होम /न्यूज /व्यवसाय /Maiden Pharmaceuticals: विदेश में 66 बच्‍चों की मौत के बाद चर्चा में भारत की कंपनी, क्‍या-क्‍या बनाती है? जानिए

Maiden Pharmaceuticals: विदेश में 66 बच्‍चों की मौत के बाद चर्चा में भारत की कंपनी, क्‍या-क्‍या बनाती है? जानिए

कंपनी के 4 कफ सिरप को लेकर डब्‍ल्‍यूएचओ ने अलर्ट जारी किया है.

कंपनी के 4 कफ सिरप को लेकर डब्‍ल्‍यूएचओ ने अलर्ट जारी किया है.

मेडेन फार्मास्यूटिकल (Maiden Pharmaceuticals) कई देशों में अपने उत्‍पाद निर्यात करती है. कंपनी की स्थापना 1990 में हुई ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आरोप है कि कंपनी के कफ सिरप लेने के कारण ही बच्‍चों की मौत हुई है.
कंपनी 1990 में शुरू हुई थी और कई देशों को दवा निर्यात करती है.
कंपनी की दवा बनाने की एक यूनिट हिमाचल में और एक हरियाणा में है.

नई दिल्‍ली. गाम्बिया में 66 बच्चों की कफ सिरप लेने की वजह से मौत हो गई. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने बुधवार को भारत की फार्मा कंपनी मेडेन फार्मास्यूटिकल के बनाए इन 4 कफ-सिरप को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है. इसके बाद से ही यह कंपनी चर्चा में है. कंपनी का एक प्लांट हरियाणा के सोनीपत में है. वहीं, हिमाचल के बद्दी में भी कंपनी की एक यूनिट है. हरियाणा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज ने मीडिया को बताया कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की एक टीम ने दवा कंपनी से सिरप के 5 सैंपल लिए हैं.

सवालों में घिरे कंपनी के चारों कफ-सिरप के नाम प्रोमेथाजिन ओरल सॉल्यूशन, कोफेक्समालिन बेबी कफ-सिरप, मकॉफ बेबी कफ-सिरप और मैग्रिप एन कोल्ड सिरप हैं. मेडेन फार्मास्यूटिकल कई देशों में अपने उत्‍पाद निर्यात करती है. अफ्रीका, एशिया, पूर्वी यूरोप, मध्य पूर्व और रूस में कंपनी के उत्‍पाद बेचे जाते हैं. विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने अब नियामकों से कंपनी के उत्‍पादों को बाजार से हटाने के प्रबंध करने को कहा है. कंपनी की स्थापना 1990 में हुई थी और 3 दशकों में कंपनी ने काफी प्रगति की है. रिसर्च एंड डेवलपमेंट फिल्‍ड में कंपनी ने खुद को स्‍थापित किया है.

ये भी पढ़ें-  Zerodha के नितिन कामत ने बताए हेल्दी लाइफस्टाइल के 3 मंत्र! क्या अपना पाएंगे आप?

अच्‍छी उत्‍पादन क्षमता
लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी की वेबसाइट के मुताबिक, मेडेन फार्मास्युटिकल्स एक महीने में 10 करोड़ टैबलेट और 6 करोड़ कैप्सूल का उत्पादन करने में सक्षम है. कंपनी करीब 60 लाख लिक्विड इंजेक्शन और इतनी ही मात्रा में ड्राई पाउडर इंजेक्शन भी एक महीने में बनाती है. इसके अलावा, कंपनी मासिक आधार पर 5 करोड़ मिलियन आई ड्रॉप के साथ 10 करोड़ ओरल लिक्विड और 5 करोड़ ऑइंटमेंट भी बनाती है.

क्‍या-क्‍या बनाती है ये कंपनी
जीवन रक्षक दवाओं से लेकर एंटी-एलर्जी और एंटीबायोटिक तक, कंपनी हर श्रेणी में कई तरह के दवा उत्पाद बनाती है. खांसी और सर्दी के लिए मेडेन फार्मास्यूटिकल्स 13 से 15 दवाएं बनाती है. कंपनी वयस्कों के साथ-साथ बच्चों के लिए कैप्सूल, टैबलेट और सिरप बनाती है. एंटीबायोटिक्स कैटेगरी में कंपनी 40-50 उत्‍पाद बनाती है. यही नहीं, कंपनी एंटी-एलर्जिक और एंटिफंगल श्रेणी में भी कम से कम 15 प्रोडक्‍ट बनाती है. इनमें टैबलेट, कैप्‍सूल और मलहम शामिल हैं.

ये भी पढ़ें-  OPEC+ द्वारा उत्पादन घटाने की खबर से बढ़े क्रूड ऑयल के दाम, जानिए आपको क्या होगा नुकसान!

मेडेन फार्मास्यूटिकल्स मलेरिया रोधी और दर्दनिवारक दवाओं का भी उत्‍पादन करती है. इन दवाओं की भारत के साथ ही दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया जैसे देशों में काफी मांग है, जहां मलेरिया का ज्‍यादा प्रकोप होता है. कंपनी हृदय संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए भी दवाएं बनाती है. इस श्रेणी उसके पोर्टफोलियो में करीब 20 प्रोडक्‍ट शामिल हैं. मधुमेह के इलाज में काम आने वाली कम से कम 5 दवाएं भी कंपनी बनाती है.

इन देशों में जाती है मेडेन फार्मास्यूटिकल्स की दवा
कंपनी लीबिया, लाइबेरिया, बुर्किना फासो, कंबोडिया, सूडान, नाइजीरिया, बोत्सवाना, सिएरा लियोनियन, डोमिनिकन को दवाओं का निर्यात करती है. इसके अलावा ईरान, इराक, तुर्की, अफगानिस्तान, तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात, म्यांमार, भूटान और फिलीपींस में भी दवा भेजती है. कंपनी के ग्राहकों में वेनेजुएला, चिली, कोस्टा रिका और आइवरी कोस्ट भी शामिल हैं.

Tags: Business news in hindi, Drug, Health and Pharma News, WHO

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें