Indigo को भारी नुकसान, लॉकडाउन में कैंसिल हुए टिकटों के रिफंड किए 1030 करोड़ रुपये

इंडिगो इंदौर-पुणे और इंदौर-चंडीगढ़ सीधी फ्लाइट शुरू करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

इंडिगो इंदौर-पुणे और इंदौर-चंडीगढ़ सीधी फ्लाइट शुरू करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अपने आदेश में कंपनी से पिछले साल लगाए गए लॉकडाउन के दौरान बुकिंग के लिए किराए को वापस करने के लिए कहा था.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन इंडिगो (Indigo) ने बुधवार को घोषणा करते हुए कहा कि उसने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के बाद यात्रियों को लगभग 1030 करोड़ रुपये का रिफंड कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट के एक आदेशानुसार, बीते साल कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन (Lockdown) के कारण उड़ान नहीं भर पाने वाले यात्रियों को उनके टिकट का पूरा पैसा लौटाया जाना था.

Lockdown के दौरान कैंसिल फ्लाइट के किराए का हुआ पेमेंट

कंपनी ने एक बयान में कहा, "इंडिगो ने 99.95 फीसदी कस्टम क्रेडिट शेल और रिफंड का वितरण पूरा कर लिया है. पेंडिंग क्रेडिट शेल ज्यादातर नकद लेनदेन होते हैं, जिसमें इंडिगो को ग्राहकों से बैंक ट्रांसफर डिटेल्स का इंतजार है."

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: गोल्‍ड के दाम लुढ़के, फिर सस्‍ते में खरीदने का बना है मौका, देखें 10 ग्राम का क्‍या है भाव
24 मई, 2020 तक यात्रा के लिए बुक किए गए किराए को तुरंत वापस करने का दिया था निर्देश

दरअसल पिछले साल सितंबर में सुप्रीम कोर्ट ने एयरलाइंस को 24 मई, 2020 तक यात्रा के लिए बुक किए गए किराए को तुरंत वापस करने का निर्देश दिया था. साथ ही डीजीसीए (DGCA) ने 16 अप्रैल को अलग से एक नोटिफिकेशन भी जारी किया था, जिसमें एयरलाइंस को 25 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के पहले चरण के दौरान बुक किए गए टिकटों की कीमत वापस करने के लिए आदेश दिया गया था.

ये भी पढ़ें- कर्मचारियों के लिए अच्‍छी खबर! PF में 5 लाख रुपये तक के निवेश से मिले ब्‍याज पर नहीं लगेगा टैक्‍स



कैंसिल फ्लाइट के लिए तुरंत रिफंड करने में असमर्थ थी कंपनी

इंडिगो के सीईओ रोनो दत्ता ने कहा, "Covid-19 की अचानक शुरुआत और परिणामस्वरूप मार्च 2020 में लगाए गए लॉकडाउन के अंत तक हमारे संचालन को पूरी तरह से रोक दिया गया था. टिकट बिक्री के जरिए हमारे आने वाले कैश फ्लो पर असर पड़ा. इसलिए हम कैंसिल फ्लाइट के लिए तुरंत रिफंड करने में असमर्थ थे और हमें रिफंड के लिए क्रेडिट शेल बनाने थे. हालांकि, संचालन की बहाली और हवाई यात्रा की मांग में लगातार बढ़ोतरी के साथ, हमारी प्राथमिकता क्रेडिट शेल अमाउंट को जल्द से जल्द वापस करना है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज