भारतीय रेलवे इस ट्रेन में मुसाफिरों को देगा कोरोना किट, सफर से पहले हर पैसेंजर की होगी जांच

Railway यात्रा के दौरान कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए स्‍पेशल ट्रेन में पैसेंजर्स को एक प्रोटेक्‍शन किट देगा.
Railway यात्रा के दौरान कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए स्‍पेशल ट्रेन में पैसेंजर्स को एक प्रोटेक्‍शन किट देगा.

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने कोरोना वायरस से सुरक्षा के मद्देनजर ट्रेनों के संचालन में कई एहतियाती नियम जोड़ दिए हैं. इसी के तहत तेजस एक्‍सप्रेस (Tejas Express) में अतिरिक्‍त सावधानी बरतते हुए यात्रियों को कोरोना किट (Corona Kit) में एक बोतल हैंड सैनिटाइजर, एक मास्क, एक फेस शील्ड और एक जोड़ी ग्लव्स दिए जाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 10:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस की वजह से कामकाज करने और जीवनशैली में बड़ा बदलाव आया है. कोरोना काल मे कई नियम और शर्तों के साथ आर्थिक गतिविधियों को छूट दी गई है. ट्रेनों के संचालन में भी कई एहतियाती नियम भारतीय रेलवे (Indian Railways) की ओर से जोड़े गए हैं. लॉकडाउन के दौरान ट्रेनों का संचालन अस्थायी तौर पर बंद कर दिया गया था. तब से कई नियमित ट्रेनें पटरियों पर नहीं दौड़ रही थीं. इसके बाद 1 मई से स्पेशल ट्रेनें (Special Trains) चलाई जा रही हैं. अब रेल मंत्रालय (MoR) के अधीन पीएसयू आईआरसीटीसी (IRCTC) ने तेजस ट्रेन (Tejas Train) को चलाने का फैसला किया है. बता दें कि तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों को 17 अक्टूबर से चलाया जाएगा.

बोर्डिंग से पहले थर्मल स्‍क्रीनिंग के जरिये होगी जांच
यात्रियों की मांग को देखते हुए लखनऊ-नई दिल्ली और अहमदाबाद-मुंबई के बीच 17 अक्टूबर से तेजस ट्रेन फिर से चलाई जाएगी. इन दोनों कॉरपोरेट ट्रेनों में मुसाफिरों को कोविड-19 सुरक्षा किट दी जाएगी. यह पहली बार होगा, जब ट्रेनों में कोविड-19 सुरक्षा किट मुसाफिरों को दिया जाएगा. कोविड-19 सुरक्षा किट में एक बोतल हैंड सैनिटाइजर, एक मास्क, एक फेस शील्ड और एक जोड़ी ग्लव्स होगा. सफर शुरू करने से पहले हर यात्री की जांच कीजाएगी. इसके लिए यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा ताकि कोई कोरोना पॉजिटिव सफर नहीं कर सके.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच इस सेक्टर में 1 लाख लोगों को मिलेगी नौकरी! देखें क्‍या आप भी हैं एलिजिबल
पैसेंजर्स को इन नियमों का भी करना होगा पालन


आईआरसीटीसी के मुताबिक, सभी यात्रियों को कोविड-19 प्रोटोकॉल से जुड़े स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (SOP) का पालन करना होगा. यात्री अपनी सीट किसी से एक्सचेंज नहीं कर सकेंगे. सभी यात्रियों और स्टाफ के लिए फेस कवर या फेस मास्क पहनाना अनिवार्य होगा. सभी मुसाफिरों को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा. ट्रेन स्टाफ के मांगे जाने पर उन्हें ऐप में अपनी स्थिति दिखानी होगी. इसके लिए सभी जरूरी जानकारी टिकट बुकिंग के दौरान यात्रियों को दी जाएगी.

ये भी पढ़ें- Private Trains: रेलवे को BHEL-L&T समेत 15 कंपनियों की ओर से मिले 120 आवेदन

तेजस ट्रेनों में साफ-सफाई पर रहेगा विशेष जोर
देश की पहली निजी ट्रेन में पैंट्री कार के आसपास और टॉयलेट्स की समय-समय पर सफाई व डिसइंफेक्ट किया जाएगा. यात्रियों के सामान को भी इसके लिए नियुक्त कर्मचारी डिसइंफेक्‍ट करेंगे. उन सभी जगहों को लगातार डिसइंफेक्‍ट किया जाता रहेगा, जहां यात्रियों के छूने की गुंजाइश रहेगी. सर्विस-ट्रे और ट्रॉली को भी डिसइंफेक्‍ट किया जाएगा. कोविड-19 महामारी को देखते हुए आईआरसीटीसी ने तेजस ट्रेनों के कर्मचारियों को विशेष प्रशिक्षण दिया है ताकि बदले हालात में यात्रियों को सुरक्षित और सुविधाजनक यात्रा का अनुभव मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज