पटरी पर लौट रही इकोनॉमी! आम आदमी से लेकर मोदी सरकार को भी खुश कर देंगे ये आंकड़े

कोरोना संकट के बीच अक्‍टूबर 2020 में देश की इकोनॉमी के पटरी पर लौटने के संकेत मिले हैं.
कोरोना संकट के बीच अक्‍टूबर 2020 में देश की इकोनॉमी के पटरी पर लौटने के संकेत मिले हैं.

कोरोना संकट के बीच लंबे समय बाद देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) के लिए अच्‍छी खबरें आ रही हैं. अक्‍टूबर 2020 में वाहनों की बिक्री से लेकर जीएसटी कलेक्‍शन (GST Collection) तक में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. वहीं, विदेशी संस्‍थागत निवेशकों (FII) ने भी भारतीय बाजारों में जमकर खरीद-फरोख्‍त की है. इस दौरान देश का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves) भी नई ऊंचाई पर पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 2, 2020, 8:35 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के कारण डांवाडोल हुई देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) धीरे-धीरे पटरी पर लौट रही है. अनलॉक-5 में अर्थव्‍यवस्‍था के हर सेगमेंट से अच्‍छी खबरें आ रही हैं. गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स कलेक्‍शन (GST Collection) से लेकर यूपीआई ट्रांजेक्‍शन (UPI Transactions) में हुई जबरदस्‍त बढ़ोतरी और वाहनों की बिक्री (Auto Sales) से लेकर विदेशी संस्‍थागत निवेशकों (FII) की ओर से निवेश के शानदार आंकड़े देश के आर्थिक हालात में सुधार के स्‍पष्‍ट संकेत दे रहे हैं. हालांकि, ये तेजी अस्‍थायी भी हो सकती है. एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि त्‍योहारी सीजन के कारण बाजार में अच्‍छी मांग (Festive Season Demand) दिख रही है, जो आने वाले समय में थम सकती है.

GST कलेक्‍शन फरवरी 2020 के बाद अक्‍टूबर में 1 लाख करोड़ के पार
फरवरी 2020 के बाद अक्टूबर में कुल जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) फिर 1 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया है. अक्टूबर 2020 में कुल जीएसटी कलेक्शन 1,05,155 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया है. इसमें 19,193 करोड़ रुपये CGST तो 25,411 करोड़ रुपये SGST और 52,540 करोड़ रुपये IGST है. IGST में 23,375 करोड़ रुपये वस्तुओं के आयात से वसूला गया है. सेस के तौर पर 8,011 करोड़ रुपये वसूला गया है, जिसमें 932 करोड़ रुपये आयातित वस्तुओं (Imported Goods) पर लगाए गए सेस से आया है. 31 अक्टूबर तक फाइल किए गए कुल GSTR-3B रिटर्न्स की संख्या करीब 80 लाख तक पहुंच चुकी है. IGST में रेग्‍युलर सेटलमेंट के तौर पर सरकार ने 25,091 करोड़ रुपये का CGST और 19,427 करोड़ रुपये का एसजीएसटी का भुगतान कर दिया है.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच देश ने बना डाला नया रिकॉर्ड, अक्‍टूबर में हुए 200 करोड़ के UPI Transactions
लॉकडाउन के बाद नवरात्रि में वाहनों की बिक्री में हुई शानदार बढ़ोतरी


लॉकडाउन के बाद नवरात्रि के दौरान मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) की खुदरा बिक्री में करीब 27 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है. कंपनी की कुल खुदरा बिक्री इस साल 96,700 यूनिट्स रही, जो पिछले साल के मुकाबले काफी ज्यादा है. हुंडई मोटर इंडिया ने इस अवधि में पिछले साल के मुकाबले 28 फीसदी ज्यादा बिक्री की है. टाटा मोटर्स ने नवरात्रि में 6,641 यूटिलिटी वाहनों और 4,246 कार की बिक्री की, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 3,321 कार और 2,404 यूटिलिटी वाहन बेचे थे. किआ मोटर्स ने 10 दिन में 224 फीसदी ज्‍यादा 11,640 व्‍हीकल बेचे. महिंद्रा एंड महिंद्रा ने SUVs की बुकिंग में 41 फीसदी तो SCVs की सेल में 20 फीसदी की बढ़त दर्ज की है. होंडा कार्स इंडिया ने खुदरा बिक्री में 10 फीसदी का इजाफा किया.

ये भी पढ़ें- 100 से ज्‍यादा स्‍टेशनों पर रेल यात्रियों से वसूला जाएगा यूजर चार्ज! ट्रेन किराये में भी होगी बढ़ोतरी

लोगों ने जमकर किया यूपीआई ट्रांजैक्‍शन, बना डाला नया रिकॉर्ड
कोरोना संकट के बीच अक्‍टूबर 2020 में लोगों ने घर बैठे-बैठे नया रिकॉर्ड बना डाला है. अक्‍टूबर 2020 में यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस (UPI Transactions) के मामले में देश ने एक महीने में 200 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर लिया है. नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अब तक कुल 3.3 लाख करोड़ रुपये के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हो चुके हैं. बता दें कि यूपीआई प्‍लेटफॉर्म से 189 बैंक जुड़े हुए हैं. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस प्‍लेटफॉर्म के जरिये सितंबर 2020 के अंत तक 3.29 लाख करोड़ रुपये मूल्‍य के कुल 180 करोड़ लेनदेन हो चुके हैं. अक्‍टूबर 2020 के दौरान देश में 207.16 करोड़ रुपये मूल्‍य के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हुए. पिछले साल अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शन के जरिये रिकॉर्ड 114.83 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ था.

ये भी पढ़ें- अब इस बैंक ने ग्राहकों को दिया फेस्टिवल गिफ्ट! सस्‍ती दरों पर मिलेगा लोन, घटाईं ब्याज दरें

FPI ने अक्‍टूबर में की 22,033 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी
विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने इंडियन कैपिटल मार्केट में अक्टूबर 2020 के दौरान 22,033 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी की. दरअसल, देश में आर्थिक गतिविधियों में तेजी बेहतर तिमाही नतीजों के कारण एफपीआई ने तेजी से निवेश बढ़ाया. इससे पहले विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों से अपना पैसा खींच रहे थे. एफपीआई ने सितंबर 2020 में भारतीय बाजारों से 3,419 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की. एफपीआई ने 1-30 अक्टूबर के बीच इक्विटी में 19,541 करोड़ रुपये और बॉन्ड्स में 2,492 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया.

ये भी पढ़ें- इनकम टैक्‍स रिटर्न भरने से पहले जुटा लें ये जरूरी डॉक्‍युमेंट्स वरना होगी बड़ी दिक्‍कत

देश का विदेशी मुद्रा भंडार भी सर्वकालिक ऊंचाई पर पहुंच गया
देश का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves/Forex Reserves) 23 अक्टूबर को खत्म हुए हफ्ते में 5.412 अरब डॉलर बढ़कर 560.532 अरब डॉलर की सर्वकालिक ऊंचाई पर पहुंच गया. भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, इससे पिछले 16 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 3.61 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 555.12 अरब डॉलर था. इस दौरान एफसीए 5.20 अरब डॉलर बढ़कर 571.52 अरब डॉलर हो गईं. रिजर्व बैंक का स्वर्ण भंडार (Gold Reserves) समीक्षावधि में 17.5 करोड़ डॉलर बढ़कर 36.86 अरब डॉलर हो गया है. आईएमएफ के पास जमा देश का विदेशी मुद्रा भंडार भी 2.7 करोड़ डॉलर बढ़कर 4.66 अरब डॉलर हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज