इन्फोसिस के को-फाउंडर शिबुलाल ने कंपनी के 100 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे, जानें वजह

पत्नी की हिस्सेदारी कम कर शिबूलाल अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रहे हैं

पत्नी की हिस्सेदारी कम कर शिबूलाल अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रहे हैं

इस डील के साथ इन्फोसिस (Infosys)में शिबूलाल की हिस्सेदारी बढ़कर 0.07 फीसदी हो गई है

  • Share this:

नई दिल्ली. इन्फोसिस (Infosys) के सह-संस्थापक एसडी शिबुलाल (SD Shibulal) अब कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने लगे हैं. उन्होंने बुधवार को ओपन मार्केट ट्रांजैक्शन के जरिए आईटी कंपनी इन्फोसिस  के 100 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे हैं.

बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर लेटेस्ट ब्लॉक डील डेटा के अनुसार, शिबुलाल ने 1,317.95 रुपए की औसत कीमत पर 7.58 लाख से ज्यादा शेयर खरीदे  हैं. इस लेनदेन की कुल वैल्यू 100 करोड़ रुपए के करीब है. उधर, इन्फोसिस ने एक रेगुलेटर फाइलिंग में कहा कि इस डील के साथ, कंपनी में शिबूलाल की हिस्सेदारी बढ़कर 0.07 प्रतिशत हो गई है. जनवरी- मार्च21 तिमाही के अंत में, शिबूलाल के पास कंपनी में 0.05 प्रतिशत हिस्सेदारी थी.

यह भी पढ़ें : एलटीसी के फाइनल सेटलमेंट के लिए मिली मोहलत, अब इस तारीख तक जमा कर सकते हैं बिल


वजह...शिबूलाल की पत्नी ने 7.58 लाख से ज्यादा शेयर बेचे

बीएसई में एक अलग फाइलिंग के अनुसार, शिबूलाल की पत्नी, कुमारी ने बुधवार को 1,317.95 रुपए की इतनी ही कीमत पर 7.58 लाख से ज्यादा शेयर बेचे थे. इस लेनदेन के बाद, उनकी हिस्सेदारी 0.21 प्रतिशत से घटकर 0.19 प्रतिशत हो गई. इसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि पत्नी की हिस्सेदारी कम कर शिबूलाल अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रहे हैं.

यह भी पढ़ें : FD रेट्स में इस बैंक ने किया बदलाव, आप भी ज्यादा ब्याज दर का उठा सकते हैं फायदा, जानें सबकुछ



शिबूलाल टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स में निवेश करते रहे हैं

इंफोसिस के संस्थापक एसडी शिबूलाल ने कंपनी में स्थापना के समय 1981 से 2014 तक विभिन्न पदों पर सेवा दी है. शिबूलाल 2011 से 2014 तक इंफोसिस के सीईओ और एमडी के पद पर भी रहे थे. इससे पहले 2007 से 2011 तक शिबूलाल कंपनी में सीओओ के पद पर रहे थे. मौजूदा समय में शिबूलाल टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स में निवेश करते हैं. यह निवेश एक्सिलर वेंचर्स के जरिए किया जाता है. इंफोसिस के को-फाउंडर गोपालकृष्णन एक्सिलर वेंचर्स के चेयरमैन हैं. शिबूलाल और उनका परिवार लंबे समय से शिक्षा और सामाजिक कल्याण जैसे कार्यों से जुड़े हैं.

यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज