Indian Railways का बड़ा टारगेट! ऑटोमोबाइल ट्रांसपोर्टेशन में हासिल करेगा 30% हिस्‍सेदारी

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि भारतीय रेलवे ने ऑटोमाबाइल परिवहन में 2021-22 तक 20 फीसदी हिस्‍सेदारी हासिल करने का लक्ष्‍य तय किया है.
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि भारतीय रेलवे ने ऑटोमाबाइल परिवहन में 2021-22 तक 20 फीसदी हिस्‍सेदारी हासिल करने का लक्ष्‍य तय किया है.

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने ऑटोमाबाइल परिवहन में 2021-22 तक 20 और 2023-24 तक 30 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करने का लक्ष्य रखा है. उन्‍होंने बताया कि रेलवे के जरिये 2013-14 में कुल ऑटोमोबाइल का परिवहन (Automobile Transportation) 429 रैक था, जो 2019-20 में बढ़कर 1,595 रैक हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2020, 5:24 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे ने अलग कुछ साल में ऑटोमाबाइल ट्रांसपोर्टेशन मेंं 30 फीसदी हिस्‍सेदारी हासिल करने का बड़ा टारगेट तय किया है. केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि रेलवे ने ऑटोमाबाइल ट्रांसपोर्टेशन (Automobile Transportation) में 2021-22 तक 20 फीसदी हिस्‍सेदारी हासिल करने का लक्ष्‍य निर्धारित किया है. यही नहीं, भारतीय रेलवे (Indian Railways) साल 2023-24 तक ऑटोमाबाइल ट्रांसपोर्टेशन में 30 प्रतिशत हिस्सेदारी पर कब्‍जा करने के लिए काम करेगा. पीयूष गोयल ने ऑटो इंडस्‍ट्री (Auto Industry) के दिग्‍गजों के साथ हुई एक बैठक में वाहनों को एक जगह से दूसरे स्‍थान पर पहुंचाने में रेलवे नेटवर्क (Rail Network) का ज्‍यादा से ज्‍यादा इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित किया.

'रेलवे ने कई राज्‍यों तक किया ट्रैक्‍टरों का ट्रांसपोर्टेशन'
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM), टाटा मोटर्स (Tata Motors), हुंडई मोटर्स (Hyundai Motors), फोर्ड मोटर्स (Ford Mortors), महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra), होंडा इंडिया (Honda India) और मारुति सुजुकी लिमिटेड (Maruti Suzuki Ltd.) के साथ ही ऑटोमोबाइल फ्रेट ट्रेन ऑपरेटर्स, ऑटोमोटिव टायर मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में कहा कि रेलवे का लक्ष्य इस क्षेत्र में 2021-22 के अंत तक 20 फीसदी और 2023-24 तक 30 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करना है. इस दौरान उन्‍होंने बताया कि रेलवे ने हरियाणा के फरीदाबाद से उत्तर प्रदेश के चौखंडी और बिहार के दानापुर तक ट्रैक्टरों का परिवहन किया.


ये भी पढ़ें- ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर फिर बदल रहे नियम! केंद्र ने जारी किया ड्राफ्ट नोटिफिकेशन



रेलवे का ऑटोमोबाइल ट्रांसपोर्टेशन बढ़कर हुआ 1,595 रैक
रेलवे के जरिए कुल ऑटोमोबाइल ट्रांसपोर्टेशन 2013-14 में 429 रैक था. ये साल 2019-20 में बढ़कर 1,595 रैक हो गया है. बैठक में लोडिंग को बढ़ावा देने के लिए रेलवे की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में भी उद्यमियों को बताया गया. साथ ही बताया गया कि भारतीय रेलवे की ओर से बांग्लादेश और नेपाल को ऑटोमोबाइल के निर्यात की भी अनुमति दे दी है. पीयूष गोयल ने कहा कि इससे भारतीस रेलवे और ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री दोनों को फायदा होगा. इससे जहां, रेलवे की आमदनी बढ़ेगी, वहीं ऑटो इंडस्‍ट्री को वाहनों के ट्रांसपोर्टेशन पर कम खर्च करना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज