राहत! ट्रेनों को लेट होने से रोकने के लिए रेलवे की नई योजना!

रेलवे ने रैंकिंग की नई व्यवस्था शुरू की है. इसके लिए रेलवे अब ट्रेनों के लेटतलीफी के रिकार्ड को सार्वजनिक करने जा रही है. ट्रेनों का ये रिपोर्ट कार्ड हर माह निकाला जाएगा. इस नई कवायद का मकसद ट्रेनों को समय से चलाना है

Chandan Kumar
Updated: July 19, 2019, 3:21 PM IST
राहत! ट्रेनों को लेट होने से रोकने के लिए रेलवे की नई योजना!
अब लेट नहीं होंंगी ट्रेनें
Chandan Kumar
Updated: July 19, 2019, 3:21 PM IST
अगर आप रेल यात्री हैं और ट्रेनों के लेट चलने को लेकर परेशान हैं तो ये खबर आपको सुकून दे सकती है. ट्रेनों को समय पर चलाने के लिए भारतीय रेल एक ऐसा प्रयोग करने जा रहा है जो कभी असफल नहीं होता. भारतीय रेल अब रैंकिंग की नई व्यवस्था शुरू करने जा रही है. रेलवे अब ज़ोन और डिवीजन के हिसाब से ट्रेनों के लेट लतीफी के रिकार्ड को सार्वजनिक करने जा रही है. अब ये सूची हर माह निकाली जाएगी और विभाग के तमाम अफसरों को भेजी जाएगी. रेलवे की इस नई कवायद का मकसद अपने रिकॉर्ड सुधारने के लिए दबाव बनाना है.

हर माह निकलेगी रेलवे की परफॉर्मेंस रिपोर्ट
भारतीय रेल ने ट्रेनों को सही समय पर चलाने और अधिकारियों पर दबाव बनाने का अनोखा तरीका ढूंढ निकाला है. भारतीय रेल अब ट्रेन पंक्चुआलिटी के मामले में सबसे ख़राब रिकॉर्ड वाले ज़ोन और डिवीजन को सार्वजनिक रूप से शर्मिंदा करने जा रहा है.

इसके लिए घटिया रिकॉर्ड वाले ज़ोन और डिवीजन के नाम हर सप्ताह तमाम अधिकारियों को भेजे जाएंगे. सूत्रों के मुताबिक अब हर माह ऐसे रिकॉर्ड वाले नामों की सूची भी निकाली जाएगी और उसे रेलवे में सार्वजनिक किया जाएगा. इसका मकसद संबंधित ज़ोन और डिवीजन को अपने रिकॉर्ड सुधारने के लिए दबाव बनाना है.

फिसड्डी रहा नार्थ सेंट्रल रेलवे ज़ोन, केवल 57% ट्रेनें की समय से चलीं
पिछले हफ्ते ट्रेनों की पंक्चुआलिटी के लिहाज से सबसे फिसड्डी ज़ोन की यदि बात करें तो नार्थ सेंट्रल रेलवे ज़ोन की केवल 57% ट्रेनें ही समय से चलीं. साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे ज़ोन की 61% ट्रेनें समय से चलीं, ईस्ट सेंट्रल रेलवे ज़ोन और नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ज़ोन की 65% ट्रेनें समय की पाबंद रहीं. ईस्ट कोस्ट रेलवे ज़ोन की 65%, साउथ ईस्टर्न रेलवे ज़ोन की 67%, नॉर्थ फ्रंटियर रेलवे ज़ोन की 68% और नॉर्दर्न रेलवे की 69% ट्रेनें समय से चलीं.

फिसड्डी रहा वाराणसी रेल मंडल
Loading...

पिछले हफ्ते ट्रेनों की पंक्चुआलिटी के लिहाज से सबसे फिसड्डी रेल मंडल की यदि बात करें तो वाराणसी मंडल की 49% ट्रेनें ही समय से चलीं, जबकि 374 ट्रेनें लेट हुईं. लखनऊ मंडल की भी 49% ट्रेनें ही समय से चलीं, जबकि 786 ट्रेनें लेट हुईं. इलाहाबाद मंडल की 50% ट्रेनें ही समय से चलीं, जबकि 753 ट्रेनें लेट हुईं.चक्रधरपुर मंडल की भी 50 % ट्रेनें समय से चलीं, जबकि 257 ट्रेनें लेट हुईं. भुसावल मंडल की 52% ( 561 ट्रेनें लेट हुईं), बिलासपुर मंडल की 55% ( 208 ट्रेनें लेट हुईं) और मुरादाबाद मंडल की 55% ट्रेनें समय से चलीं, जबकि 421 ट्रेनें लेट हुईं.

ये भी पढ़ें -

यूपी में दोगुनी हो सकती हैं बिजली की नई दरें

करोड़ों की संपत्ति का मालिक बना ये बंदर, शादी में मिलेगा आलीशान महल
First published: July 19, 2019, 3:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...