• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • अमेरिका की वजह से बर्बादी की कगार पर पहुंचा ये मुस्लिम देश!

अमेरिका की वजह से बर्बादी की कगार पर पहुंचा ये मुस्लिम देश!

कच्चा तेल बेचने वाला मुस्लिम देश ईरान के लोगों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की कमर महंगाई तोड़ रही है.

कच्चा तेल बेचने वाला मुस्लिम देश ईरान के लोगों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की कमर महंगाई तोड़ रही है.

कच्चा तेल बेचने वाला मुस्लिम देश ईरान के लोगों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की कमर महंगाई तोड़ रही है.

  • Share this:
    पाकिस्तान के बाद एक और मुस्लिम बर्बादी की कगार पर पहुंचने वाला है. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, कच्चा तेल बेचने वाला मुस्लिम देश ईरान के लोगों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की कमर महंगाई तोड़ रही है. IMF के मुताबिक, लगातार कमजोर हो रही अर्थव्यवस्था के कारण महंगाई दर बढ़कर 50 फीसदी हो सकती है. डॉलर के मुकाबले ईरान की मुद्रा 'रियाल' की वैल्यू लगातार गिर रही है. जिसकी वजह से वहां खाने-पीने की चीजों के दाम आसमान छूने लगे हैं.

    मुश्किलों से जूझ रही ईरान की अर्थव्यवस्था की ग्रोथ लगातार दूसरे साल घटी है. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के एक सीनियर अफसर ने यह अनुमान व्यक्त किया है. दरअसल, अमेरिका ने मई के पहले हफ्ते से ईरान से कच्चे तेल के निर्यात पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है. इसका असर उसकी अर्थव्यवस्था पर पड़ना तय है. (ये भी पढ़ें: रमजान में दुकानों से गायब हुआ मशहूर शरबत रूह अफज़ा, जानिए क्यों!



    इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड के एक अधिकारी ने बताया कि अमेरिकी प्रतिबंध से ईरान की अर्थव्यवस्था संकुचित होती जा रही है. अमेरिका ने पिछले साल नवंबर में ईरान से ऑयल खरीदने पर रोक लगाई ती. तब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि अगर कोई देश ईरान से ऑयल खरीदता है तो अमेरिका उस पर भी प्रतिबंध लगाएगा. अमेरिका ने इस दौरान 6 महीने का विंडो पीरियड दिया था. यह विंडो पीरियड इस साल 3 मई को खत्म हो गया.

    आईएमएफ के मुताबिक, पिछले साल ईरान की अर्थव्यवस्था का आकार 3.9 फीसदी घट गया था. इसके 2019 में 6 फीसदी तक घट जाने का अनुमान है. ईरान पर प्रतिबंध लगने से वहां की सरकार को तेल से मिलने वाली 10 अरब डॉलर से ज्यादा आय बंद हो गई है.

    ये भी पढ़ें: IRCTC के जरिए घर बैठे मोटा पैसा कमाने का मौका

    पिछले साल ईरान की मुद्रा 'रियाल' की वैल्यू 60 फीसदी से ज्यादा गिर गई थी. इसका काफी असर ईरान के विदेश व्यापार पर पड़ा था. फिलहाल, डॉलर के मुकाबले ईरानी रियाल की कीमत 42,105 है.

    ये भी पढ़ें: 2.70 लाख रुपये में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने हो सकती है 25 हजार तक कमाई

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज