Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    नारायण मूर्ति बोले- कोरोना वैक्सीन देशवासियों को फ्री में मिले, दिया यह सुझाव

    इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति
    इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति

    दिग्गज उद्योगपति और इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति (NR Narayana Murthy) ने कहा कि लोगों को कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) फ्री दिया जाना चाहिए.

    • Share this:
    नई दिल्‍ली. कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के इंतजार में इस समय पूरी दुनिया की नींद हराम हो गई है. पूरी दुनिया में लोग बड़ी बेसब्री से इस वैक्सीन का इंतजार कर रहे हैं. मॉडर्ना और फाइजर जैसी बड़ी फार्मास्युटिकल कंपनियों को उम्मीद है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की जिस वैक्सीन पर वह काम कर रहे हैं, उसके नतीजे अच्छे ही आने वाले हैं. लेकिन उसकी कीमत को लेकर आम जनों में चिंता भी देखी जाती है कि ये वैक्सीन आम लोगों को मिल पाएगी या नहीं, इसकी कीमत आम लोगों की पहुंच में रहेगी या नहीं.

    कोरोना वैक्सीन फ्री देने का समर्थन
    इस बीच इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति (NR Narayana Murthy) ने कहा है कि एक बार जब कोरोना वैक्सीन बाजार में उपलब्ध होगी तो देश में हर किसी को वह वैक्सीन मुफ्त लगाई जानी चाहिए, किसी से भी उसके पैसे नहीं लिए जाने चाहिए. उन्होंने कहा कि भले ही कॉर्पोरेट जगत पर टैक्स लगाए जाएं परंतु आम लोगों को ये वैक्सीन मुफ्त में मिलनी चाहिए. कोरोना संकट के दौरान नारायण मूर्ति का ये बयान काफी अहम माना जा रहा है.

    बिहार चुनाव में BJP की घोषणा पत्र में शामिल था फ्री कोरोना वैक्सीन
    बता दें कि हाल ही में संपन्न हुए बिहार चुनाव के दौरान भाजपा ने अपना घोषणा पत्र जारी किया था, जिसके तहत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सभी को कोविड-19 का टीका मुफ्त में उपलब्ध कराने का वादा किया था. उन्होंने ये भी कहा कि जो कंपनियां दवा की लागत का खर्च उठा सकती हैं, उन्हें दवा मुफ्त में बनाकर लोगों को देनी चाहिए और अपनी सामाजिक जिम्मेदारी पूरी करनी चाहिए.



    इसके बाद नारायण मूर्ति का ये बयान उस समय आया है जब मॉडर्ना और फाइजर कंपनियां दो डोज वाली अपनी दवाएं बाजार में पेश करने वाली हैं. आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो देश की पूरी आबादी का टीकाकरण करने के लिए सरकार को करीब 3 अरब डोज की जरूरत पड़ेगी. वहीं मंगलवार को कोरोना के रोजाना के मामले 38000 से ऊपर चले गए जो एक दिन पहले 30 हजार से भी नीचे चले गए थे लेकिन अब कई राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर आने की आशंका में राज्य सरकारों की चिंताएं बढ़ गई हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज