लाइव टीवी

रेलवे पर भी पड़ी आर्थिक सुस्ती की मार! ट्रेन टिकट की बुकिंग 1.27% गिरी- RTI से खुलासा

भाषा
Updated: October 27, 2019, 3:02 PM IST
रेलवे पर भी पड़ी आर्थिक सुस्ती की मार! ट्रेन टिकट की बुकिंग 1.27% गिरी- RTI से खुलासा
आर्थिक सुस्ती का असर भारतीय रेल के राजस्व पर पड़ा

आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) की वजह से ट्रेन टिकट की बुकिंग (Ticket Booking) भी प्रभावित हुई. पिछले साल अप्रैल-सितंबर के मुकाबले 2019-20 की इसी अवधि में बुकिंग में 1.27 प्रतिशत की गिरावट आई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) का असर दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क में से एक भारतीय रेल (Indian Railway) के राजस्व पर भी दिखने लगा है. चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में रेलवे की यात्री किराये (Passenger Fares) से आमदनी साल की पहली तिमाही के मुकाबले 155 करोड़ रुपये और माल ढुलाई (Freight Fares) से आय 3,901 करोड़ रुपये कम रही. सूचना के अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई जानकारी से यह खुलासा हुआ.

RTI से हुआ खुलासा
मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में नीमच (Neemuch) के आरटीआई कार्यकर्ता चंद्र शेखर गौड़ की ओर से दायर RTI आवेदन से खुलासा हुआ है कि 2019-20 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में यात्री किराये से 13,398.92 करोड़ रुपये की आय हुई थी. यह आय जुलाई-सितंबर तिमाही में गिरकर 13,243.81 करोड़ रुपये रह गई. इसी प्रकार, भारतीय रेल को माल ढुलाई से पहली तिमाही में 29,066.92 करोड़ रुपये की कमाई हुई जो कि दूसरी तिमाही में काफी कम होकर 25,165 करोड़ रुपये रह गई.

ये भी पढ़ें: Diwali 2019: रेलवे ने दिवाली के दिन रद्द की 200 से ज्यादा ट्रेनें, यात्रा से पहले यहां देखें पूरी लिस्ट

टिकटों की बुकिंग गिरी
आर्थिक सुस्ती की वजह से टिकट की बुकिंग भी प्रभावित हुई. पिछले साल अप्रैल-सितंबर के मुकाबले 2019-20 की इसी अवधि में बुकिंग में 1.27 प्रतिशत की गिरावट आई है. रेलवे ने आर्थिक नरमी से निपटने के लिए कई उपाय किए हैं. उसने हाल ही में व्यस्त समय में माल ढुलाई पर अधिभार हटा लिया है और एसी चेयर कार तथा एक्जिक्यूटिव क्लास सिटिंग वाली ट्रेनों के किराए में 25 प्रतिशत छूट की पेशकश की है.

राजस्व जुटाए के लिए उठाए ये उपाय
Loading...

इसके अलावा, 30 साल से पुराने डीजल इंजन को हटाने की पहल शुरू करना, ईंधन बिल में कटौती, किराये के अतिरिक्त राजस्व के विकल्प सृजित करना और भूमि को किराये पर देने या बेचने जैसे कदम उठाए हैं. रेलवे बार्ड ने पिछले महीने सभी 17 मंडलों को सुस्ती से निपटने के लिए उपाय करने को कहा है.

ये भी पढ़ें- दिवाली पर ट्रेन में ये चीजें ले जाना पड़ सकता है महंगा, पकड़े जाने पर हो सकती है 3 साल की जेल

ढुलाई में गिरावट चिंता का कारण
रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, माल ढुलाई में गिरावट चिंता का कारण है. कोयला खदानों में पानी भरने से कोयला लदान प्रभावित हुआ है, जबकि इस्पात और सीमेंट क्षेत्र आर्थिक सुस्ती की मार झेल रहे हैं. हालांकि, हमने इन नुकसानों को कम करने के लिए उपाय किए हैं और उम्मीद है कि इस समस्या से मजबूत होकर बाहर निकलेंगे.

ये भी पढ़ें- सिर्फ 10 हजार रुपये में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी मोटी कमाई

GoAir का दिवाली डे फ्लैश सेल, 1,292 रुपये में बुक करें टिकट

बेनामी संपत्ति से निपटने के लिए मोदी सरकार का बड़ा प्लान, आधार से लिंक होगी प्रॉपर्टी- रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 27, 2019, 1:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...