आम बजट २०१९: किराए पर रहते हैं तो बजट से आपके लिए आई है ये खुशखबरी...

बजट 2019 से किराए पर रहने वालों के लिए अच्छी खबर

आम बजट २०१९ हिन्दी में (Budget 2019 in Hindi): इस नए कानून में मकान मालिक और किराएदार के वित्तीय रिश्तों और अधिकारों को नए सिरे से परिभाषित किया जाएगा.

  • Share this:
    Indian Union Budget 2019 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किराए पर रहने वाली बड़ी आबादी के लिए एक अच्छी खबर दी है. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने बताया कि जल्द ही मकान मालिक और किराए पर रहने वालों के बीच वित्तीय रिश्तों को नज़र में रखकर एक नया कानून या रेग्युलेशन लाया जा सकता है.

    इस नए कानून में मकान मालिक और किराएदार के वित्तीय रिश्तों और अधिकारों को नए सिरे से परिभाषित किया जाएगा. इससे माकन मालिकों के मनमर्जी से किराया बढ़ाने, रोक-टोक करने और किराएदारों को आने वाली कई अन्य परेशानियों पर रोक लगाई जा सकेगी. इस कानून में मकान मालिक के अधिकारों का भी ख्याल रखा जाएगा.

    नए घर भी बनाएगी सरकार
    निर्मला सीतारमण ने बजट में घोषणा की है कि सरकार आम लोगों के लिए जल्द 1. 94 करोड़ घर बनाएगी और ये सिर्फ 114 दिनों में बनाकर दिए जाएंगे. इससे पहले वित्त मंत्री ने कहा कि युवाओं, महिलाओं सभी ने देश की सरकार के बढ़िया काम पर चुनावी नतीजों के जरिए अपनी मुहर लगाई है. मोदी सरकार ने जीएसटी, वित्तीय घाटे पर लगाम और नीति आयोग के जरिए देश की तरक्की के लिए कई ज़रूरी कदम उठाए हैं.

    निर्मला सीतरामण के भाषण की सभी छोड़ी-बड़ी बातों को जानने के लिए यहां क्लिक करें...

    निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि हमने न्यू इंडिया बनाने की मुहिम शुरू की है और ये आर्थिक सुधार आगे भी जारी रहेंगे. मजबूत देश के लिए मजबूत नागरिक का नारा दिया है. खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं पर पहले के मुकाबले अतिरिक्त ध्यान दिया गया है. हम मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्न्नेंस के अपने मंत्र पर अभी भी कायम हैं. इसी साल 3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएंगे और देश की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भी हैं. बीते पांच साल में 1.85 ट्रिलियन डॉलर से 2.7 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था हुई है.

    यहां बजट अपडेट देखें Live

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.