त्‍योहारी सीजन में हर व्‍यस्‍त रूट पर चलेंगी 1-2 क्‍लोन ट्रेन, 200 से ज्‍यादा फेस्टिवल स्‍पेशल भी दौड़ेंगी

त्‍योहारी सीजन (Festive Season) में हर व्‍यस्‍त रूट्स पर एक से दो क्‍लोन ट्रेनें (Clone Trains) चलाई जाएंगी.
त्‍योहारी सीजन (Festive Season) में हर व्‍यस्‍त रूट्स पर एक से दो क्‍लोन ट्रेनें (Clone Trains) चलाई जाएंगी.

रेलवे बोर्ड (Railway Board) के चेयरमैन और सीईओ विनोद कुमार (CEO Vinod Kumar Yadav) ने बताया कि अभी 40 क्‍लोन ट्रेनें (Clone Trains) चलाई गई हैं. इन ट्रेनों में कुल क्षमता की 60 फीसदी सीटें रिजर्व हो रही हैं. साथ ही बताया कि रेलवे चौथी किसान रेल शुरू करने वाला है. स्‍टेशनों पर यूजर चार्ज (User Charges) वसूलने पर कहा कि अभी इस पर फैसला नहीं लिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 8:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने पिछले कुछ दिनों में कई फैसले लिए हैं, जिनकों लेकर लोगों में काफी भ्रम की स्थिति पैदा हो गई थी. ऐसे में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ विनोद कुमार यादव (CEO VK Yadav) ने रेलवे की योजनाओं को लेकर जानकारी दी. उन्‍होंने बताया कि त्‍योहारी सीजन (Festive Season) में हर व्‍यस्‍त रूट्स पर एक से दो क्‍लोन ट्रेनें (Clone Trains) चलाई जाएंगी. उन्‍होंने बताया कि रेलवे ने अभी 40 क्‍लोन ट्रेनें ही चलाई हैं, जिनमें औसतन 60 फीसदी सीटें रिजर्व हो रही हैं. सभी डीआरएम को निर्देश दिए गए हैं कि वे राज्‍यों से बताचीत कर डिमांड की जानकारी जुटाएं.

'जरूरत होने पर बढ़ाई जा सकती है फेस्टिवल स्‍पेशल की संख्‍या'
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन यादव ने बताया कि त्‍योहारी सीजन में रेलवे 200 से ज्‍यादा फेस्टिवल स्‍पेशल ट्रेनें चलाएगा. वहीं, जरूरत महसूस होने या ज्‍यादा डिमांड होने पर स्‍पेशल ट्रेनों की संख्या बढ़ाई भी जा सकती है. इस दौरान उन्होंने बताया, 'रेलवे हर दिन आकलन करता है कि किन रूट्स पर वेटिंग लिस्ट तीन से चार दिन लंबी है. इसके बाद जिन रूट्स पर वेटिंग लंबी होती है, वहां एक क्लोन ट्रेन चला दी जाती है. अगर पहली क्लोन ट्रेन भर जाती है तो तुरंत दूसरी क्लोन ट्रेन चला दी जाती है.

ये भी पढ़ें- केंद्र सरकार ने बदले नियम! सड़क दुर्घटना में मदद करने वाले को नहीं देनी होगी पर्सनल डिटेल
हर क्‍लोन ट्रेन में औसतन 60 फीसदी सीटें हो रही हैं रिजर्व


यादव ने बताया कि हर क्लोन ट्रेन में औसतन 60 फीसदी सीटें भर रही हैं. बता दें कि क्‍लोन ट्रेन की रफ्तार मेन ट्रेन से ज्‍यादा है और इसके स्‍टॉपेज भी कम हैं. इससे क्‍लोन ट्रेन जल्‍दी सफर पूरा कर रही है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने बताया कि क्‍लोन ट्रेनों में लंबी दूरी की यात्रा करने वाले लोग सफर करना ज्‍यादा पंसद कर रहे हैं. वहीं, कम दूरी वाले लोग मेन ट्रेन से ही जा रहे हैं ताकि अपने स्‍टेशन पर उतरने में उन्‍हें दिक्‍कत ना हो. इस दौरान उन्होंने बताया कि इस त्योहारी मौसम में ट्रेन के साथ खास कैंपेन भी चलाया जाएगा.

ये भी पढ़ें- खुशखबरी- अब खाना पकाना और गाड़ी चलाना जल्द होगा सस्ता, त्योहारों से पहले सरकार ने लिया बड़ा फैसला

कैंपेन के तहत यात्रियों को कोरोना के प्रति करेंगे जागरूक
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन यादव ने कहा कि कैंपेन के तहत यात्रियों को कोरोना के प्रति जागरूक किया जाएगा. उन्‍हें हाथ बार-बार धोने, मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिटंग बनाए रखने को लेकर प्रोत्‍साहित किया जाएगा. साथ ही स्टेशनों के आस-पास के गांवों के लोगों को भी कोरोना से बचने के उपायों के बारे में बताया जाएगा. इस दौरान उन्‍होंने स्‍टेशनों पर यूजर चार्ज वसूलने के बारे में कहा कि अभी इस पर कोई निर्णय नहीं हुआ है. अभी ज्‍यादा यात्रियों और रिडेवलप किए जाने वाले स्‍टेशनों के लिए इस विकल्प पर विचार हो रहा है.

ये भी पढ़ें - टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत: ITR फाइल करने की डेडलाइन दो महीने बढ़ी, अब 30 नवंबर तक का समय

नागपुर से दिल्‍ली के बीच चलाई जाएगी चौथी किसान रेल
यादव ने बताया कि रेलवे जल्‍द ही चौथी किसान रेल शुरू करने की तैयारी कर रहा है, जो नागपुर से दिल्‍ली के बीच चलाई जाएगी. उन्‍होंने बताया कि अब तक शुरू की गईं तीनों किसान रेल अच्छा काम कर रही हैं. इससे किसानों की फसल को देश के एक कोने से दूसरे कोने में भेजना आसान हो गया है. ज्‍यादा से ज्‍यादा संख्‍या में किसान रेल चलाने की देशभर से मांग आ रही है. इस पर काम किया जा रहा है, जिससे किसानों को काफी मदद मिलेगी. उन्‍होंने बताया कि किसान रेल अनुरोध मिलने के एक-दो दिन में चला दी जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज