शेयर बाजार में मचा हाहाकार! सेंसेक्स 770 अंक टूटकर बंद, कुछ ही घंटों में डूबे ₹2.79 लाख करोड़

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 4:10 PM IST
शेयर बाजार में मचा हाहाकार! सेंसेक्स 770 अंक टूटकर बंद, कुछ ही घंटों में डूबे ₹2.79 लाख करोड़
शेयर बाजार में मचा हाहाकार! सेंसेक्स 770 अंक टूटकर बंद, कुछ ही घंटों में डूबे ₹2.79 लाख करोड़

GDP की विकास दर अनुमान से भी कम होने, प्रॉडक्शन 15 महीने के निचले स्तर पर पहुंचने और कोर सेक्टर की धीमी ग्रोथ की वजह से मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) भारी गिरावट के साथ बंद हुए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2019, 4:10 PM IST
  • Share this:
मुंबई: GDP की विकास दर अनुमान से भी कम होने, प्रॉडक्शन 15 महीने के निचले स्तर पर पहुंचने और कोर सेक्टर की धीमी ग्रोथ की वजह से मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) भारी गिरावट के साथ बंद हुए. कारोबार के अंत में  सेंसेक्स (Sensex) 770 अंक की भारी गिरावट के साथ 36,563 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी (Nifty) 225 अंक टूटकर 10,798 के स्तर पर क्लोज हुआ. NSE पर सभी सेक्टोरल इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए. 30 शेयरों वाला सूचकांक सेंसेक्स पर सिर्फ दो शेयर हरे निशान में बंद हुए. बाजार में गिरावट से एक झटके में निवेशकों के 2.79 लाख करोड़ रुपये डूब गए.

निवेशकों के डूबे 2.79 लाख करोड़ रुपये
मंगलवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट से निवेशकों को तगड़ा झटका लगा और एक दिन में उनको 2.79 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ. 30 अगस्त को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,40,98,451.66 करोड़ रुपये था, जो आज 2,79,036.66 करोड़ रुपये घटकर 1,39,68,329.67 करोड़ रुपये हो गया.



PSU बैंकों में बिकवाली
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के शुक्रवार को सरकारी बैंकों के विलय का ऐलान किया था. बैंकों के विलय की खबर का निफ्टी बैंक इंडेक्स पर नकारात्मक असर पड़ा और कारोबार के दौरान निफ्टी बैंक इंडेक्स 1 फीसदी से ज्यादा टूट गया. पीएनबी में 7.40%, ICICI बैंक में 3.28%, एक्सिस बैंक में 2.21%, फेडरल बैंक में 2.11% और इंडसइंड बैंक में 2.06% की गिरावट दर्ज की गई.

ये भी पढ़ें: लंबी कतारों से छुटकारा, अब घर बैठे बदल सकेंगे Aadhaar में घर का पता और फोन नंबर
Loading...

बाजार में गिरावट की वजह-
>GDP की विकास दर अनुमान से भी कम होने, प्रॉडक्शन 15 महीने के निचले स्तर पर पहुंचने और कोर सेक्टर की धीमी ग्रोथ का असर देश के शेयर बाजार पर भी देखने को मिला.
>> अमेरिका और चीन में ट्रेड वार में फिर तेजी आई है और दोनों ने एक दूसरे के प्रोडक्ट पर टैरिफ बढ़ा दिए हैं. इसका असर आज प्रमुख एशियाई बाजारों के अलावा घरेलू बाजारों पर भी दिख रहा है.
>> मैन्युफैक्चरिंग ऐक्टिविटी अगस्त में बिक्री घटने से 15 महीने के निचले स्तर पर पहुंचने से शेयर बाजार में हताश है. मैन्युफैक्चरिंग घटने से पता चलता है कि खपत या निवेश में अभी तक रिकवरी नहीं हुई है. इससे पहले जून तिमाही की ग्रॉस डोमेस्टिक प्रॉडक्ट (GDP) ग्रोथ 6 साल के निचले स्तर पर पहुंच गई थी. IHS मार्किट इंडिया मैन्युफैक्चरिंग PMI अगस्त में गिरकर 51.4 पर आ गया, जो जुलाई में 52.5 पर था. यह मई 2018 के बाद का निचला स्तर है.

अमेरिका और चीन में बढ़ा ट्रेड वार
अमेरिका और चीन दोनों ने एक दूसरे के प्रोडक्ट पर ड्यूटी बढ़ा दी है. अमेरिका ने चीन के 110 अरब डॉलर के प्रोडक्ट पर 15 फीसदी ड्यूटी लगा दी है. अमेरिका 15 दिसंबर से और प्रोडक्ट पर ड्यूटी लगाएगा. उधर चीन ने भी पलटवार करते हुए यूएस क्रूड पर 5 फीसदी ड्यूटी लगाई है. कई और प्रोडक्ट पर चीन 15 दिसंबर से टैरिफ बढ़ाएगा. अमेरिका के खिलाफ चीन ने WTO में टैरिफ को लेकर शिकायत की है. सोमवार को अमेरिकी बाजार बंद थे.

ये भी पढ़ें: पैन कार्ड बनवाने का बदला नियम! Aadhaar है तो खुद-ब-खुद बन जाएगा PAN, नहीं देने होंगे डाक्यूमेंट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 3:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...