Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    पार्सल ट्रेनों से कमाई में इजाफा के लिए रेलवे की नई रणनीति, ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की भी तैयारी

    इंडियन रेलवे
    इंडियन रेलवे

    Indian Railway ने गुरुवार को पार्सल ट्रेनों की ट्रैफिक (Railway Parcel Traffic) बढ़ाने की योजना के बारे में जानकारी दिया है. इसके लिए रेलवे कई स्तर पर जरूरी कदम उठा रहा है. साथ ही, ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने के लिए भी काम किया जा रहा है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव ने इसकी जानकारी दी है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 15, 2020, 8:48 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. इंडियन रेलवे (Indian Railway) अब गुड शेड डेवलपमेंट (Good Shed Development) को लेकर नई पॉलिसी लेकर आया है. इस पॉलिसी के तहत गुड शेड डेवलपमेंट का काम भी पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (Public-Private Partnership) के तहत किया जाएगा. प्राइवेट कंपनियों के ​चयन का काम बिडिंग के जरिए किया जाएगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव ने गुरुवार को इस बारे में जानकारी दी है. इसके अलावा, माल ढुलाई बिजनेस डेवलपमेंट (Freight Business Development) के लिए पोर्टल भी लॉन्च किया गया है. इस पोर्टल के जरिए सभी स्टेकहोल्डर्स इंडियन रेलवे से फ्रेट बिजनेस को लेकर प्रोफेशनल मदद प्राप्त कर सकेंगे. साथ ही, वैगन को ट्रेस और ट्रैक करने का काम भी पूरा हो सकेगा.

    पार्सल ट्रैफिक बढ़ाने पर ध्यान
    पार्सल ट्रेनों की ट्रैफिक बढ़ाने के लिए रेलवे कई कदम उठाने की योजना बना रहा है. इसके तहत पार्सल बिजनेस में भी 120 दिन पहले एडवांस बुकिंग की सुविधा दी जाएगी. अभी तक करीब 19,600 टन की क्षमता को 3,400 ट्रिप्स के जरिए पूरा करने की बुकिंग हो चुकी है. पार्सल ट्रैफिक के मामलों के लिए मंडल और ज़ोनल स्तर पर टीम बनाई जाएंगी. पार्सल ट्रेनों की ट्रैफिक के लिए रेलवे जोन को भी सशक्त किया जाएगा.

    यह भी पढ़ें: कहीं ट्रैवल किए बिना भी ले सकेंगे LTC कैश वाउचर स्कीम का लाभ, सरल भाषा में समझें इसके नियम
    स्पेशल ट्रेनों में 96 फीसदी तक ऑक्यूपेंसी


    रेलवे बोर्ड के चेयरमैन (Railway Board Chairman) ने कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद अब 682 स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं. 20 क्लोन ट्रेनों का संचालन भी किया जा रहा है. वी के यादव ने बताया कि स्पेशल ट्रेनों में करीब 96 फीसदी ऑक्यूपेंसी के साथ चल रही हैं, जबकि क्लोन ट्रेनों के ​लिए यह आंकड़ा करीब 82 फीसदी है. उन्होंने बताया कि 416 फेस्टिव स्पेशल ट्रेनें भी चलाई जा रही है



    यह भी पढ़ें: ये हैं 5 बेस्ट जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट, आज ही खुलवाएं खाता और कमाएं बंपर फायदा

    ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने पर जोर
    उन्होंने यह भी बताया कि स्लीपर क्लास कोच को जारी रखा जाएगा. साथ ही रेलवे ट्रेनों की स्पीड़ बढ़ाने की तैयारी भी कर रहा है. अभी तक ट्रेनें 110 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं. गोल्डन क्वॉड्रिलेटरल के नई दिल्ली से मुम्बई और नई दिल्ली से कोलकत्ता पर जून 2021 तक 130 kmph पर ट्रेनें चलेंगी.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज