लाइव टीवी

पहली बार रेलवे ने स्टेशन पर लगाई हवा से पानी बनाने की मशीन, 5 रुपये में खरीदें एक लीटर पानी

News18Hindi
Updated: December 16, 2019, 1:21 PM IST
पहली बार रेलवे ने स्टेशन पर लगाई हवा से पानी बनाने की मशीन, 5 रुपये में खरीदें एक लीटर पानी
रेलवे स्टेशन पर हवा से बना पानी बिक रहा

रेलवे ने तेलंगाना राज्य के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर (Secunderabad Railway station) पर हवा से पानी (Water from Air) बनाने की मशीन लगाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2019, 1:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने रेल यात्रियों के लिए एक नई सुविधा शुरू की है. पानी बचाने की मुहिम के तहत एक कदम आगे बढ़ाते हुए रेलवे ने तेलंगाना राज्य के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर (Secunderabad Railway station) पर हवा से पानी (Water from Air) बनाने की मशीन लगाई है. भारतीय रेलवे द्वारा पहली बार रिमिनरलाइजर के साथ मेघदूत ऑटमोसफेरिक वाटर जेनरेटर (Meghdoot Atmospheric Water Generator) लगाया गया है. हवा से पानी निकालने की मेघदूत नाम की तकनीक को मैत्री एक्वाटेक ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत विकसित किया है.

5 रुपये में खरीदें एक लीटर पानी
जल शक्ति मंत्रालय की ओर से इस तकनीक को सेहत के अनुकूल और सुरक्षित घोषित करने के बाद दक्षिण मध्य रेलवे ने सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर कियोस्क लगाया है. मेघदूत वाटर मशीन से यात्री सिर्फ 5 रुपये में एक लीटर पानी रिफिल कर सकते हैं. हालांकि बोतल के साथ पानी की कीमत 8 रुपये है. इसका ऑटोमैटिक वॉटर जनरेटर रोजाना 1000 लीटर पानी बनाता है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली की अवैध कॉलोनियों में रहने वाले 40 लाख परिवारों को तोहफा! जानिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन

हर मौसम में काम करता है सिस्टम
हवा से पानी निकालने की मेघदूत नाम की तकनीक को मैत्री एक्वाटेक (Maithri Aquatech) ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत विकसित किया है. यह मशीन हर मौसम में काम करती है. इससे पानी की बर्बादी भी नहीं होती है.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! आज से 24 घंटे फ्री में NEFT से भेज सकेंगे पैसा, RBI ने लागू किया ये नियम



कैसे बनता है पानी?
सबसे पहले हवा मशीन से गुजरती है. यह उसमें मौजूद डस्ट पार्टिकल प्रदूषक तत्वों को सोख लेती है. फिर मशीन से छनकर निकलने वाली हवा कूलिंग चैंबर में जाती है, जहां इसे ठंडा किया जाता है. यही कंडेस्ड एयर पानी की बूंद में बदलती हैं. फिर बूंद-बूंद जमा होती हैं. जमा हुआ पानी भी फिल्टर होता है. इससे पानी में मौजूद दूसरे प्रदूषक तत्व हट जाते हैं और पानी शुद्ध हो जाता है. इस पानी को भी अल्ट्रा वॉयलेट किरणों वाले सिस्टम से गुजारा जाता है. इसके बाद पानी पीने योग्य बनता है.

ये भी पढ़ें :-

25 लाख में शुरू किया था ये बिजनेस, अब साल भर में कमा रही है ₹100 करोड़ से ज्यादा
घर में आप रख सकते हैं कितना सोना? जान लें नियम होगा बड़ा फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2019, 12:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर