Home /News /business /

COVID-19: ब्रिटेन में रहने वाले इन लोगों के लिए खुशखबरी, फ्री में बढ़ी Visa अवधि

COVID-19: ब्रिटेन में रहने वाले इन लोगों के लिए खुशखबरी, फ्री में बढ़ी Visa अवधि

 ब्रिटेन में फ्री वीजा पाने वाले लोगों में मिडवाइव्स, रेडियोग्राफर्स, सोशल वर्कर्स और फार्मासिस्ट भी शामिल होंगे.

ब्रिटेन में फ्री वीजा पाने वाले लोगों में मिडवाइव्स, रेडियोग्राफर्स, सोशल वर्कर्स और फार्मासिस्ट भी शामिल होंगे.

ब्रिटेन की गृह सचिव प्रीति पटेल (Priti Patel) ने बुधवार को जानकारी दी कि भारत समेत अन्य देशों से आकर स्थानीय स्तर पर हेल्थ सेवा मुहैया कराने वाले प्रोफेशनल्स की वीजा 1 साल के लिए बढ़ा दी जाएगी. यह एक्सटेंशन बिल्कुल मुफ्त और ऑटोमेटिक होगा.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. यूनाइटे​ड किंग्डम (UK) में वर्क वीजा (Work Visa) पर भारतीय और अन्य विदेशी हेल्थेकेयर वर्कर्स के लिए स्थानीय सरकार ने फ्री वीजा का ऐलान किया है. बुधवार को ब्रिटेन की गृह सचिव प्रीति पटेल (Priti Patel) ने इस बारे में जानकारी दी. ब्रिटेन में फ्री वीजा पाने वाले लोगों में मिडवाइव्स, रेडियोग्राफर्स, सोशल वर्कर्स और फार्मासिस्ट भी शामिल होंगे. ये राहत उन लोगों को दी गई है, जिनकी वीजा 1 अक्टूबर को एक्सपायर होने वाला था. अब इनकी वीजा एक साल के लिए बढ़ा दी जाएगी.

    भारतीय मूल की प्रीति पटेल ने कहा कि वीजा अवधि में एक्सटेंशन का यह लाभ नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) में काम करने वाले लोगों को मिलेगा. साथ ही विदेशों से आए स्वतंत्र डॉक्टर्स और उनके परिवार को भी इसका लाभ मिल सकेगा. उन्होंने कहा, 'विदेशों से आने वाले स्वास्थ्यकर्मी हमें इस अदृश्य शत्रु से लड़ने में मदद कर रहे हैं. इसके लिए हम उनके प्रति शुक्रगुजार हैं.'

    यह भी पढ़ें: ₹10 हजार गारंटीड आमदनी वाली स्कीम को सरकार फिर कर सकती है शुरू!

    ऑटोमेटिक और फ्री होगा एक्सटेंशन
    उन्होंने बताया कि हमने पहले ही NHS डॉक्टर्स, नर्सेज और पैरामेडिक्स को इससे राहत दी थी. अब हम इसका लाभ सैकड़ों फ्रंटलाइन हेल्थ और केयर वर्कर्स को भी देंगे. इसमें नेशनल हेल्थ सर्विस में काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के अलावा स्वतंत्र डॉक्टर्स भी शामिल होंगे. पटेल ने कहा कि यह एक्सटेंशन ऑटोमेटिक और फ्री होगा. इस अवधि के दौरान उन्हे इमिग्रेशन हेल्थ सरचार्ज भी नहीं देना होगा.

    परिवार और डिपेंडेंट को भी मिलेगी ये सुविधा
    उन्होंने बताया कि उन हेल्थकेयर वर्कर्स के पारिवार के सदस्य और डिपेंडेंट को ब्रिटेन में अनिश्चितकाल तक रहने या पर्मानेन्ट रहने की सुविधा दी जाएगी, जिनकी मौत इस कोरोना वायरस की वजह से हुई है. ब्रिटिश सरकार के इस कदम से वहां के ​हेल्थ सेक्टर में काम करने वाले करीब 3,000 विदेशी लोगों को इसका लाभ मिल सकेगा.

    यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के बीच आज भी इतने रुपये सस्ता हुआ सोना, जानिए क्या है 10 ग्राम का भाव

    इन कर्मियों को मिलेगा फायदा
    इसमें डॉक्टर्स, नर्स, मिडवाइव्स, फार्मासिस्ट्स, मेडिकल रेडियोग्राफर्स, पैरामेडिक्स, थेरेपी प्रोफेशनल्स, पोडियाडिट्स, स्पीच एंव लैंग्वेज थेरेपिस्ट्स, साइकोलॉजिस्ट्स, बायोलॉजिकल साइंटिस्ट्स, बायोमेस्ट्रिस, मेडिकल प्रैक्टिशनर्सस, डेंटल प्रैक्टिशनर्स और सोशल वर्कर्स शामिल होंगे.

    हर साल देना होता था करीब 37,275 रुपये का सरचार्ज
    बता दें कि अगर यूनाइटेड किंग्डम में कोई विदेशी व्यक्ति 6 महीने से अधिक समय के लिए काम, पढ़ाई या फैमिली वीजा पर रहता है तो उन्हें सालाना 497 डॉलर (करीब 37,275 रुपये) सरचार्ज के रूप में देना होता है.

    यह भी पढ़ें: सऊदी को हुआ 2.05 लाख करोड़ रुपये का नुकसान, लगा 9 साल का सबसे बड़ा झटका!

    Tags: Britain, Business news in hindi, India britain, Visas

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर