Bitcoin 40 हजार डॉलर के पार पहुंचते ही एक्सचेंजों की सख्त कार्रवाई, फ्रिज़ किए संदिग्ध अकाउंट

क्रिप्टोकरंसी का मार्केट वैल्यू 1 ट्रिलियन डॉलर के पार पहुंच गया है.

क्रिप्टोकरंसी का मार्केट वैल्यू 1 ट्रिलियन डॉलर के पार पहुंच गया है.

Bicoin के 40 हजार डॉलर के पार पहुंचते ही भारत के कुछ एक्सचेंजेज पर संदिग्ध अकांउट्स को लेकर सख़्ती दिखाई जा रही है. भारत में क्रिप्टोकरंसी को लेकर को कोई एक्सचेंज रेगुलेशन या KYC नियम नहीं है. गुरुवार को ही क्रिप्टोकरंसी का मार्केट वैल्यू 1 ट्रिलियन डॉलर के पार पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 9:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिटकॉइन 40,000 डॉलर पार होने के बाद भारत में क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंजेज (Cryptocurrency Exchanges) ने संदिग्ध अकाउंट्स की फ्रिज़ करना शुरू कर दिया है. देश की एक बड़ी क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज CoinDCX ने बताया कि उसने 4 अकाउंट्स को फ्रिज़ कर दिया. इन अकाउंट्स के जरिए आर्टिफिशियल तरीके से क्रप्टोकरंसी के भाव चढ़ाये जा रहे थे ताकि रिटेल इन्वेस्टर्स का लाभ उठाया जा सके.

क्रिप्टोकरंसी को लेकर कोई रेगुलेशन या KYC नियम नहीं

भारत में क्रिप्टोकरंसी के लिए कोई एक्सचेंज रेगुलेशन या KYC की सुविधा नहीं है. इस वजह से इन एक्सचेंजेज अपने नियम बना रखे हैं. हाल ही में यूएस फाइनेंशियल क्राइम्स एनफोर्समेंट नेटवर्क यानी (US FINCIN) ने अनिवार्य KYC का प्रस्ताव लेकर आई है. इसके बाद अब 3,000 डॉलर से अधिक के क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज करने पर KYC नियमों को पूरा करना अनिवार्य हो जाएगा.

यह भी पढ़ेंः RBI ने 3 नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी का लाइसेंस रद्द किया, जानिए इसकी वजह
एक मीडिया रिपोर्ट में UAE की क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज के CEO के हवाले से लिखा गया है, ‘कुछ ऐसे मामले रहे हैं, जब किप्टोकंरसी के जरिए लेन-देन पर चेतावनी जारी की गई है. ये चेतावनी एक्सचेंज पर एंटी मनी लॉन्ड्रिंग (AML) पॉलिसी को लेकर टकराव की स्थिति में जारी किए गए हैं. ऐसे मामलों में ग्राहकों से उनके फंड्स के सोर्स के बारे में जानकारी मांगनी पड़ती है’

एक अन्य जानकार ने बताया कि सख़्त केवाईसी नियमों को पूरा करने के लिए और एंटी मनी लॉन्ड्रिंग पॉलिसी को भी लागू किया जाता है. इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि एक्सचेंजेज पर किए गए लेन-देन वैध और नियमानुसार हो. खुदरा निवेशकों को छोटी क्रिप्टोकरंसी में निवेश करने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी जुटा लेनी चाहिए. उन्होंने बताया कि पेनी स्टॉक्स की तरह ही स्मॉल कैप क्रिप्टो लुभावने लगते हैं, लेकिन यह भी ध्यान देना चाहिए कि इस तरह के क्रिप्टोकरंसी के बारे में पूरी जानकारी जुटा लेनी चाहिए.

Youtube Video




यह भी पढ़ेंः क्रिप्टोकरंसी से होने वाली कमाई को अपने ITR में कैसे दिखाएं? यहां जानिए

एक ट्रिलियन डॉलर के पार पहुंचा क्रिप्टोकरंसी का मार्केट कैप

बता दें कि गुरुवार को बिटकॉइन ने पहली बार 40,000 डॉलर के पार का आंकड़ा पार किया. करीब एक महीने के अंदर ही यह वैल्यू करीब दोगुनी हो गई है. इसके बाद अब क्रिप्टोकरंसी का कुल मार्केट कैप 1 लाख करोड़ डॉलर से भी अधिक हो गया है. पिछले साल भी क्रिप्टोकरंसी के मार्केट वैल्यू में जबरदस्त तेजी देखने को मिली थी. जानकारों का कहना है कि रिटेल ट्रेडर्स की तरफ से बढ़ती मांग, क्वांट फंड्स (Quant Funds) को लेकर बढ़ते ट्रेंड्स और संस्थागत निवेशक भी इसके पीछे की बड़ी वजह हैं. गुरुवार को बिटकॉइन 11 फीसदी चढ़कर 40,065 डॉलर के पार पहुंच गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज