दूध दुरंतो स्पेशल ट्रेन ने पार किया 4 करोड़ लीटर का आंकड़ा, रोजाना आंध्र प्रदेश से दूध पहुंच रहा दिल्ली

ट्रेन ने अब तक सफलतापूर्वक 4 करोड़ लीटर दूध की आपूर्ति की
ट्रेन ने अब तक सफलतापूर्वक 4 करोड़ लीटर दूध की आपूर्ति की

रेलवे ने निर्बाध दूध की आपूर्ति करने के लिए दुध दुरंतो स्पेशल ट्रेन (Doodh Duronto Special Train) चलाई है. हाल ही में दूध की आपूर्ति करने वाली ट्रेन सेवा ने 4 करोड़ लीटर का आंकड़ा पार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 4:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे की किसान स्पेशल ट्रेन देशभर में विक्रेता और ग्राहक को नजदीक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. कोरोना काल में भारतीय रेलवे सुदूर क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के साथ-साथ विभिन्न राज्यों से फलो व सब्जियों की ढुलाई, दूध की आपूर्ति कर रहा है. रेलवे ने निर्बाध दूध की आपूर्ति करने के लिए दुध दुरंतो स्पेशल ट्रेन (Doodh Duronto Special Train) चलाई है. हाल ही में दूध की आपूर्ति करने वाली ट्रेन सेवा ने 4 करोड़ लीटर का आंकड़ा पार किया है. इसका मतलब है कि ट्रेन ने अब तक सफलतापूर्वक 4 करोड़ लीटर दूध की आपूर्ति की है.

रेनिगुंटा रेलवे जंक्शन से हजरत निजामुद्दीन- दूध दूरंतो स्पेशल ट्रेन आंध्र प्रदेश के रेनिगुंटा रेलवे जंक्शन से हजरत निजामुद्दीन के बीच 2,300 किमी की दूरी 36 घंटे में पूरी करती है. इसकी शुरुआत 26 मार्च से सप्ताह में एक या दो दिन के लिए हुई थी. लेकिन डेयरी से जुड़े लोगों में इसकी लोकप्रियता का आलम यह है कि अब यह ट्रेन 15 जुलाई से रोजाना चलाई जा रही है. रेलवे के मुताबिक दूध दूरंतो स्पेशल में सामान्य रूप से दूध से भरे छह टैंकर लगाए जाते हैं. प्रत्येक टैंकर में 40 हजार लीटर से अधिक दूध होता है.

ये भी पढ़ें : Indian Railways: छठ पर घर जाने का बना रहे प्लान तो इन स्पेशल ट्रेंन में खाली हैं सीटें, फटाफट बुक करें टिकट, देंखें पूरा टाइमटेबल



रेलवे को प्राप्त हुआ 15 करोड़ रुपये का राजस्व- भारतीय रेलवे के मुताबिक दूध दूरंतो ट्रेन के साथ अन्य पार्सल वैन के माध्यम से कुछ और कच्ची जिंसों की आपूर्ति भी की जा रही है. इन दूरंतो ट्रेनों में अतिरिक्त पार्सल वैन भी लगाए जा रहे हैं. रेलवे अब पूरी तरह व्यावयायिक संस्था के रूप में काम कर रहा है. मांग आने पर देश के दूसरे हिस्से से अन्य जिंसों की आपूर्ति भी चालू की जाएगी. किसान ट्रेनों का प्रयोग बहुत सफल साबित हुआ है, जिसका लगातार विस्तार किया जाएगा. इस ट्रेन के संचालन से रेलवे को भाड़े के रूप में तकरीबन 15 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज