एक रुपये में थर्मल स्क्रीनिंग के जरिए करवाएं बुखार की जांच, 19 रेलवे स्टेशनों पर सुविधा शुरू

रेलवे स्टेशन पर भी होगी स्कीनिंग की व्यवस्था
रेलवे स्टेशन पर भी होगी स्कीनिंग की व्यवस्था

Coronavirus : भारतीय रेलवे ने स्टेशनों पर यात्रियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग (Thermal Screening) की व्यवस्था की है. रेल यात्री मात्र 1 रुपये देकर बुखार की जांच थर्मल स्क्रीनिंग के जरिए करवा सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2020, 7:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले देश में लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इसे देखते हुए भारतीय रेलवे ने स्टेशनों पर यात्रियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग (Thermal Screening) की व्यवस्था की है. रेल यात्री मात्र 1 रुपये देकर बुखार की जांच थर्मल स्क्रीनिंग के जरिए करवा सकेंगे. इसके अलावा, रेलवे स्टेशनों पर साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है. इसके अलावा लगातार सैनेटाइजेशन भी हो रहा है.

1 रुपये में कराएं थर्मल स्क्रीनिंग
कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए रेलवे ने यात्रियों को बड़ी सुविधा दी है. यात्री रेलवे स्टेशनों पर एक रुपये में बुखार की थर्मल स्क्रीनिंग करवा सकते हैं. एक रुपये वाला क्लिनिक मुंबई के 19 रेलवे स्टेशनों पर काम कर रहा है. यह सर्विस मुंबई के सेंट्रल, हार्बर और वेस्टर्न लाइन पर उपलब्ध है. इस क्लिनिक में यात्री तापमान, ब्लड प्रेशर, ऑक्सीजन लेवल, कंसल्टेशन, प्रेसक्रिप्शन और काउंसलिंग की सुविधा मिलेगी. अगर किसी यात्री में अधिक तापमान पाया जाता है तो उसे नजदीकी सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा.

कैसे काम करता है थर्मल स्कैनर?
थर्मल स्कैनर ऐसा उपकरण या सिस्टम है, जिसके जरिए कोरोना वायरस या फिर किसी और रोग से ग्रसित व्यक्ति की पहचान की जा सकती है. थर्मल स्कैनर एक इंफ्रारेड कैमरे की तरह काम करता है. इस स्कैनर के जरिए गुजरने वाले व्यक्ति के शरीर में मौजूद वायरस इंफ्रारेड तस्वीरों में दिखाई पड़ते हैं, वायरस की संख्या अधिक या खतरनाक स्तर पर होने पर व्यक्ति के शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है. लिहाज, इससे पता चल जाता है कि व्यक्ति किसी संक्रमण से ग्रसित है और आसानी से उसकी पहचान हो जाती है.



ये भी पढ़ें: PPF, सुकन्या स्कीम में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! एक अप्रैल से घट सकता है मुनाफा

Railway ने खाने को लेकर बनाए सख्त कदम
रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे और इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) को कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए एक गाइडलाइंस जारी की है. जिसे इंडियन रेलवे नेटवर्क पर सभी खानपान प्रतिष्ठानों पर लागू किया जाना है. रेलवे बोर्ड ने कहा है कि खांसी, बुखार, नाक बहने या सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षण वाले किसी भी कर्मचारी को भोजन बनाने, परोसने या बेचने के लिए नहीं तैनात करना चाहिए. खानपान प्रतिष्ठानों में तैनात सभी सुपरवाइजर्स को व्यक्तिगत तौर पर स्वच्छता बनाए रखने के लिए कहा गया है. साथ ही इस संबंध में अपने अधीन काम करने वाले को सलाह देने का निर्देश दिया गया है.

भोजन बनाने और कैटरिंग सर्विस में तैनात सभी कर्मचारियों को नियमित रूप से अपनी यूनिफॉर्म को धोने और ड्यूटी पर साफ यूनिफॉर्म पहनने के लिए निर्देशित किया गया है. खाने पीने वाली चीजों की बेहतर पैकिंग की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है. साथ ही यदि संभव हो खुली वस्तुओं के उपयोग से बचने के लिए कहा गया है. सभी खान-पान चीजों को अच्छी जगह रखने के लिए कहा गया है.

ये भी पढ़ें: अमेरिकी सरकार घर-घर जाकर बांटेगी 74000 रुपये का चेक, जानिए पूरा मामला

(दिपाली नन्दा, संवाददाता- CNBC आवाज़)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज