क्‍लोन ट्रेनें चला सकती है भारतीय रेलवे, जानें यात्रियों को कैसे होगा फायदा?

क्‍लोन ट्रेनें चला सकती है भारतीय रेलवे, जानें यात्रियों को कैसे होगा फायदा?
भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने देश के जिन रूट्स पर वेटिंग लिस्‍ट लगातार लंबी होगी, उन पर हर यात्री को कंफर्म टिकट देने के लिए नया प्‍लान बनाया है. इसके तहत व्‍यस्‍त रूट्स (Busy Routs) पर हर पैसेंजर को कंफर्म टिकट मिलना तय है. इसके लिए भारतीय रेलवे क्‍लोन ट्रेनें (Clone Train) चलाने की योजना बना रही है.

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने देश के जिन रूट्स पर वेटिंग लिस्‍ट लगातार लंबी होगी, उन पर हर यात्री को कंफर्म टिकट देने के लिए नया प्‍लान बनाया है. इसके तहत व्‍यस्‍त रूट्स (Busy Routs) पर हर पैसेंजर को कंफर्म टिकट मिलना तय है. इसके लिए भारतीय रेलवे क्‍लोन ट्रेनें (Clone Train) चलाने की योजना बना रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2020, 10:05 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. आप अपना सामान लेकर रेलवे स्‍टेशन पहुंचते हैं, लेकिन आपके पास कंफर्म टिकट (Confirm Ticket) नहीं है. आप ये उम्‍मीद करते हैं कि किसी चमत्‍कार से वेटिंग टिकट (Waiting Ticket) कंफर्म हो जाएगी और आपको बर्थ मिल जाएगी. लेकिन, टिकट कंफर्म नहीं होता है और ट्रेन बिना आपके चली जाती है. कैसा हो अगर उस ट्रेन के जाने के कुछ ही देर बाद दूसरी ट्रेन उसी प्‍लेटफॉर्म पर आए और आपको उसी वेटिंग टिकट पर बर्थ मिल जाए. इसके बाद आप पहले से तय समय से कुछ ही देरी के अंतर से अपनी यात्रा पूरी कर लें. ये सब सपने जैसा लगता है, लेकिन अब ये सच होने वाला है.

भारतीय रेलवे बना रही है व्‍यस्‍त रूट्स पर क्‍लोन ट्रेनें चलाने की योजना
भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने देश के जिन रूट्स पर वेटिंग लिस्‍ट लगातार लंबी होगी, उन पर कंफर्म टिकट देने के लिए नया प्‍लान बनाया है. इस प्‍लान के तहत व्‍यस्‍त रूट्स (Busy Routs) पर हर पैसेंजर को कंफर्म टिकट मिलना तय है. इसके लिए भारतीय रेलवे क्‍लोन ट्रेनें (Clone Train) चलाने की योजना बना रही है. आसान शब्‍दों में समझें तो मुख्‍य ट्रेन के जने के एक घंटे बाद उसी रूट की दूसरी ट्रेन उसी प्‍लेटफॉर्म से जाएगी, जो वेटिंग लिस्‍ट वाले पैसेंजर्स को लेकर जाएगी. इससे वेटिंग टिकट वाले यात्री करीब-करीब उसी समय पर बिना किसी परेशानी के अपने डेस्टिनेशन तक पहुंच जाएंगे.

ये भी पढ़ें- नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो में सफर करने वाले रहें अलर्ट! ऐसा किया तो भरना होगा तगड़ा जुर्माना
सुरेश प्रभु के कार्यकाल में बनाई गई थी क्‍लोन ट्रेनें चलाने की योजना


भारतीय रेलवे ने क्‍लोन ट्रेन की योजना पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु (Suresh Prabhu) के समय बनाई थी, लेकिन कुछ कारणों से इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका. अब भारतीय रेलवे जल्‍द ही इस योजना को हकीकत में तब्‍दील करने जा रही है. भारतीय रेलवे ने कहा है कि वेटिंग लिस्‍ट वाले पैसेंजर्स को कंफर्म बर्थ देने के लिए क्लोन ट्रेन चलाई जाएंगी. ये क्‍लोन ट्रेन किसी रूट पर चलने वाली अतिरिक्‍त ट्रेन होगी. इसे कुछ इस तरह समझ सकते हैं, जैसे दिल्‍ली से मुंबई जाने वाली राजधानी एक्‍सप्रेस में अमूमन काफी भीड़ रहती है. बड़ी संख्‍या में लोगों का टिकट कंफर्म नहीं हो पाता है. ऐसे में वेटिंग लिस्‍ट के यात्रियों को क्‍लोन ट्रेन में कंफर्म बर्थ मिलेगी.

ये भी पढ़ें- 12 सितंबर से रेलवे इन रूट पर चलाएगा 80 स्पेशल ट्रेन, यहां देखें पूरी लिस्ट

कम स्‍टेशनों पर रुकेगी क्‍लोन ट्रेन, इन स्‍टेशनों से हो सकती हैं शुरू
रेलवे के मुताबिक, ये क्‍लोन ट्रेन मुख्‍य ट्रेन के मुकाबले कम स्‍टेशनों पर रुकेगी. भारतीय रेलवे ने बताया है कि अगले कुछ समय तक अधिकारी ऐसी ट्रेनों और व्‍यस्‍त रूट्स पर नजर रखेंगे. शुरुआत में ट्रायल के तहत क्लोन ट्रेनों को चलाया जाएगा. अगर ट्रायल सफल रहा तो भविष्य में इसे नियमित कर दिया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक, वेटिंग लिस्‍ट के यात्रियों को भी क्‍लोन ट्रेन में कंफर्म बर्थ की जानकारी 4 घंटे पहले ही मिल जाएगी. क्‍लोन ट्रेनें हावड़ा, मुंबई सीएसटी, चेन्‍नई, सिंकदराबाद और नई दिल्‍ली से चलाई जा सकती हैं. दरअसल, इन स्‍टेशनों पर बड़ा यार्ड है, जिससे मुख्‍य ट्रेन जाने के तुरंत बाद क्‍लोन ट्रेन चलाना आसान होगा.

ये भी पढ़ें- Indian Railway बदलने जा रहा है अपना टाइम टेबल! बंद हो रही 500 ट्रेनें, यहां जानें पूरी डिटेल्स

इन सभी व्‍यस्‍त रूट्स पर क्‍लोन ट्रेनें चला सकती है भारतीय रेलवे
भारतीय रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, पहले भी ऐसे व्‍यस्‍त रूट्स की पहचान की गई थी, जिनमें दिल्‍ली-मुंबई, दिल्‍ली-भोपाल, चेन्‍नई-तिरुअनंतपुरम, दिल्‍ली-लखनऊ और दिल्‍ली-पटना शामिल थे. ये क्‍लोन ट्रेनें उन सभी रूट्स पर भी चलाई जा सकती हैं, जिन पर राजधानी, शताब्‍दी और दुरंतो ट्रेनें चलती हैं. सूत्रों के मुताबिक, संभव है कि किसी ट्रेन में स्‍लीपर क्‍लास की वेटिंग लिस्‍ट 400, थर्ड एसी या चेयर कार की 300, फर्स्‍ट क्‍लास की 30 और सेकेंड क्‍लास की 100 पार कर जाने पर क्‍लोन ट्रेन चलाई जा सकती है. इससे रेलवे को टिकट कंफर्म नहीं होने पर पैसे वापस नहीं करने होंगे. इससे रेलवे की कमाई में इजाफा होगा.

ये भी पढ़ें- पीएम कन्‍या आयुष योजना के तहत हर बच्‍ची को 2,000 रुपये दे रही केंद्र सरकार! जानें पूरा सच

विकल्‍प सेवा में उसी रूट की दूसरी ट्रेन में मिलती थी कंफर्म बर्थ
पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु के समय इसी तरह की ट्रेन शुरू की गई थीं, जिन्‍हें विकल्‍प सेवा नाम दिया गया था. विकल्‍प सेवा के तहत वेटलिस्‍ट के पैसेंजर्स को उसी रूट की दूसरी ट्रेनों में कंफर्म बर्थ उपलब्‍ध कराई जाती थी. इस सेवा का लाभ लेने के लिए यात्रियों को अकसर 12-12 घंटे तक अगली ट्रेन का इंतजार करना पड़ता था. वहीं, व्‍यस्‍त रूट्स पर टिकटों की बुकिंग की जबरदस्‍त संख्‍या को देखते हुए विकल्‍प सेवा के तहत बर्थ पर्याप्‍त नहीं हो पातीं. ऐसे में अब शुरू होने वाली क्‍लोन ट्रेन कंफर्म टिकट की समस्‍या से यात्रियों को निजात दिला सकेगी और उन्‍हें बहुत इंतजार भी नहीं करनी होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज