• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • आर्मी वाले बनकर कर रहे काला काम, पुराने वाहन बेचने के नाम पर धोखाधड़ी

आर्मी वाले बनकर कर रहे काला काम, पुराने वाहन बेचने के नाम पर धोखाधड़ी

बाइक और कार बेचने के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है और आर्मी की इमेज को धूमिल किया जा रहा है.

बाइक और कार बेचने के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है और आर्मी की इमेज को धूमिल किया जा रहा है.

एक व्यक्ति ने खुद को आर्मी वाला बताते हुए बाइक बेचने के नाम पर 75 हजार का चूना लगा दिया. इस तरह के फ्रॉड इन दिनों आम हैं. आपको अब और भी ज्यादा सतर्क रहना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. यदि आप या आपका कोई जानकार पुरानी कार या बाइक खरीदने के बारे में सोच रहा है तो ज़रा सावधान रहना. इन दिनों ठगों ने हर तरफ जाल फैलाया हुआ है. उन्हें ऐसे लोग ही चाहिएं जो पुरानी कार, बाइक या ट्रैक्टर इत्यादी खरीदना चाहते हैं. फ्रॉड्स के बारे में जागरुकता अभियान में आज हम आपको इंदौर में हुए वाकये के बारे में बताएंगे. आपके ये इसे जानना इसलिए जरूरी है क्योंकि ऐसी ही कोई घटना आपके साथ या आपके किसी करीबी के साथ कभी भी हो सकती है.

    इस बार इंदौर के तेजाजी नगर चौराहे के पास रहने वाले अभिषेक सिंह ठगों के शिकार बने हैं. उन्हें 75 हजार रुपये की चपत लगी है. हालांकि अभिषेक बाइक खरीदने के बारे में सोच भी नहीं रहे थे, मगर वे ठगी का शिकार हो गए.

    ‘आर्मी वाले’ का फोन आया

    जागरण डॉट कॉम की एक खबर के अनुसार अभिषेक ने पुलिस को दी रिपोर्ट में कहा है कि लगभग दो महीने पहले उसके पास एक फोन आया था. फोन करने वाले ने अपना नाम राजेश बताते हुए खुद को आर्मी का अफसर बताया और कहा कि उसका ट्रांसफर हो गया है. चूंकि उसके पास काफी सामान है तो वह बेचना चाहता है. ज्यादातर सामान बेच दिया है, केवल बाइक बची है. उसने अभिषेक से कहा कि बाइक लगभग नई है और वह जल्द से जल्द उसे बेचना चाहता है.

    ये भी पढ़ें – ‘आप मर चुके हैं’ कहकर लगाई 3 लाख की चपत

    आर्मी अफसर बनकर पिछले कुछ दिनों में ऐसे ही कई फ्रॉड किए गए हैं. उस व्यक्ति ने वाट्सऐप पर बाइक की तस्वीरें डालीं और साथ ही अभिषेक को कोई शक न हो, इसके लिए उसने उसे एक आई-कार्ड भी भेजा. ये आई-कार्ड किसी आर्मी वाले का था. या तो उस आई-कार्ड को कहीं से चुराया गया होगा या फिर नकली बनाया गया होगा.

    पसंद आ ही जाता है सौदा!

    अक्सर ऐसा होता है कि लोगों को स्कूटर, बाइक या कार का सौदा पसंद आ ही जाता है. वजह होती है उसकी कम कीमत और अच्छी कंडीशन. वाहन काफी कम चला हुआ होता है और असली कीमत से आधे से भी कम में उसे बेचा जा रहा होता है. अभिषेक को बाइक की तस्वीरें देखकर भी ऐसा ही लगा और उसने डील को डन कर दिया. जैसे ही डील पक्की होती है, ठग पैसा मांगना शुरू कर देते हैं. वे कहते हैं आर्मी की गाड़ी से वाहन कस्टमर के घर पहुंचा दिया जाएगा. लेकिन आपको आधा पैसा एडवांस में देना होगा और बाकी पैसा वाहन मिलने के बाद.

    ये भी पढ़ें – 11 रुपये वाला ये ‘रिचार्ज’ करने चले थे, लुट गए

    एक बार जब कोई व्यक्ति इन्हें कुछ दे देता है तो वह बुरी तरह फंस जाता है. यदि वह और पैसा न दे तो उसे लगेगा कि शायद उसकी खुद की गलती से नुकसान हो गया. इसलिए वह पैसा देता जाता है. इसे एक उदाहरण से समझिए. यदि आपने एक बाइक की डील 50 हजार रुपये में पक्की की तो पहले आपसे 25 हजार रुपये मांगे जाएंगे. आपने मोल-तोल करके यदि कम एडवांस देने की पेशकश की तो ठीक, नहीं तो आप 25 हजार ही दे देंगे. मान लेते हैं कि आपने 5 हजार रुपये पहले दे दिए और बाकी पैसा गाड़ी मिलने पर देने की बात कही. ठग थोड़ा ना-नुकर करते हुए आपसे सहमत हो ही जाएंगे. वे आपसे 5 हजार रुपये ले लेंगे और फिर तरह-तरह के बातें बनाकर गाड़ी न पहुंचने के बहाने बनाएंगे. फिर वे आपसे कहेंगे कि 5 हजार रुपये और दे दो तो वह किसी व्यक्ति को भेजकर गाड़ी पहुंचा देंगे या वे खुद गाड़ी देने आ जाएंगे. यूं करते-करते वे आपसे काफी पैसा निकलवाने में सफल हो जाएंगे. अभिषेक के साथ भी ऐसा ही हुआ.

    आप यकीन नहीं करेंगे मगर, अभिषेक ने बताया है कि उससे 16 बार पैसे लिए गए. इन 16 बार में उसने 75 हजार रुपये इस उम्मीद में दिए कि शायद उसे बाइक मिल जाएगी, नहीं तो उसका पैसा वापस मिल जाएगा. कुछ समय बाद जिस फोन नंबर से वह ठग अभिषेक के संपर्क में था, वह फोन नंबर ही बंद हो गया. कई दिन इंतज़ार करने के बाद अभिषेक को समझ में आया कि उसे ठगा गया है.

    कैसे बचें ऐसे फ्रॉड्स से

    News18Hindi पर चल रही जागरुकता सीरीज़ को यदि आप फॉलो कर रहे हैं तो आप जानते होंगे कि इस तरह के फ्रॉड्स से कैसे बचा जा सकता है. आप यहां पूरी सीरीज देख सकते हैं कि किस तरह के फ्रॉड होते हैं और उनसे कैसे बचा जाए – फ्रॉड्स और उनसे बचने के तरीके.

    इस तरह के फ्रॉड्स से बचने के लिए आपका जागरुक और समझदार होना जरुरी है. आपको सोचना चाहिए कि डेढ़ लाख की बाइक आपको 30-40 हजार में कैसे मिल सकती है? बिलकुल भी नहीं. दूसरी बात ये कि आप किसी पर ऐसे ही आंख मूंदकर भरोसा न करें और जिसे आपने देखा नहीं, आप कभी मिले नहीं, उसे भला पैसा कैसे ट्रांसफर कर सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज