'भारत 2028 तक होगा दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी, जर्मनी-जापान होंगे पीछे'

'भारत 2028 तक होगा दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी, जर्मनी-जापान होंगे पीछे'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2017, 11:18 AM IST
  • Share this:
भारत अगले दस साल में जापान और जर्मनी को पछाड़कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. हालांकि इसके लिए लगातार सुधार और स्‍वास्‍थ्‍य तथा शिक्षा जैसे सामाजिक क्षेत्रों पर ध्यान देने की जरूरत है. ब्रिटेन के बैंक एचएसबीसी ने यह उम्मीद जताई है. हालांकि इसके लिए भारत को कई फ्रंट पर कई तरह के इनोवेशन करने होंगे.

ग्रोथ के लिए सोशल सेक्‍टर पर फोकस जरूरी
एचएसबीसी ने कहा कि भारत में स्वास्थ्य एवं शिक्षा जैसी चीजों पर कम खर्च किया जा रहा है, जबकि ये खर्च न सिर्फ देश हित में हैं, बल्कि आर्थिक वृद्धि और राजनीतिक स्थिरता के लिए भी जरूरी हैं. भारत को कारोबार आसान करने और इससे संबंधित पहलुओं पर भी काफी ध्यान देने की जरूरत है।

आबादी व स्थिरता है सबसे बड़ी ताकत
एचएसबीसी के अर्थशास्त्री ने कहा, ‘‘अगले 10 साल में भारत जर्मनी और जापान को पीछे छोड़कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. खरीद क्षमता के आधार पर यह और पहले हो जाएगा.’’ बैंक ने आबादी और राजनीतिक व सामाजिक स्थिरता को देश की मुख्य ताकत बताया.



7 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी होगा भारत
बैंक के अनुसार, भारत 2028 तक सात हजार अरब यानी 7 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा. जबकि छह हजार अरब डॉलर के साथ जर्मनी चौथे और पांच हजार अरब डॉलर के साथ जापान पांचवें नंबर पर होगा. वित्त वर्ष 2016-17 में भारत 2300 अरब यानी 2.3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था रहा है और विश्व में यह पांचवें स्थान पर काबिज है.

कम रहेगी ग्रोथ रेट इस साल
एचएसबीसी ने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 में आर्थिक वृद्धि दर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण वित्त वर्ष 2016-17 के 7.1 प्रतिशत की तुलना में नीचे रहेगी. इसमें अगले साल से लगातार सुधार होता जाएगा. उसने सुधार की प्रक्रिया बंद होने को भी नुकसानदेह बताया.

टैक्‍स की ऊंची दर के कारण छंटनी संभव
जीएसटी का जिक्र करते हुए बैंक ने कहा कि भारत में असंगठित उद्यम काफी संख्या में रोजगार के अवसर मुहैया कराते हैं. वे कर की ऊंची दर के कारण कारखाने बंद या लोगों की छंटनी कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज