लाइव टीवी

भारतीय जहाजों पर बैन होंगी आलू चिप्स की पैकेट व बोतलें, जानिए क्यों इस दिन से लागू होगा ये नियम

पीटीआई
Updated: November 3, 2019, 2:50 PM IST
भारतीय जहाजों पर बैन होंगी आलू चिप्स की पैकेट व बोतलें, जानिए क्यों इस दिन से लागू होगा ये नियम
भारतीय जहाजों पर 1 जनवरी 2020 से सिंगल यूज प्लास्टिक बैन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) पर बैन लगाने के अह्वाहन पर डायरेक्टर जनरल ऑफ शिपिंग ने भारतीय जहाजों पर आइसक्रीम कंटेनर, हॉट डिश कप, माइक्रोवेव डिशेज और आलू चिप्स के बैग जैसी वस्तुओं पर 1 जनवरी 2020 से बना लगा देगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. नए साल की शरुआत में 1 जनवरी 2020 से भारतीय जहाजों (Indian Ships) पर आइसक्रीम कंटेनर, हॉट डिश कप, माइक्रोवेव डिशेज और आलू चिप्स के बैग के लिए बंद बैन हो जाएंगे. यह बैन देश में सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन (Ban on Single Use Plastic) को ध्यान में रखते हुए लगाया गया है. डायरेक्टर जनरल ऑफ शिपिंग (Director General of Shipping) ने लिया है. केवल भारतीय जहाज ही नहीं बल्कि भारत के भारतीय क्षेत्र के समुद्रों में दूसरे देशों जहाजों पर इस सिंगल यूज प्लास्टिक से बने किसी उत्पाद के ढोने की अनुमति नहीं होगी.

इन वस्तुओं पर लगेगा बैन
इसमें प्लास्टिक बैग्स, ट्रे, कंटेनर्स, खाना पैकजिंग के​ लिए प्लास्टिक फिल्म, दूध की बोतलें, फ्रीजर बैग्स, शैम्पू की बोतलें, आईसक्रीम कंटेनर, पेय पदार्थों की बोतलें आदि उत्पाद शामिल हैं. इसके अलावा डायरेक्टरेट ने कहा सिंगल यूज प्लास्टिक से बने कटलरी, प्लेट्स और कप्स आदि को बैन करने का फैसला लिया है. इसमें 10 लीटर की क्षमता वाले बोतल, गार्बेज बैग, शॉपिंग बैग को भी बैन किया गया है. इसके लिए संबंधि​त विभागों को सर्वे, जांच और ऑडिट करने के लिए का निर्देश दिया गया है.

ये भी पढ़ें: रेल यात्री ध्यान दें! बदल चुका है PNR से जुड़ा ये नियम, अब ट्रेन छूटने पर आसानी से मिलेगा रिफंड


भारतीय क्षेत्र में आने वाले विदेशी जहाजों को निर्देश
इसमें साफ-साफ कहा गया है कि यदि कोई इन निमयों का पालन नहीं करता है और बार-बार पकड़ा जाता है तो जब्ती भी हो सकती है . कहा गया है कि कोई भी विदेशी जहाज भारतीय क्षेत्र के पानी में आना चाहता है तो उसे भी इन नियमों का पालन करना होगा. उन्हें इस बात आश्वासन देना होगा कि वो भारतीय बंदरगाहों पर इन वस्तुओं को डिस्चार्ज नहीं करेंगे.
Loading...



मछलियों से भी अधिक हो सकता है समुद्रों में प्लास्टिक
अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए कहा गया है कि अधिकतर बंदरगाहों पर सिगरेट बड्स, प्लास्टिक बीवरेज बोतल, प्लास्टिक बोतलों की कैप, खान के रैपर्स, प्लास्टिक लिड्स आदि सबसे अधिक मात्रा में पाए जाते हैं. इंटरेनशनल मैरीटाइम संस्था की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगर इसी रफ्तार से समुद्रों में प्लास्टिक डिस्पोज किया जाता रहा तो साल 2050 तक यह म​छलियों की संख्या से भी अधिक हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: केंद्र सरकार की स्कीम्स की मदद से कम लागत में शुरू करें यह बिजनेस, हर साल होगी मोटी कमाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 2:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...