लाइव टीवी

Infosys को लगा 6 साल का सबसे बड़ा झटका, एक दिन में निवेशकों के डूबे ₹53,541 करोड़

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 8:01 PM IST
Infosys को लगा 6 साल का सबसे बड़ा झटका, एक दिन में निवेशकों के डूबे ₹53,541 करोड़
इन्फोसिस (Infosys) के मैनेजमेंट पर लगे गंभीर आरोपों के बाद मंगलवार को कंपनी का शेयर 17 फीसदी टूट गया है.

देश की दिग्गज IT कंपनी इन्फोसिस (Infosys) के मैनेजमेंट पर लगे गंभीर आरोपों के बाद मंगलवार को दिनभर के कारोबार के बाद कंपनी के शेयर्स 17 फीसदी लुढ़के.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 8:01 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश की दिग्गज आईटी कंपनी इन्फोसिस (Infosys) के मैनेजमेंट पर लगे गंभीर आरोप के बाद मंगलवार को शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली. दिनभर के कारोबारी सत्र (Trading Session) के बाद कंपनी के शेयर्स 17 फीसदी लुढ़ककर बंद हुए. इसके साथ कंपनी के मार्केट कैप (Market Cap) में 53,541 करोड़ रुपये की गिरावट आ चुकी है. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर कंपनी के शेयर्स 16.21 फीसदी गिरकर 643.30 रुपये प्रति शेयर के भाव पर बंद हुए. अप्रैल 2013 के बाद आज सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली. वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर भी इन्फोसिस के शेयर्स 16.65 फीसदी लुढ़ककर 640 रुपये प्रति शेयर के भाव पर बंद हुए.

मामले पर सरकार की नजर
कंपनी के मार्केट कैप में 53,541 करोड़ रुपये की गिरावट के बाद अब यह 2,76,300.08 करोड़ रुपये रह गया है. आज कारोबारी सत्र में इन्फोसिस बाजार के सबसे अधिग गिरावट वाले शेयरों में से एक रहा. ट्रेड वॉल्युम के मामले में देखें तो आज बीएसई पर इन्फोसिस 117.70 लाख शेयर्स ट्रेड किए गए. जबकि, एनएसई पर यह आंकड़ा 9 करोड़ शेयर्स का रहा. मंगलवार शाम को CNBC-TV18 को कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इन्फोसिस मामले पर केंद्र सरकार की नजर है. हालांकि, अभी इस मामले में सरकार की दखल जल्दबाजी होगी.


Loading...


शुरुआती कारोबार में ही 15 फीसदी लुढ़के थे शेयर्स
सोमवार को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) के मद्देनजर शेयर बाजार बंद था. इसके बाद आज कारोबार के शुरुआत में ही इन्फोसिस के शेयरों में भारी गिरावट देखने को मिली. मंगलवार को सुबह साढ़े 11 बजे तक कंपनी के शेयर 15 फीसदी से ज्यादा टूट चुका था. इससे निवेशकों को कुछ ही मिनटों में 45 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हो गया.

हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है कि निवेशकों को घबराने की जरूरत नहीं है. अगर किसी के पास पहले से खरीदें हुए शेयर (Infosys Stock Price) हैं तो उन्हें होल्ड करना चाहिए. ऐसे में नए निवेश से बचने की सलाह है. आपको बता दें कि एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इन्फोसिस ने अपना मुनाफा और आमदनी बढ़ाने के लिए अनैतिक कदम उठाए हैं. इस पूरे मामले को लेकर एक ग्रुप ने इन्फोसिस के बोर्ड (Infosys Board) को चिट्ठी लिखकर इसकी जानकारी दी है.

जांच के लिए तैयार इन्फोसिस
इस मामले पर इन्फोसिस की ओर से आए बयान में कहा गया है कि सितंबर में व्हिसलब्लोअर से 2 शिकायतें मिली थीं. शार्दुल अमरचंद मंगलदास मामले में व्हिसलब्लोअर (Whistleblower) के आरोपों की स्वतंत्र तौर पर जांच करेंगे.

ये भी पढ़ें-आईटी कंपनी Infosys पर लगे सबसे गंभीर आरोप! रिपोर्ट का दावा- मुनाफा बढ़ाने के लिए उठाए अनैतिक कदम

क्यों आई शेयर में गिरावट
इन्फोसिस को लेकर व्हिसलब्लोअर्स ने 20 सितंबर को कंपनी के बोर्ड को इस मामले से जुड़ी एक चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी में बताया गया कि इन्फोसिस ने अपने मुनाफे और आय को बढ़ाने के लिए अनौतिक कदम उठाए है. कंपनी के मौजूदा सीईओ सलिल पारेख भी इसमें शामिल है. रिपोर्ट का दावा है कि सलिल पारेख बड़ी डील में मार्जिन्स को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने के लिए दबाव बनाते है और आमदनी और मुनाफे का गलत अनुमान बताने को कहते हैं.

अमेरिकी एक्सचेंज पर भी इन्फोसिस के शेयरों में गिरावट
आपको बता दें कि ऐसी ही एक चिट्ठी 27 सितंबर को अमेरिकी शेयर बाजार के रेग्युलेटर यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (US Securities and Exchange Commission) को भी दी गई है. दरअसल इन्फोसिस का एडीआर (अमेरिकी डिपॉजिटरी रिसीप्ट) न्यूयॉर्क एक्चेंज पर लिस्ट है. सोमवार को ADR 12 फीसदी से ज्यादा लुढ़क गया था. इसीलिए मंगलवार को इन्फोसिस का शेयर 17 फीसदी गिर गया.

शेयर में आई 6 साल की सबसे बड़ी गिरावट
इन्फोसिस के शेयर में इंट्राडे (एक दिन में) में आई 6 साल की सबसे बड़ी गिरावट है. इस गिरावट में कंपनी की मार्केट कैप 3.28 लाख करोड़ रुपये से गिरकर 2.83 लाख करोड़ रुपये पर आ गई है.

अब क्या करें निवेशक
एस्कॉर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना है कि इस खबर का असर लंबे समय तक नहीं दिखेगा, क्योंकि कोई फ्रॉड नहीं हुआ है. अगर किसी निवेशक के पास शेयर है तो उसे होल्ड करके रखना चाहिए. नई खरीदारी से अभी दूर रहने की सलाह है.

ये भी पढ़ें-इन 32 कंपनियों के मालिकों के खिलाफ जारी हुआ गैर-जमानती वारंट, जानें यहा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 10:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...