होम /न्यूज /व्यवसाय /

मोटी सैलरी की बजाय, अब वर्क कल्चर और लोकेशन को ज्यादा महत्व दे रहे हैं नौकरी खोजने वाले!

मोटी सैलरी की बजाय, अब वर्क कल्चर और लोकेशन को ज्यादा महत्व दे रहे हैं नौकरी खोजने वाले!

नौकरी चाहने वाले लोगों के लिए अब मोटी सैलरी उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता नहीं है.

नौकरी चाहने वाले लोगों के लिए अब मोटी सैलरी उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता नहीं है.

Naukri.com के चीफ बिजनेस ऑफिसर पवन गोयल ने कहा कि कर्मचारी अब प्रोग्रेसिव फैक्टर्स को ज्यादा महत्व दे रहे हैं, जैसे कि काम की क्वालिटी और प्रभाव, काम में फ्लैक्सिबिलिटी, और वर्क कल्चर. ये चीजें अब उनकी प्राथमिकताएं हैं.

हाइलाइट्स

यह सर्वेक्षण 5,000 से अधिक कार्यरत वर्क प्रोफेशनल्स पर आधारित है.
सर्वेक्षण के अनुसार, 66% लोगों ने कहा कि कार्य का प्रभावी होना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है.
इसके बाद नंबर आता है वर्क कल्चर (64%) और नौकरी की जगह (62%) का.

नई दिल्ली. नौकरी करने वाले लोगों के लिए अब मोटी सैलरी सर्वोच्च प्राथमिकता नहीं है. हाल ही में एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है. ऑनलाइन जॉब पोर्टल Naukri.com के अनुसार, नौकरी चाहने वाले लोग इन दिनों अधिक सैलरी के बजाय वर्क कल्चर और लोकेशन को अधिक इंपोर्टेंस दे रहे हैं. सर्वेक्षण के अनुसार, 66% लोगों ने कहा कि काम का प्रभावी होना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है, इसके बाद वर्क कल्चर (64%) और नौकरी का स्थान (62%) का स्थान है.

हालांकि, जेंडर के अनुसार, उनकी प्राथमिकताएं थोड़ी अलग हैं. उदाहरण के लिए, वर्क लोकेशन (62%) महिलाओं के लिए काम के प्रभाव (66%) के बाद दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कारक है. जबकि दूसरी ओर, पुरुषों ने ओपेन वर्क कल्चर (65%) को नौकरी के स्थान से अधिक महत्वपूर्ण बताया. यह सर्वेक्षण 5,000 से अधिक कार्यरत वर्क प्रोफेशनल पर आधारित है.

इसे भी पढ़ें – सबसे बड़े प्राइवेट बैंक HDFC ने FD पर बढ़ाई ब्याज दरें, जानिए अब कितना होगा लाभ

इसके अलावा, रिपोर्ट से यह भी पता चला कि 28% लोगों के लिए ‘काम पर मान्यता’ यानी काम के लिए उनकी पहचान एक टॉप फैक्टर है, जिसे वे काम के साथ जोड़ कर देखते हैं.

महामारी ने कराया अलग एहसास
रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई कि महामारी ने लोगों को यह एहसास कराया है कि वे अपने ऑफिस और वर्क लाइफ को वर्क लाइफ बैलेंस (64%) और काम पर वेल्यूबल महसूस करने (38%) जैसे फैक्टर को अधिक महत्व देते हुए चीज़ों को अलग तरीके से देख पा रहे हैं.

काम की गुणवत्ता और लचीलेपन को देते हैं महत्व
Naukri.com के चीफ बिजनेस ऑफिसर पवन गोयल ने कहा कि कर्मचारी अब प्रोग्रेसिव फैक्टर्स को ज्यादा महत्व दे रहे हैं, जैसे कि काम की क्वालिटी और प्रभाव, काम में फ्लैक्सिबिलिटी, और वर्क कल्चर. ये चीजें अब उनकी प्राथमिकताएं हैं. पहले हम देखते थे कि लोग ज्यादा पैसा पाने के लिए स्विच करते थे, लेकिन अब उनका यह व्यवहार बदल रहा है. इन फाइंडिंग्स के आधार पर नौकरी खोजने वालों की मदद करने के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं. हम चाहते हैं कि नौकरी खोजने वालों को उनका परफेक्ट मैच मिले.

Tags: Business news, Job and growth, Job Search, Work From Home

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर