मोदी राज में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा देश का विदेशी मुद्रा भंडार

News18Hindi
Updated: September 16, 2017, 12:53 PM IST
मोदी राज में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा देश का विदेशी मुद्रा भंडार
मोदी राज में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा देश का विदेशी मुद्रा भंडार
News18Hindi
Updated: September 16, 2017, 12:53 PM IST
देश का विदेशी मुद्रा भंडार रेकॉर्ड 400 बिलयन डॉलर (25.66 अरब रुपए) तक पहुंच गया है. उम्मीद की जा रही है कि वैश्विक बाजारों में आने वाले किसी भी तरह के संकट से मुकाबले का सामना करने के लिए पर्याप्त सुरक्षा प्रदान कर सकता है. भारत अब विदेशी मुद्रा भंडार के मामले में 8वें नंबर पर है. इस लिस्ट में चीन (3.09 ट्रिल्यन डॉलर) और जापान (1.2 ट्रिल्यन डॉलर) सबसे आगे हैं.

भारत की अर्थव्यवस्था पर विश्वास बढ़ने का असर
मुद्रा भंडार में वृद्धि सबसे अधिक मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर में पोर्टफोलियो निवेशकों और एफडीआई के जरिए हुई है. यह भारत की मैक्रो इकॉनमी की मजबूती और ग्रोथ में निवेशकों के विश्वास को दिखाता है. सिंगापुर स्थित डीबीएस बैंक के अर्थशास्त्री राधिका राव के मुताबिक विदेश मुद्रा भंडार में रेकॉर्ड बढ़ोतरी की मुख्य वजह अर्थव्यवस्था में निवेशकों का भरोसा जागना है.

आंकड़ों पर एक नजर

शुक्रवार को आरबीआई की ओर से जारी आकंड़ों के मुताबिक देश का विदेशी पूंजी भंडार 15 सितंबर को समाप्त सप्ताह में 260.41 करोड़ डॉलर बढ़कर 400.72 अरब डॉलर हो गया, जो 25,592.8 अरब रुपए के बराबर है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा भंडार आलोच्य सप्ताह में 256.85 करोड़ डॉलर बढ़कर 376.20 अरब डॉलर हो गया. इसमें से 6 फीसदी हिस्सेदारी करंसी मूवमेंट की है, कई करंसी के साथ डॉलर में भी गिरावट देखने को मिल रही है.

मजबूत हो रहा है भारतीय रुपया
मैक्रोइकनॉमिक में सुधार से निवेशकों का भरोसा बढ़ा है. विदेशी पोर्टफोलिया निवेश मजबूत हुआ है और 2017 में 42,659 करोड़ का इक्विटी निवेश हुआ. इससे इस साल रुपए में 6% मजबूत बढ़ी है और बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में इसका प्रदर्शन सबसे अच्छा है. यह नोट करने लायक है कि रिकवरी से पहले नवंबर 2016 में रुपया 68.86 के स्तर तक पहुंच गया था. शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले यह 64.90 के स्तर पर बंद हुआ.

...लेकिन बढ़ा देश का व्यापार घाटा
शुक्रवार को सरकार की ओर से जारी अन्य आकंड़ों में कहा गया कि ग्लोबल डिमांड में रिकवरी से अगस्त में भारत का एक्सपोर्ट अगस्त में तेज हुआ, जोकि जुलाई में मंद था. लेकिन आयात निर्यात से आगे निकल गया है. इसमें 21 फीसदी की तेजी आई है. इससे व्यापार घाटा पिछले साल के 7.7 अरब डॉलर से बढ़कर 11.6 अरब डॉलर तक पहुंच गया.

यह भी पढ़े
जीरो बैलेंस अकाउंट पर भी बैंक वसूलता है आपसे इतने रुपए!
SBI और ICICI बैंक के बाद 'too big to fail' लिस्ट में पहुंचा HDFC बैंक
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर