रेलवे पुलिस अभी तक नहीं चेक कर सकती यात्रियों का टिकट, जानिए क्या हैं ट्रेन टिकट चेकिंग के नियम?

रेलवे पुलिस अभी तक नहीं चेक कर सकती यात्रियों का टिकट, जानिए क्या हैं ट्रेन टिकट चेकिंग के नियम?
रेलवे पुलिस चेक नहीं कर सकती यात्रियों का टिकट, जानिए यात्रियों के अधिकार?

क्या आपको रेलवे टिकट चेकिंग के उन प्रावधानों की जानकारी है जिसके तहत आपका टिकट सिर्फ पुलिस नहीं चेक कर सकती? आरपीएफ को चलती ट्रेन या फिर प्‍लेटफार्म पर टिकट चेक करने का अधिकार नहीं है. आइये आपको बताते हैं रेलवे के टिकट चेकिंग के रूल्स के बारे में..

  • Share this:
नई दिल्ली. क्या आपको रेलवे टिकट चेकिंग के उन प्रावधानों की जानकारी है जिसके तहत आपका टिकट सिर्फ पुलिस नहीं चेक कर सकती? आरपीएफ को चलती ट्रेन या फिर प्‍लेटफार्म पर टिकट चेक करने का अधिकार नहीं है. यह काम केवल टीटीई ही करेगा. बेटिकट यात्रियों को जुर्माना करने की पावर सिर्फ अधिकृत टिकट चेकिंग स्‍टाफ को ही है. आइये आपको बताते हैं रेलवे के टिकट चेकिंग के रूल्स के बारे में..

(1) कौन कर सकता हैं टिकट चेक- आपकी यात्रा के दौरान ट्रैवल टिकट एग्जामिनर (TTE) ही आपकी टिकट जांच सकता है. रेलवे की ओर से जारी नियम बताते हैं कि रात 10 बजे के बाद TTE भी आपको डिस्टर्ब नहीं कर सकता है.

(2) टीटीई को सुबह 6 से रात 10 बजे के बीच ही टिकटों का वेरिफिकेशन करना जरूरी है. रात में सोने के बाद किसी भी पैसेंजर को डिस्टर्ब नहीं किया जा सकता. यह गाइडलाइन रेलवे बोर्ड की है. हालांकि, रात को 10 बजे के बाद यात्रा शुरू करने वाले यात्रियों पर यह नियम लागू नहीं होता.



यह भी पढ़ें:  नौकरी छोड़ 2 लाख में शुरू करें बांस की बोतल का बिज़नेस, मोदी सरकार करेगी मदद
(3) आप कर सकते हैं शिकायत- अगर आपके पास टिकट नहीं  है या फिर उसमें कोई दिक्‍कत है तो टीटीई से ही बात करें. आरपीएफ वाला उसमें कुछ नहीं करेगा. कोई पुलिसकर्मी अगर आपका टिकट चेक करने की जिद करे या धमकाए तो उसके वरिष्ठ अधिकारी से इसकी शिकायत कर सकते हैं.

>> इंडियन रेलवे ने करप्शन खत्म करने के लिए नंबर जारी किया हुआ है. रेलवे यूजर 155210 पर फोन करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. यहां आप इंडियन रेलवे से जुड़ी किसी भी सर्विस के लिए 24 घंटे शिकायत कर सकते हैं और सलाह दे सकते हैं.

>> रेलवे के जारी किए एसएमएस नंबर 9717630982 पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

>> गूगल प्ले स्टोर से इंडियन रेलवे का ऐप 'इंडियन रेलवे सीओएमएस मोबाइल ऐप' डाउनलोड करके भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

>> शिकायतकर्ता सेंट्रलाइज्ड पब्लिक ग्रेविएंस रिड्रेस एंड मॉनिटरिंग सिस्टम की वेबसाइट पर जाकर भी कंप्लेंट दर्ज करा सकते हैं. यहां शिकायत करने पर आपको कंप्लेंट नंबर मिलेगा. इस नंबर के जरिए आप अपनी शिकायत पर की गई कार्रवाई को ट्रैक कर सकते हैं.

>> शिकायतकर्ता रेलवे के ट्विटर पेज twitter@RailMinIndia और फेसबुक पेज facebook.com/RailMinIndia पर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस के बीच Parle-G ने रचा इतिहास, टूटा 82 साल का सेल का रिकॉर्ड

(4) हो सकती हैं सख्त कार्रवाई- रेलवे सिक्‍योरिटी से जुड़े एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने न्यजू18हिंदी को बताया है कि अगर कोई पुलिसकर्मी टिकट चेकिंग या जुर्माना वसूलते पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की जाएगी. टिकट चेक करने का अधिकार रेलवे पुलिस को कभी नहीं था. इसलिए यदि कोई वर्दीवाला टिकट चेक करता है तो वह गलत है. इसे बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा.

(5) रेलवे के बड़े अधिकारियों को अगर अवैध टिकट चेकिंग की जानकारी मिलती है तो वे आरोपी पर सस्‍पेंड करने तक की कार्रवाई कर देते हैं. इसलिए अपने अधिकारों को लेकर सचेत रहिए.

(6) रेलवे अधिकारी ने बताया कि मजिस्‍ट्रेट छापे जैसी कार्रवाई के दौरान ही रेलवे पुलिस सिर्फ टिकट चेक करने में सहायता कर सकती है. वरना इसके लिए सिर्फ कॅमर्शियल स्‍टाफ अधिकृत है.

रेलवे पुलिस को मिल सकती है टिकट चेकिंग की जिम्मेदारी 
रेलवे बोर्ड (Railway Board) के पास भेजे गए नए प्रस्ताव में रेलवे यात्री टिकट (Train Ticket) को प्रिंट करना बंद किया जाएगा. स्टेशन मास्टर्स (Station Masters) का सिग्नल मेंटेनर के रूप में काम करना, टीटी (TTE) की जगह आरपीएफ (Railway Police Force) स्टाफ और यात्रा के दौरान ट्रेन में मौजूद तकनीशियन टिकट की जांच (Ticket Checking) करने का प्रस्ताव दिया गया है. आपको बता दें कि बदलाव संबंधी ये सभी प्रस्ताव रेलवे को उसके अलग-अलग जोन से प्राप्त हुए हैं. हालांकि, रेलवे बोर्ड द्वारा अभी इस पर कोई फैसला नहीं लिया गया है.

यह भी पढ़ें: PM Kisan Scheme में 6000 रुपये पाने वालों की नई लिस्ट जारी, ऐसे चेक करें नाम

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज