होम /न्यूज /व्यवसाय /

Insurance Claim : अपनाएंगे ये तरीके तो कभी रिजेक्ट नहीं होगा इंश्योरेंस क्लेम

Insurance Claim : अपनाएंगे ये तरीके तो कभी रिजेक्ट नहीं होगा इंश्योरेंस क्लेम

जनरल इंश्योरेंस के मामले में पहले की स्वास्थ्य समस्याओं का खुलासा नहीं करने से भी क्लेम रिजेक्ट हो जाता है.

जनरल इंश्योरेंस के मामले में पहले की स्वास्थ्य समस्याओं का खुलासा नहीं करने से भी क्लेम रिजेक्ट हो जाता है.

Insurance Claim : लाइफ इंश्योरेंस क्लेम के रिजेक्ट होने के कई कारण हैं. इसमें पुरानी बीमारियों और मौजूदा पॉलिसियों का खुलासा न करना, कारोबार की गलत जानकारी देना भी शामिल है. जनरल इंश्योरेंस के मामले में पहले की स्वास्थ्य समस्याओं का खुलासा नहीं करने से भी क्लेम रिजेक्ट हो जाता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. लगातार बढ़ रही महंगाई के बीच वित्तीय बोझ से बचने के लिए इंश्योरेंस (Insurance) जीवन का जरूर हिस्सा बन गया है. वह चाहे लाइफ इश्योरेंस हो या हेल्थ इंश्योरेंस या ऑटो इंश्योरेंस, ये सभी आपको वित्तीय सुरक्षा देते हैं. यह सुरक्षा आपके लिए तभी फायदेमंद होगा, जब आपका क्लेम रिजेक्ट नहीं है. इसलिए कोई भी इश्योरेंस खरीदते समय हमें उन जरूरी बातों का ध्यान रखना होगा ताकि इंश्योरेंस क्लेम रिजेक्ट (Insurance Claim Reject) न हो.

दरअसल, इंश्योरेंस कंपनियां जरूरत के समय छोटी-छोटी बातों को लेकर क्लेम रिजेक्ट कर देती हैं. इससे न सिर्फ पॉलिसीधारकों को बड़ा झटका लगता है बल्कि उन पर अनावश्यक वित्तीय बोझ बढ़ जाता है. इससे बचने के लिए आपको थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए. अगर आप इंश्योरेंस खरीदते समय कुछ बातों का ध्यान रखेंगे तो आपका क्लेम कभी रिजक्ट नहीं होगा.

ये भी पढ़ें- IPO में निवेश करने वालों के लिए गुड न्यूज़! UPI से कर सकते हैं 5 लाख तक का भुगतान

रिजेक्ट होने के कई कारण
इंश्योरेंस सलाहकार मनोज जैन का कहना है कि लाइफ इंश्योरेंस क्लेम के रिजेक्ट होने के कई कारण हैं. इसमें पुरानी बीमारियों और मौजूदा पॉलिसियों का खुलासा न करना, कारोबार की गलत जानकारी देना भी शामिल है. जनरल इंश्योरेंस के मामले में पहले की स्वास्थ्य समस्याओं का खुलासा नहीं करने से भी क्लेम रिजेक्ट हो जाता है.

ये भी पढ़ें- CNG Price Hike : दिल्‍ली सहित इन शहरों में 2.50 रुपये फिर बढ़े सीएनजी के दाम, देखें अब कितना पहुंचा एक किलोग्राम का रेट

पॉलिसी खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान
-जरूरत के हिसाब से ही प्रोडक्ट खरीदें.
-पॉलिसी संबंधित ब्रोशर को ध्यान से पढें.
-प्रपोजल फॉर्म भरने के दौरान सभी सवालों के सही जवाब दें.
-हाई रिटर्न, बोनस, लोन, गोल्ड क्वाइन जैसे ऑफर के लालच में न आएं. संदेह होने पर इंश्योरेंस कंपनी की कस्टमर सर्विस को कॉल कर चेक करें.
-किसी भरोसेमंद स्रोत या ऑनलाइन माध्यम से बीमा पॉलिसी खरीदें.
-बीमाकर्ता की ओर से आए वेरिफिकेश कॉल को ध्यान से सुनकर सभी प्रश्नों का सही उत्तर दें.

Tags: Car insurance, Health Insurance, Investment, Life Insurance

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर