भारतीय रुपये में ऐतिहासिक गिरावट जारी: एक डॉलर की कीमत 72 रुपये, जानिए अब कब संभलेगा?

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले लगातार गिरावट की मार झेल रहे रुपये ने अब तक के सबसे निचले स्तर को छू लिया है. गुरुवार को भारतीय रुपया पहली बार 72.10 प्रति डॉलर के स्तर पर आ गया.

News18Hindi
Updated: September 6, 2018, 6:05 PM IST
भारतीय रुपये में ऐतिहासिक गिरावट जारी: एक डॉलर की कीमत 72 रुपये, जानिए अब कब संभलेगा?
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: September 6, 2018, 6:05 PM IST
अमेरिकी डॉलर के मुकाबले लगातार गिरावट की मार झेल रहे रुपये ने अब तक के सबसे निचले स्तर को छू लिया है. गुरुवार को भारतीय रुपया पहली बार 72.10 प्रति डॉलर के स्तर पर आ गया. हालांकि अंत में रुपया 24 पैसे कमजोर होकर 71.99 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. जबकि, कारोबार की शुरुआत में रुपया 13 पैसे की मजबूती के साथ 71.62 के स्तर पर खुला था. वहीं, बुधवार को रुपया 17 पैसे टूटकर 71.75 के स्तर पर बंद हुआ था. इससे आम आदमी और सरकार दोनों की मुश्किलें बढ़ गई हैं, क्योंकि भारत अपनी जरुरत का 80 फीसदी कच्चा तेल ज्यादातर देशों से डॉलर में खरीदता है. ऐसे में ज्यादा रुपये खर्च करने होंगे. लिहाजा देश में पेट्रोल-डीजल समेत कई चीजें महंगी हो जाएंगी. आपको बता दें कि एक्सपर्ट्स का मानना है कि रुपया साल के अंत तक 75 का स्तर छू सकता है. (ये भी पढ़ें-डॉलर के मुकाबले रुपए में आ सकती है और गिरावट: SBI रिपोर्ट

क्यों गिर रहा है भारतीय रुपया-महीने के अंत में डॉलर की खरीदारी से रुपये पर दबाव बढ़ रहा है. साथ ही ग्लोबल चिंताओं से भी रुपये पर दबाव बना है. दक्षिण अफ्रीका और तुर्की की करेंसी भी गिरी हैं. वहीं जुलाई व्यापार घाटा 18 अरब डॉलर होने से स्थिति बिगड़ी है. ट्रेडर्स, हेज फंड्स ने जुलाई तक लॉन्ग पोजीशन बनाई है. (ये भी पढ़ें-डॉलर को रुपये की चिट्ठी: हमारे बीच बढ़ी दूरियां दोस्‍ती को खत्‍म कर रही है

कितना और गिरेगा रुपया? देश के सबसे बड़े बिजनेस न्यूज चैनल सीएनबीसी-आवाज़ ने देश के दिग्गज बैंकर्स, इकोनॉमिस्ट और फॉरेक्स एक्सपर्ट से इसको लेकर सवाल पूछें. उनका पहला सवाल था कि रुपये की गिरावट कब थमेगी?

कब तक संभलेगा- इस पर 54 फीसदी एक्सपर्ट्स का कहना है कि रुपया संभल सकता है जबकि 46 फीसदी के मुताबिक और गिरावट दिख सकती है. 50 फीसदी ने कहा कि डॉलर के मुकाबले रुपया 70 के स्तर तक संभल सकता है. 38 फीसदी के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपया 69 के स्तर तक संभल सकता है. 13 फीसदी का मानना है कि डॉलर के मुकाबले रुपया 68 के स्तर तक संभल सकता है. (ये भी पढ़ें-रुपये में गिरावट पर सरकार ने कहा, ‘चिंता की कोई बात नहीं ’

75 के स्तर को भी छू सकता है रुपया- आगे पूछा गया कि दिसंबर तक रुपया कितना टूटेगा, इसके जवाब में 100 फीसदी लोगों का मानना है कि डॉलर के मुकाबले रुपया 73 तक जा सकता है. वहीं मार्च 2019 तक रुपये का स्तर क्या हो सकता है, इसके जवाब में सबसे ज्यादा 69 फीसदी लोगों ने कहा कि डॉलर के मुकाबले रुपया 70-75 के बीच रह सकता है. 23 फीसदी के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपया 70 के नीचे आ सकता है. 8 फीसदी मानते हैं कि डॉलर के मुकाबले रुपया 75 के ऊपर जा सकता है.

रुपये के गिरावट के बड़े विलन कौन है? जानकारों से पूछा गया कि रुपये पर सबसे ज्यादा किसका असर दिख सकता है, इसके जवाब में 29 फीसदी ने कहा कि ट्रेड वॉर से रुपये में गिरावट बढ़ सकती है. 31 फीसदी ने कहा कि मजबूत डॉलर से रुपये पर और दबाव संभव है. 26 फीसदी ने कहा कि महंगा क्रूड भी रुपये की चाल बिगाड़ सकता है. वहीं 14 फीसदी का मानना है कि भारत में चुनाव से रुपये में गिरावट देखने को मिल सकती है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर