Home /News /business /

भारत की चौथी तिमाही GDP ग्रोथ 7.7%, नोटबंदी और GST का असर खत्म!

भारत की चौथी तिमाही GDP ग्रोथ 7.7%, नोटबंदी और GST का असर खत्म!

देश की जीडीपी में अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है. वित्त वर्ष 2017-18 की आखिरी तिमाही (जनवरी से मार्च) में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.7 फीसदी रही है, जबकि 7.4 फीसदी का अनुमान लगाया जा रहा था.

    देश की जीडीपी में अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है. वित्त वर्ष 2017-18 की आखिरी तिमाही (जनवरी से मार्च) में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.7 फीसदी रही है, जबकि 7.4 फीसदी का अनुमान लगाया जा रहा था. वहीं,  पिछली तिमाही (अक्टूबर से दिसंबर) में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.2 फीसद रही थी. वहीं, वित्त वर्ष 2017-18 में जीवीए 6.5 फीसदी रहा है. आपको बता दें कि जीडीपी का मतलब होता है ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट. किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का यह पैमाना या जरिया है.गौरतलब है कि यह जीडीपी ग्रोथ रेट का बीती छह तिमाहियों में सबसे उम्दा प्रदर्शन है. आपको बता दें कि चालू वित्त वर्ष (2017-18) की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में जीडीपी 6.3 फीसद और वहीं पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 5.7 फीसदी रही थी.

    नोटबंदी और GST का असर खत्म
    एक्सपर्ट्स कहते हैं कि जीडीपी के ताजा आंकड़ो से साफ है कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था अब नोटबंदी और जीएसटी के झटके से उबर कर मजबूती की राह पर है. रिजर्व बैंक ने भी अप्रैल की मॉनिटरी पॉलिसी स्‍टेटमेट में कहा था कि देश में निवेश की गतिविधियों में तेजी आ रही है जिससे आने वाले समय में अर्थव्‍यवस्‍था में तेजी आएगी.

    फिक्की का अनुमान
    इससे पहले उद्योग मंडल फिक्की ने पूरे देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही (जनवरी- मार्च) के दौरान 7.1 फीसदी रहने का अनुमान दिया था. फिक्की ने वित्त वर्ष 2017-18 में जीडीपी की वृद्धि दर 6.6 फीसदी रहने का अनुमान जताया था. फिक्की के आर्थिक परिदृश्य सर्वे में कहा गया था कि पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में स्थिर मूल्य पर जीडीपी की वृद्धि दर 6.6 फीसदी रहने का अनुमान है.

    मूडीज का अनुमान
    बुधवार को अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विसेज ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर के अपने अनुमान को घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया था. पहले एजेंसी ने 7.5 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया था. मूडीज ने कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था में क्रमिक सुधार हो रहा है लेकिन तेल की बढ़ती कीमतें और मुश्किल वित्तीय हालात भारत की सुधार की रफ्तार को धीमा करेंगी.

    इन आधार पर तय होती है जीडीपी
    भारत में जीडीपी की गणना प्रत्येक तिमाही में होती है. जीडीपी का आंकड़ा अर्थव्यवस्था के प्रमुख उत्पादन क्षेत्रों में उत्पादन की वृद्धि दर पर आधारित होता है. जीडीपी को मापने के लिए कृषि, उद्योग और सर्विस तीन प्रमुख चीजें होती हैं. इसके अलावा इसमें निजी खपत, अर्थव्यवस्था में सकल निवेश, सरकारी निवेश, सरकारी खर्च और नेट फॉरेन ट्रेड (निर्यात और आयात का फर्क) शामिल होता है. इन क्षेत्रों में उत्पादन बढ़ने या घटने के औसत आधार पर जीडीपी दर तय होती है.

    ये भी पढ़ें
    VIDEO: GDP के बारे में क्या आप ये सब बातें जानते है

    Tags: India's GDP

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर