अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस कदम से टूटे दुनियाभर के शेयर बाजार, सेंसेक्स 300 और निफ्टी 100 अंक नीचे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से 'ट्रेड वॉर' को बढ़ा दिया है. ट्रंप ने गुरुवार को चीन से अमेरिका आने वाले सामान पर पर नए टैरिफ लगाने की घोषणा की है.

News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 11:36 AM IST
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस कदम से टूटे दुनियाभर के शेयर बाजार, सेंसेक्स 300 और निफ्टी 100 अंक नीचे
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से ट्रेड वॉर को बढ़ा दिया है. ट्रंप ने गुरुवार को चीन से अमेरिका आने वाले सामान पर पर नए टैरिफ लगाने की घोषणा की है.
News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 11:36 AM IST
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से 'ट्रेड वॉर' को बढ़ा दिया है. ट्रंप ने गुरुवार को चीन से अमेरिका आने वाले सामान पर पर नए टैरिफ लगाने की घोषणा की है. एक्सपर्ट्स इसे ट्रेड वॉर की नए सिरे से शुरुआत माना रहे है. ट्रंप की नए टैरिफ लगाने की घोषणा के बाद भारत समेत दुनियाभर के बाजारों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है. आपको बता दें कि इस साल जुलाई में भारतीय शेयर बाजार का हाल 2002 के बाद सबसे बुरा रहा है. इस दौरान निफ्टी 5.68 फीसदी और सेंसेक्स 4.86 फीसदी गिर चुका है. पिछले 17 साल में किसी एक महीने में होने वाली यह सबसे बड़ी गिरावट है. हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है कि छोटे निवेशकों को फिलहाल शेयर बाजार में नए निवेश से बचना चाहिए.

भारतीय शेयर बाजार में भारी गिरावट-बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स दिन के कारोबार में सुबह 333.32 अंक गिरकर 36,685 अंक पर आ गया. वहीं, 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी निफ्टी 105 लुढ़ककर 10,874.85 अंक पर  आ गया है.

ये भी पढ़ें-सरकार का बड़ा फैसला! पोस्ट ऑफिस से मिलेगा अब आसानी से Loan, जानें इस सर्विस के बारे में

अब क्या करें निवेशक-मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटी के को-फाउंडर रामदेव अग्रवाल ने सीएनबीसी आवाज़ को खास बातचीत में बताया है कि शेयर बाजार में काफी तेजी आ चुकी थी. इसीलिए अब गिरावट देखने को मिल रही है.

>> अगर पिछले 3-4 साल की बात करें तो सेंसेक्स-निफ्टी में छोटी-छोटी गिरावट आई है. लेकिन इस बार बाजार की गिरावट ज्यादा बड़ी है. इसके पीछे लिक्विडिटी और आर्थिक सुस्ती के साथ-साथ बजट में हुए सरचार्ज का फैसला है.

>> रामदेव अग्रवाल ने आगे कहा कि बाजार के हालात सुधरने में अभी समय लगेगा. 2002-2003 में बड़ी मंदी आई थी. 2008-2009 में भी बाजार क्रैश हुआ था. बाजार अभी और गिरता रहेगा. बाजार में गिरावट का दौर लंबा समय तक जारी रह सकता हैं.

>> रामदेव अग्रवाल ने कहा कि खराब बाजार में अच्छे शेयर सस्ते मिलते हैं. खराब बाजार में खरीदने के लिए हिम्मत होना चाहिए. इस समय अच्छे शेयर खरीदने का मौका है. FPIs टैक्स पर अपनी राय देते हुए रामदेव अग्रवाल ने कहा कि वित्त मंत्रालय को स्थिति की जानकारी है. वित मंत्री को जल्द कुछ करना चाहिए.
Loading...

ये भी पढ़ें: अगस्त में कब-कब बंद रहेंगे बैंक, देखें पूरी लिस्ट

जुलाई 2002 में निफ्टी 50 करीब 9.3 फीसदी और सेंसेक्स 8 फीसदी तक गिरा था. सामान्य तौर पर जुलाई में बाजार में तेजी रहती है. लेकिन मॉनसून में देरी, कंपनियों के कमजोर नतीजे, सुस्त इकोनॉमिक ग्रोथ और कई अन्य कारणों से बाजार में कमजोरी है.

ट्रंप का बड़ा फैसला- अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर नए टैरिफ लगाने का फैसला लिया है वो 1 सितंबर से प्रभावी होगा. उन्होंने ट्विट के जरिए बताया है कि हमारे प्रतिनिधि अभी चीन से लौटे हैं जहां उन्होंने एक फ्यूचर के व्यापार सौदे के संबंध में रचनात्मक बातचीत की.

हमने सोचा था कि हमने तीन महीने पहले चीन के साथ एक सौदा कर लिया, लेकिन दुख की बात है कि चीन ने हस्ताक्षर करने से पहले सौदे पर फिर से बातचीत करने का फैसला किया. आगे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कहते हैं कि व्यापार वार्ता जारी है और वार्ता के दौरान अमेरिका 1 सितंबर को बची हुए 300 अरब डॉलर के माल और उत्पादों पर 10 फीसदी का एक छोटा अतिरिक्त शुल्क चीन से आने वाली वस्तुओं पर लगाएगा.

 
First published: August 2, 2019, 11:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...