वेस्ट प्लास्टिक से बने डीजल से चलेगी आपकी कार! सरकार ने शुरू किया नया प्रोजेक्ट

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 12:03 PM IST
वेस्ट प्लास्टिक से बने डीजल से चलेगी आपकी कार! सरकार ने शुरू किया नया प्रोजेक्ट
देहरादून के आईआईपी (IIP) परिसर में प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाने का प्लांट लगाया गया है. यह दुनिया का चौथा प्लांट है, जहां प्लास्टिक से डीजल के साथ कई तरह के पेट्रो प्रोडक्‍ट तैयार होंगे.

देहरादून के आईआईपी (IIP) परिसर में प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाने का प्लांट लगाया गया है. यह दुनिया का चौथा प्लांट है, जहां प्लास्टिक से डीजल के साथ कई तरह के पेट्रो प्रोडक्‍ट तैयार होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2019, 12:03 PM IST
  • Share this:
देहरादून के आईआईपी (IIP) परिसर में प्लास्टिक वेस्ट से डीजल बनाने का प्लांट लगाया गया है. यह दुनिया का चौथा प्लांट है, जहां प्लास्टिक से डीजल के साथ कई तरह के पेट्रो प्रोडक्‍ट तैयार होंगे. वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे आसानी से डीजल बनाया जा सकेगा, जो वाहनों के साथ औद्योगिक क्षेत्रों में भी इस्तेमाल किया जाएगा. खास बात है कि प्लास्टिक वेस्ट एक चुनौती बन गया है, यह पर्यावरण को जहां नुकसान पहुंचा रहा है. वहीं जीवजंतुओं के लिए भी काफी खतरनाक बना हुआ है.

पशुओं को भी होगा फायदा 
इस प्लांट के जरिए पर्यावरण, नदी, नाले, गोवंश और पशुओं के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. आपको बता दें कि पिछले साल आईआईपी के वैज्ञानिकों ने बायोफ्यूल बनाया था, जिससे देहरादून से दिल्ली तक एरोप्लेन को चला गया था. भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन का कहना है कि ऐसे प्लांट को देश के कई राज्यों में लगाया जाएगा.

ये भी पढ़ें: अब बिना वकील आप लड़ सकेंगे केस, ग्राहकों को मिले ये अधिकार

प्लास्टिक वेस्ट प्लांट मॉडल को अन्य राज्यों में भी अपनाया जाएगा
इस प्लांट को अभी पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया है. अब इसे कमर्शियल लेवल पर शुरू किया जाएगा. प्लांट की पूरी लागत को 3 साल के अंदर निकाला जा सकता है.



जिस तरह से 5 से 10 टन के प्लांट को लगाया जाएगा. सबसे पहले प्लांट से निकलने वाले तेल का इस्तेमाल सरकारी और सेना के वाहनों और संस्थान के अधिकारियों कर्मचारियों के वाहनों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

इस प्‍लांट को 10 साल की कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया है. केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने इस प्लांट का शुभारंभ किया. प्लांट अभी 1 टन की क्षमता का है, जिससे 800 लीटर डीजल बनाने का काम शुरू हो गया है.

ये भी पढ़ें: इन ट्रेनों में अब वेटिंग लिस्ट वालों के टिकट होंगे कन्फर्म!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 12:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...