों को भी वैक्सीन इम्पोर्ट करने की मंजूरी दे सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनावायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच एक राहत भरी खबर है. आयातित कोविड​​-19 टीकों पर भारत 10% सीमा शुल्क माफ करेगा. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी का कहना है कि सरकार प्राइवेट कंपनियों को भी वैक्सीन इम्पोर्ट करने की मंजूरी दे सकती है. इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज एजेंसी Reuters को दी है. दी गई जानकारी के मुताबिक, अगर सरकार ये फैसले लेती है तो देश में वैक्सीन की पर्याप्त डोज मुहैया कराना आसान हो सकता है.

इन देशों को वैक्सीन भेजने के लिए कहा गया है

रूस के स्पुतनिक वी वैक्सीन (Sputnik V vaccine) के आयात जल्द ही होने वाले हैं. सरकार की तरफ से मंजूरी दे दी गई है. सरकार ने फाइजर (PFE.N), मॉडर्न (MRNA.O) और जॉनसन एंड जॉनसन (JNJ.N) से भी भारत में भी अपनी वैक्सीन भेजने के लिए कहा है.

ये भी पढ़ें: Covid Treatment के लिए है पैसों की जरूरत! तो इस तरह PF अकाउंट से आसानी से निकाल सकेंगे, ये है नियम
प्राइवेट कंपनियों को वैक्सीनआयात की मंजूरी मिल सकती है

रॉयटर्स को बताया गया है कि सरकार प्राइवेट कंपनियों को भी वैक्सीन के आयात की मंजूरी देने पर विचार कर रही है. यह कंपनियां इस वैक्सीन को खुले बाजार में बेच सकेंगी. इन कंपनियों को वैक्सीन की कीमत तय करने की छूट दी जा सकती है. बता दें कि अभी देश में कोविड-19 वैक्सीन की खरीद और बिक्री पर सरकार का कंट्रोल है.

वैक्सीन निर्माण के लिए 4500 करोड़ के क्रेडिट की मंजूरी



देश में वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए वित्त मंत्रालय ने सोमवार को Covid-19 वैक्सीन निर्माताओं भारत बायोटेक (Bharat Biotech) और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) को सप्लाई क्रेडिट देने की मंजूरी दे दी है. पहले Covid-19 के प्रभारी नोडल मंत्रियों के लिए क्रेडिट को मंजूरी दी जाएगी, फिर इसे वैक्सीन उत्पादन करने के लिए दोनों कंपनियों को सौंपी जाएगी. मंत्रालय ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के लिए 3,000 करोड़ रुपए और भारत बायोटेक के लिए 1,500 करोड़ रुपए का क्रेडिट दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज