Home /News /business /

यात्रीगण ध्यान दें! कहीं आपका ट्रेन टिकट भी नकली तो नहीं, सफर से पहले कर लें चेक

यात्रीगण ध्यान दें! कहीं आपका ट्रेन टिकट भी नकली तो नहीं, सफर से पहले कर लें चेक

नकली टिकट (Fake Tickets) से रहें सावधान

नकली टिकट (Fake Tickets) से रहें सावधान

आजकल देश में सभी जगह फ्रॉड के मामले बढ़ते जा रहे हैं. रेलवे (Indian Railways) में इन दिनों नकली टिकट (Fake Tickets) के कई मामले सामने आए हैं. Central Railway ने जून से लेकर अबतक फेक टिकट के 428 मामलों का खुलासा किया है, जिसमें 102 एसी क्लास के टिकट थे.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली: आजकल देश में सभी जगह फ्रॉड के मामले बढ़ते जा रहे हैं. रेलवे (Indian Railways) में इन दिनों नकली टिकट (Fake Tickets) के कई मामले सामने आए हैं. Central Railway ने जून से लेकर अबतक फेक टिकट के 428 मामलों का खुलासा किया है, जिसमें 102 एसी क्लास के टिकट थे. Mumbai Mirror में छपी एक खबर के मुताबिक, रेलवे के एक अधिकारी ने जानकारी दी कि दलाल विंडो पर बेचे गए टिकट का सारा डाटा चोरी करके उसकी कॉपी बनाकर बेचते हैं. अगर आप भी कहीं यात्रा करने के लिए टिकट खरीद रहे हैं तो सावधान हो जाएं.

    एकदम असली टिकट की तरह दिखता है फेक टिकट
    आपको बता दें नकली टिकट देखने में एकदम असली की तरह होते हैं. इनमें कोई अंतर नहीं होता है. हाल ही में सामने आए मामलों में रेलवे के नकली टिकट के चलते दो यात्रियों के बीच में झगड़ा तक देखने को मिला है. रेलवे ने बताया कि जब तक सेवाएं पूरी तरह से शुरू नहीं होती तब तक वेटिंग के टिकट जारी नहीं किए जाएंगे.

    यह भी पढ़ें: आज फिर महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, चेक करें अपने शहर में एक लीटर का भाव

    इस तरह से हुआ फेक टिकट का खुलासा
    बता दें दलाल टिकट के बारे में जानकारी को पेपर पर प्रिंट करते हैं, जिसमें PNR, ट्रेन और सीट का नंबर भी एक ही होता है. सिर्फ यात्री का नाम बदल दिया जाता है और ये देखने में बिल्कुल असली टिकट की तरह ही लगता है. इस तरह के मामलों के बारे में तब खुलासा हुआ जब रेलवे स्टेशन पर लगे चार्ट में नकली टिकट वाले यात्री का नाम नहीं होता और उसे ट्रेन में चढ़ने नहीं दिया जाता.

    एक ही सीट के लिए होती है लड़ाई
    Central Railway के अधिकारी के मुताबिक, यात्री को इस तरह की धोखाधड़ी के बारे में कुछ भी पता नहीं चलता है. जब यात्री स्टेशन पर यात्रा के लिए पहुंचता है तो उसे पता चलता है कि उसकी सीट पर तो किसी और का भी टिकट है. फिर बाद में इसके लिए रेलवे को दोषी ठहराया जाता है कि एक सीट दो यात्रियों को कैसे दी जा सकती है.

    इस तरह की स्थिति में टीटी को दोनों यात्रियों के झगड़े को शांत करना होता है और ये भी तय करना होता है कि सीट का असली हकदार कौन है. रेलवे अधिकारी ने बताया कि ऐसे में नकली टिकट वाले यात्री को ट्रेन से उतार दिया जाता है, और उससे पेनल्टी भी वसूली जाती है.

    किस तरह से छपते हैं ये नकली टिकट
    रेलवे की जांच टीम ने जून से लेकर अबतक ऐसे 100 मामलों का खुलासा किया है. बता दें जो भी नकली टिकट बनाए गए वो रंगीन पेपर पर प्रिंट किए गए, जो बिल्कुल असली जैसे दिखते हैं. सिर्फ इसमें नाम और उम्र बदला हुआ होता है. एक जांच अधिकारी ने बताया कि पहले दलाल सीनियर सिटीजन कोटा में टिकट बुक करते हैं, फिर इन टिकटों को स्कैन करके सॉफ्टवेयर की मदद से उम्र और नाम बदल दिए जाते हैं, फिर इनका कलर प्रिंटआउट निकाल लिया जाता है.

    यह भी पढ़ें: 5.43 लाख फर्म्स पर लटकी तलवार! GST रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर सकती है सरकार

    रेलवे अधिकारी ने दी जानकारी
    इंडियन रेलवे ने जानकारी देते हुए बताया कि कोई भी यात्री टिकट के लिए दलाल से संपर्क न करें. कोरोना संकट में कंफर्म टिकट के लिए लोग कई बार दलाल की मदद ले लेते हैं और ज्यादा पैसे खर्च कर देते हैं, लेकिन इसके बाद भी लोगों के पास असली टिकट नहीं होता है. सेंट्रल रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर शिवाजी सुतार कहते हैं कि यात्रियों को वैध टिकट के साथ ही सफर करना चाहिए और टिकट बुकिंग के लिए दलालों के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए.

    Tags: Business news in hindi, Indian Railways

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर