होम /न्यूज /व्यवसाय /

3,30,000000000 रुपए की नगदी है इनफोसिस में झंझट की जड़

3,30,000000000 रुपए की नगदी है इनफोसिस में झंझट की जड़

इनफोसिस के पास पांच अरब डॉलर की नगदी है. नारायणमूर्ति समेत कंपनी के संस्थापक इसके बेहतर इस्तेमाल के पक्ष में है. ये नगदी विशाल सिक्का और कंपनी संस्थापकों के बीच तकरार की जड़ में है.

इनफोसिस के पास पांच अरब डॉलर की नगदी है. नारायणमूर्ति समेत कंपनी के संस्थापक इसके बेहतर इस्तेमाल के पक्ष में है. ये नगदी विशाल सिक्का और कंपनी संस्थापकों के बीच तकरार की जड़ में है.

इनफोसिस के पास पांच अरब डॉलर की नगदी है. नारायणमूर्ति समेत कंपनी के संस्थापक इसके बेहतर इस्तेमाल के पक्ष में है. ये नगदी विशाल सिक्का और कंपनी संस्थापकों के बीच तकरार की जड़ में है.

    इनफोसिस के संस्थापकों और कंपनी के बोर्ड के बीच चल रही अंदरूनी तकरार के पीछे लगभग पांच अरब डॉलर की नगदी है.

    देश की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्यातक कंपनी इनफोसिस के पास पांच अरब डॉलर कई वर्षों से बिना किसी इस्तेमाल के पड़ा हुआ है. रूपए में आंके तो ये रकम लगभग तीन खरब 30 अरब रुपए के बराबर है.

    एनआर नारायणमूर्ति, मोहनदास पई,  डीएन प्रह्लाद जैसे कंपनी के संस्थापकों ने इनफोसिस बोर्ड से कहा है कि आखिर इस नकदी का इस्तेमाल कंपनी के शेयरधारकों के हित में क्यों नहीं किया जा रहा है.

    मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक संस्थापक चाहते हैं कि इनफोसिस की नगदी का उपयोग सीईओ विशाल सिक्का की सैलरी या कंपनी से अलग होने वाले अधिकारियों को मिलने वाले पैकेज के लिए न किया जाए.

    डीएन प्रह्लाद फिलहाल कंपनी में स्वतंत्र निदेशक हैं लेकिन नारायणमूर्ति के काफी करीब माने जाते हैं.

    ये सभी नगदी के उचित इस्तेमाल न होने से नाराज हैं. हालांकि बोर्ड के दिए पत्र में कॉरपोरेट गवर्नेंस को लेकर भी सवाल उठाए गए थे.

    ये खबर सबसे पहले सीएनबीसी टीवी18 ने ब्रेक की थी. इसके बाद सीईओ विशाल सिक्का ने कंपनी के कर्मचारियों को पत्र लिख कर अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की थी.

    माना जा रहा है कि सिक्का नई पीढ़ी के सीईओ हैं और ज्यादातर कर्मचारी उनके साथ हैं.

    Tags: Infosys, Vishal sikka

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर