IOC ने कहा- दिल्ली सरकार के राज्‍य में ज्‍यादा वैट लगाने के कारण पेट्रोल से महंगा हुआ डीजल

IOC ने कहा है कि दिल्‍ली सरकार के वैट बढ़ाने के कारण डीजल की कीमतें पेट्रोल से ऊपर निकल गईं.
IOC ने कहा है कि दिल्‍ली सरकार के वैट बढ़ाने के कारण डीजल की कीमतें पेट्रोल से ऊपर निकल गईं.

देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (IOC) के चेयरमैन संजीव सिंह ने कहा कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार (Delhi Government) ने 5 मई को पेट्रोल पर वैट (VAT) 27 से बढ़ाकर 30 फीसदी और डीजल पर 16.75 से बढ़ाकर 30 फीसदी कर दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 24, 2020, 11:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में पहली बार डीजल के दाम पेट्रोल की कीमत (Price of Petrol-Diesel) से ऊपर निकल गए. दिल्ली में बुधवार को पेट्रोल का दाम 79.76 रुपये रहा, जबकि डीजल की कीमत 79.88 रुपये प्रति लीटर हो गई. देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (IOC) के चेयरमैन संजीव सिंह ने डीजल का दाम पेट्रोल से अधिक होने के लिये राज्य में वैट (VAT) की ऊंची दरों को जिम्‍मेदार ठहराया. उन्‍होंने कहा कि अन्य शहरों में अभी भी पेट्रोल की कीमतें डीजल से ज्‍यादा हैं.

केजरीवाल सरकार ने की थी वैट में भारी बढ़ोतरी
तेल कंपनियों ने 17 दिन की लगातार वृद्धि के बाद बुधवार को 18वें दिन पेट्रोल के दाम स्थिर रखे. वहीं, डीजल के दाम में 48 पैसे की वृद्धि हुई और यह 79.88 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया. विभिन्न राज्यों में बिक्री कर या वैट की दर अलग-अलग होने के कारण ईंधन के दाम अलग होते हैं. पेट्रोल के मुकाबले डीजल की ज्‍यादा कीमत केवल दिल्ली में ही देखने को मिली. दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) सरकार ने पिछले महीने वैट में भारी वृद्धि की है.

ये भी पढ़ें- आयकर विभाग ने PAN और Aadhaar को लिंक करने की समयसीमा बढ़ाई, जानें क्‍या है आखिरी तारीख
डीजल के दाम में एक दिन में हुई रिकॉर्ड बढ़ोतरी


सिंह ने कहा कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने 5 मई को पेट्रोल पर वैट 27 से बढ़ाकर 30 फीसदी और डीजल पर 16.75 से बढ़ाकर 30 फीसदी कर दिया था. वैट में इस वृद्धि से दिल्ली में पेट्रोल का दाम 1.67 रुपये बढ़ा, जबकि डीजल के दाम में एक ही दिन में 7.10 रुपये प्रति लीटर की रिकार्ड वृद्धि हुई. अन्य सभी शहरों में डीजल का दाम पेट्रोल से कम है. इन दोनों ईंधनों के बीच पुणे में अंतर 9.50 रुपये प्रति लीटर तक है, जबकि ज्यादातर राज्यों की राजधानियों और प्रमुख शहरों में दोनों के बीच 3.50 रुपये लीटर तक का अंतर है.

ये भी पढ़ें- सरकार ने टैक्सपेयर्स को दी बड़ी राहत! वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ITR फाइल करने की तारीख 31 जुलाई तक बढ़ाई

राजस्‍थान के बाद दिल्‍ली में सबसे महंगा रहा डीजल
दिल्ली में डीजल का दाम देश भर में दूसरे स्थान पर हैं. राजस्थान में डीजल सबसे महंगा 80.68 रुपये लीटर है. हालांकि, वहां भी पेट्रोल और डीजल की कीमत में 6.17 रुपये का अंतर है. मुंबई में पेट्रोल का दाम 86.54 रुपये, जबकि डीजल का दाम 78.22 रुपये प्रति लीटर है. चेन्नई में पेट्रोल 83.04 रुपये और डीजल 77.17 रुपये प्रति लीटर है. वहीं, कोलकाता में पेट्रोल 81.45 रुपये और डीजल 75.06 रुपये प्रति लीटर है.

ये भी पढ़ें- IMF ने घटाया वैश्विक अर्थव्यवस्था का अनुमान, अमेरिका की GDP 8 फीसदी घटेगी

18 दिन में पेट्रोल 8.50 रुपये तो डीजल 10.49 रुपये प्रति लीटर महंगा हुआ
डीजल के दाम परंपरागत तौर पर पेट्रोल के मुकाबले 18 से 20 रुपये तक कम होते थे, लेकिन समय बीतने के साथ टैक्‍स बढ़ने के कारण यह अंतर कम होता चला गया. बता दें कि लॉकडाउन के दौरान लंबे समय तक ईंधन की कीमतों को स्थिर रखने के बाद 7 जून से पेट्रोल, डीजल के दाम में फिर रोज बदलाव शुरू किया गया था. पिछले 18 दिन में पेट्रोल के दाम में 8.50 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई. वहीं, डीजल के दाम इस दौरान 10.49 रुपये लीटर बढ़ गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज