• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • 2030 में जापान को पछाड़ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकॉनमी बन जाएगा भारत: रिपोर्ट

2030 में जापान को पछाड़ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी इकॉनमी बन जाएगा भारत: रिपोर्ट

2030 में जापान को पढ़ाड़ देगा भारत

2030 में जापान को पढ़ाड़ देगा भारत

एचएसबीसी की लॉन्ग टर्म रैंकिंग में भारत को सबसे ज्यादा आश्चर्यजनक रूप से ऊपर उठने वाले देशों में शुमार किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    भारतीय अर्थव्यवस्था साल 2017 में पूरी दुनिया में छठे स्थान पर रही. ब्लूमबर्ग के साथ शेयर की गई एचएसबीसी होल्डिंग्स की ताजा रिपोर्ट के अनुमान के मुताबिक, 2030 तक भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में तीसरे स्थान पर पहुंच जाएगी.

    एचएसबीसी की लॉन्ग टर्म रैंकिंग में भारत को सबसे ज्यादा आश्चर्यजनक रूप से ऊपर उठने वाले देशों में शुमार किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल जर्मनी और जापान अर्थव्यवस्था के मामले में सबसे तेजी से वृद्धि करने वाली अर्थव्यवस्थाएं हैं. हालांकि इन विकसित देशों के सामने सबसे बड़ी चिंता तेजी से बूढ़ी होती वर्कफोर्स है.

    रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन 2030 में अमेरिका को पछाड़ देगा. ये दोनों क्रमशः 26 ट्रिलियन डॉलर और 25.2 ट्रिलियन डॉलर की अर्थवस्थाओं के साथ शीर्ष दो स्थानों पर पहुंच जाएंगे. एचएसबीसी का आकलन दिखाता है कि भारत 5.9 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के साथ तीसरे स्थान पर रहेगा.

    ये भी पढ़ें - इकॉनमी पर PM मोदी का दो दिन का मंथन खत्म, लिए गए ये फैसले

    अप्रैल और जून में भारत की अर्थव्यवस्था ने 8.2 फीसदी की दर से वृद्धि की है. पिछली तिमाही की तुलना में यह तेज हुई है और इसने विशेषज्ञों की उम्मीदों से ज्यादा अच्छा प्रदर्शन किया है. दो सालों में यह सबसे ज्यादा है. 2016 की पहली तिमाही के बाद से यह सबसे ज्यादा मजबूत हुआ है.

    अर्थव्यवस्था का सुधरा हुआ प्रदर्शन नरेंद्र मोदी सरकार के लिए अच्छे संकेत देता है. खासकर जब भूतपूर्व मनमोहन सिंह सरकार के साथ उनकी तुलना होती है. कुछ पुराने डेटा हाल ही में जारी किए गए थे, जिनमें दावा किया गया था कि यूपीए के शासन में जीडीपी ग्रोथ 10 फीसदी से ऊपर पहुंच गई थी.

    भारत सरकार ने जीडीपी कैल्कुलेशन का आधार वर्ष 2004-05 से बदलकर 2011-12 कर दिया था. जिसके बाद काफी विवाद हुआ था.

    अर्थव्यवस्था का यह आकलन अर्थशास्त्रियों के आकलन से बेहतर है, जिन्होंने पहली तिमाही की ग्रोथ रेट 7.5-7.6 फीसदी आंकी थी. यह सीधी दूसरी तिमाही है जब जीडीपी रेट उम्मीदों से ज्यादा रही है.

    भारत ने चीन की ग्रोथ रेट 6.8 फीसदी को जनवरी में पछाड़ दिया था, जो कि उस तिमाही में 7.7 फीसदी रही. अप्रैल-जून 2017 की तिमाही में ग्रोथ रेट 5.6 फीसदी थी.

    8.2 फीसदी दर के साथ भारत दुनिया की सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्था के दर्जे को बरकरार रखे हुए है. चीन की जीडीपी ग्रोथ जून के अंत में 6.8 फीसदी थी. जिन सेक्टर्स में 7 फीसदी से ज्यादा ग्रोथ हुई है उनमें मैनुफैक्चरिंग, इलैक्ट्रीसिटी, गैस, वॉटर सप्लाई और अन्य सर्विसेज़ शामिल हैं. इनमें कंस्ट्रक्शन, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, डिफेंस जैसे सेक्टर्स भी शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें - चीन का कर्ज़ बढ़कर 2,580 अरब डॉलर, अर्थव्‍यवस्‍था का भी हाल बुरा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज