Home /News /business /

भारतीय ऑर्गेनिक फूड का पूरी दुनिया में डंका, कोरोना संकट के बावजूद 7000 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का किया निर्यात

भारतीय ऑर्गेनिक फूड का पूरी दुनिया में डंका, कोरोना संकट के बावजूद 7000 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का किया निर्यात

साल 2020-21 के दौरान भारत से कई देशों को ऑर्गेनिक फूड का जबरदस्‍त निर्यात किया गया.

साल 2020-21 के दौरान भारत से कई देशों को ऑर्गेनिक फूड का जबरदस्‍त निर्यात किया गया.

भारत से साल 2019-20 में 6,38,998 मीट्रिक टन ऑर्गेनिक फूड का निर्यात (Organic Food Export) किया गया था. भारत ने यह उपलब्धि ऐसे वैश्विक संकट के समय हासिल की है, जब लॉजिस्टिक और ऑपरेशनल चुनौतियां सामने खड़ी थीं. कोरोना काल के बावजूद विभिन्‍न देशों से भारत के ऑयल केक उत्पादों की मांग सबसे अधिक देखी गई.

अधिक पढ़ें ...
नई दिल्‍ली. फार्मास्युटिकल हो या आईटी के क्षेत्रों में भारतीय उत्पादों की मांग पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रही है. इसी कड़ी में भारतीय ऑर्गेनिक फूड (Organic Food) की मांग भी अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया सहित दुनिया के प्रमुख देशों में तेजी से बढ़ी है. कोरोना काल (Corona Crisis) के बावजूद साल 2019-20 की तुलना में वित्त वर्ष 2020-21 में भारत ने 51 फीसदी अधिक ऑर्गेनिक फूड इन देशों को बेचा है. आधिकारिक आंकड़ों पर गौर करें तो साल 2020-21 में भारत ने विभिन्‍न देशों को 1040 मिलियन डॉलर यानी 7078 करोड़ रुपये का ऑर्गेनिक फूड निर्यात किया है. पिछले साल के मुकाबले इस साल भारत ने कुल 39 फीसदी ज्‍यादा यानी 8,88,179 मीट्रिक टन ऑर्गेनिक फूड बेचे हैं.

सबसे अधिक इन उत्पादों की रही है मांग
भारत से साल 2019-20 में 6,38,998 मीट्रिक टन ऑर्गेनिक फूड का निर्यात किया गया था. भारत ने यह उपलब्धि ऐसे वैश्विक संकट के समय हासिल की है, जब लॉजिस्टिक और ऑपरेशनल चुनौतियां सामने खड़ी थीं. कोरोना काल के बावजूद विभिन्‍न देशों से भारत के ऑयल केक उत्पादों की मांग सबसे अधिक देखी गई. इसके अलावा तिलहन, फ्रूट पल्प्स, अनाज व मोटा अनाज, मसाले, अजवाइन, चाय, चिकित्सकीय पौधों के उत्पाद, ड्राई फ्रूट्स, चीनी, दाल, कॉफ़ी सहित कई सामानों का निर्यात किया गया.

ये भी पढ़ें- आपका हर CRED Coin ऑक्‍सीजन पहुंचाकर कोरोना मरीजों की बचाएगा जान, जानें कैसे करें दान

58 देश भेजे जा रहे भारतीय ऑर्गानिक फूड
भारतीय ऑर्गेनिक फूड की मांग ना सिर्फ एशियाई देशों में बल्कि अमेरिका, यूरोपियन यूनियन, कनाडा, ग्रेट ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, स्विट्जरलैंड जैसे देशों में भी बढ़ रही है. भारतीय ऑर्गेनिक फूड की मांग इजरायल और दक्षिण कोरिया में भी खूब देखी गई. दुनिया के इन 58 प्रमुख देशों में भारत उत्पादित और निर्मित ऑर्गेनिक फूड को निर्यात करने के लिए विभिन्‍न मापदंडों पर खरा उतरना पड़ता है. नेशनल प्रोग्राम फॉर ऑर्गेनिक प्रोडक्शन की ओर से तय मापदंडों के तहत अगर ऑर्गेनिक फूड का उत्पादन, प्रसंस्करण, पैकिंग और लेवलिंग की गई है, तभी निर्यात किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- Elon Musk की कार कंपनी टेस्‍ला ने महज दो महीने में बिटक्‍वाइन से की करोड़ों डॉलर की कमाई, जानें कैसे

एनपीओपी प्रमाणपत्र को ये देश हैं मान्‍यता
साल 2001 के बाद से ही अपेडा (APEDA) के तहत NPOP ये मापदंड लागू करती आ रही है. एनपीओपी के प्रमाणपत्र को विभिन्‍न देश मान्यता देते हैं. अप्रसंस्कृत पौधों के उत्पादों के निर्यात के लिए NPOP के प्रमाणपत्र को यूरोपियन यूनियन और स्विट्जरलैंड बिना किसी अतिरिक्त प्रमाण पत्र के मान्यता देते हैं. ब्रेग्जिट के बाद और पहले भी ग्रेट ब्रिटेन भी इस प्रमाणपत्र को मान्यता देता आया है. इसके अलावा द्विपक्षीय मान्यता समझौता के लिए भारत ताइवान, कोरिया, जापान, ऑस्ट्रेलिया, यूएई, न्यूज़ीलैंड के साथ बातचीत कर रहा है ताकि भारतीय ऑर्गेनिक फूड का निर्यात सीधे किया जा सके.undefined

Tags: Business news in hindi, Export, Food and beverage industry, Food business

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर