देश का पहला यूनिकॉर्न स्टार्टअप अमेरिकी बाजार में होगा लिस्ट, जानें सबकुछ

इनमोबी की योजना इस साल के अंत तक अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज मे लिस्ट होने की है.

इनमोबी की योजना इस साल के अंत तक अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज मे लिस्ट होने की है.

टार्गेटेड मोबाइल एडवर्टिजमेंट सर्विस प्रोवाइड करने वाली कंपनी InMobi Pte अमेरिका में IPO लॉन्च करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 7:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बेंगलुरु बेस्ड भारत का पहला यूनिकॉर्न स्टार्टअप (Unicorn Startup) इनमोबी (InMobi) अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग (listing in US market) होने की योजना बना रहा है. दुनियाभर में InMobi Pte टार्गेटेड मोबाइल एडवर्टिजमेंट सर्विस प्रोवाइड करती है. यह अमेरिकी बाजार में अपना आईपीओ लाएगी.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, इनमोबी की योजना इस साल के अंत तक अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज मे लिस्ट होने की है. इस मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि यह टेक स्टार्टअप अगले कुछ सप्ताह में IPO लॉन्च करने के लिए आवेदन का प्रक्रिया शुरू करेगी. इसके लिए कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मीटिंग जल्द होने वाली है. गौरतलब है कि यूनिकॉर्न स्टार्टअप उस स्टार्टअप को कहते को कहते हैं जिसका वैल्यूएशन 100 करोड़ डॉलर से अधिक होता है.

यह भी पढें : कपड़े के लिए मोहताज हुए पाकिस्तानी, भारत से इस प्रतिबंध को हटाने की लगाई गुहार

अमेरिका बाजारों में लिस्टिंग करने वाली भारत की पहली प्राइवेट कंपनी
इनमोबी स्टार्टअप्स यदि अमेरिका बाजारों में लिस्ट होने में सफल होता है तो यह उपलब्धि हासिल करने वाली भारत का पहली प्राइवेट कंपनी होगी. सूत्रों ने बताया कि इनमोबी एक अरब डॉलर यानी 7300 करोड़ रुपए के करीब का IPO लॉन्च करने की योजना में है. कंपनी को उम्मीद है कि इससे उसका वैल्यूएशन 1200 करोड़ डॉलर से 1500 करोड़ डॉलर (87,800 करोड़ रुपए से 1.10 लाख करोड़ रुपए) के बीच हो जाएगा.

यह भी पढें : Investment Strategy : नए साल की शुरुआत में निवेश का यह तरीका अपनाएंगे तो होंगे मालामाल, जानें सबकुछ





जेपी मॉर्गन जैसे ग्रुप्स दे रहे हैं सलाह


इनमोबी 3 महीने बाद अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज रेगुलेटर US Securities and Exchange Commission के पास S-1 स्टेटमेंट फाइल करेगा और इसके बाद IPO लॉन्च करेगा. सूत्रों ने बताया कि InMobi इस IPO के लिए जेपी मॉर्गन चेड एंड कंपनी (JPMorgan Chase & Co) के साथ गोल्डमैन सैक्स और सिटी ग्रुप से सलाह ले रहा है. हालांकि, InMobi के प्रवक्ता ने इस पर कोई कमेंट करने से इनकार कर दिया है.

यह भी पढें : एक अप्रैल से आपकी टेक होम सैलरी नहीं होगी कम, नए वेज कोड को लागू करने का फैसला टला



14 साल पहले तिवारी ने शुरू किया था स्टार्टअप


इनमोबी की शुरुआत 2007 में नवीन तिवारीने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर की थी. इस कंपनी में जापान के सॉफ्टबैंक (SoftBank) की 40% से अधिक हिस्सेदारी है. कंपनी का टार्गेटेड मोबाइल एडवर्टिजमेंट का कारोबार भारत सहित चीन, दक्षिण कोरिया, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे कई देशों में फैला है. 2011 में इनमोबी भारत का पहला यूनिकॉर्न स्टार्टअप बना था. डिजिटल एडवर्टिजमेंट में कंपनी की टक्कर फेसबुक और गूगल से है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज