एक और झटका- सरकारी कंपनी REC ने चाइनीज कंपनी का स्मार्ट मीटर ठेका रद्द किया

एक और झटका- सरकारी कंपनी REC ने चाइनीज कंपनी का स्मार्ट मीटर ठेका रद्द किया
आरईसी (REC-Rural Electrification Corporation Limited) की इकाई आरईसी पावर डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड (RECPDCL) ने रद्द किया ठेका

सरकारी कंपनी आरईसी (REC-Rural Electrification Corporation Limited) की इकाई आरईसी पावर डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड (RECPDCL) ने गुरुवार को कहा कि उसने जम्मू कश्मीर में स्मार्ट मीटर परियोजना से चीनी कंपनी को हटा दिया है.

  • Share this:
कश्मीर. पावर सेक्टर की सरकारी कंपनी आरईसी (REC-Rural Electrification Corporation Limited) की सब्सिडियरी कंपनी आरईसी पावर डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड (RECPDCL) ने गुरुवार को कहा कि उसने जम्मू कश्मीर में स्मार्ट मीटर परियोजना से चीनी कंपनी को हटा दिया है. सरकार के पावर उपकरणों के आयात को लेकर जारी आदेश के तुरंत बाद यह कदम उठाया गया है. आरईसी पावर डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड ने पिछले साल सितंबर में जम्मू कश्मीर में 1.155 लाख स्मार्ट मीटर लगाने की परियोजना का काम टेक्नो इलेक्ट्रिक एंड इंजीनियरंग कंपनी लिमिटेड को दिया था. एक बयान में आरईसीपीडीसीएल ने कहा कि परियोजना का आवंटन भारतीय कंपनी टेक्नो इलेक्ट्रिक एंड इंजीनियरंग कंपनी लिमिटेड को दिया गया था.

125 करोड़ रुपये की इस परियोजना को सितंबर 2019 में बिजली मंत्रालय के तहत REC की एक शाखा RECPDCL द्वारा प्रदान किया गया था. इसके अंतरगर्त जम्मू और श्रीनगर शहर में दो चरणों में प्रत्येक में 100,000 स्मार्ट मीटर लगने है.

ये भी पढ़ें- आम आदमी को मिली राहत- दिल्ली में सस्ता हुआ डीज़ल, जानिए अपने शहर के नए रेट्स



परियोजना को तीन भागों में बांटा गया है. जबकि टेक्नो इलेक्ट्रिक मुख्य ईपीसी कॉन्ट्रैक्टर, मीटर सप्लाई का सब-कॉन्ट्रैक्ट एलाइड इंजीनियरिंग वर्क्स (AEW), और रेडियो फ़्रीक्वेंसी (RF) कम्युनिकेशन डोंगफैंग इलेक्ट्रॉनिक्स (DFE) के साथ था, जो एक चीनी राज्य के स्वामित्व वाली कंपनी है.
ये भी पढ़ें- बड़ा झटका- दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका की GDP ग्रोथ 10% गिरी

क्या है मामला- REC ने जम्मू-कश्मीर रीजन में चल रही हपरियोजना के लिए पावर उपकरण सप्लाई का ठेका दिया. इसमें  उप-ठेकेदारों की सेवा ली गई है. बिजली मंत्रालय के हाल में जारी आदेश के बाद अब कंपनी ने इस पर फैसला लिया है.  बयान के अनुसार, ‘यह आदेश जारी होने के बाद सभी नई /मौजूदा अनुबंधों की समीक्षा की जा रही है और समीक्षा के तहत जम्मू कश्मीर परियोजना के एक उप-ठेकेदार को चीनी कंपनी का सब्सिडियरी पाया गया. हालांकि, कंपनी भारत में पंजीकृत है और उसके विनिर्माण संयंत्र भी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading